Latest News

26 Jul 2019

सरकार की अव्यवस्था के कारण भूतपूर्व सैनिकों को नहीं मिल रहीं दवाइयां : राकेश कुमार सागर

ज्ञान प्रकाश शर्मा,(फर्रूखाबाद)। पूर्व सूबेदार राकेश कुमार सागर पूर्व जिला चेयरमैन गौरवशाली सेनानी विभाग व पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी ने कहा है कि केंद्र सरकार ने भूतपूर्व सैनिकों के साथ भारी धोखेबाजी की है । भूतपूर्व सैनिकों को ईसीएचएस की व्यवस्था के जरिए पहले टूटे फूटे डाक्टरों के हवाले किया गया था। उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश भर में सभी ईसीएचएस को जीवन रक्षक दवाईंयां क्षेत्रीय मिलिट्री अस्पताल की डिमांड के अनुसार संबंधित कमांड अस्पतालों का औषधीय डिपो सप्लाई करता था  लेकिन 17 जुलाई 2017 से उत्तर प्रदेश में कमांड अस्पताल लखनऊ के औषधि डिपो से दवाईंयों की सप्लाई बंद करते हुए फंड की नई व्यवस्था कर दी गई थी ।  इस नई व्यवस्था के तहत 2018-19 के लिए लखनऊ/दिल्ली से ईसीएचएस को उपयुक्त फंड एलाट किया गया था जिसमें से केंन्द्र सरकार ने फरवरी 2019 में एलाटमेंट का लगभग तिहाई फंड वापस ले लिया, इस तरह से देश के समस्त ईसीएचएस से केंद्र  सरकार ने भूतपूर्व सैनिकों की दवाईयों के बजट से 200 करोड़ रुपए से भी ज्यादा वापस लेकर बृद्ध सैनिकों के स्वास्थ्य से भारी खिलवाड़ करने के साथ ही भारी अन्याय किया है ।  अप्रैल 2019 से नई साल का बजट अभी तक नहीं आया है, जिसके चलते ईसीएचएस में जीवन रक्षक दवाओं का भारी अभाव है।  गंभीर बीमारी से ग्रसित भूतपूर्व सैनिकों को पिछले कई महीनों से बेहद जरूरी जीवन रक्षक दवाईंयां नहीं मिल रहीं हैं।
दवाईयों के अभाव की बजह से भूतपूर्व सैनिक काफी परेशान हैं और उनमें बेहद आक्रोश है।  केंद्र सरकार द्वारा निजी अस्पतालों को रिफर करने वाली जो व्यवस्था की गई है, वह भी कारगर नहीं है और लगभग सफेद हाथी की तरह मात्र कागजी और सरकार  के प्रचार का हिस्सा है ।  यह व्यवस्था भी बृद्ध सैनिकों के लिए बिल्कुल ही लाभदायक साबित नहीं हुई है ।  देश के सीनियर सिटीजनस यानि बृद्ध हो चुके भूतपूर्व सैनिकों के साथ पिछले सत्तर सालों में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ ।  देश के वेटरन सैनिकों को जिन्होंने देश पर अपनी जवानी कुर्बान की है, आज तथाकथित राष्ट्भक्त मोदी सरकार उनका इलाज भी नहीं कराना चाहती है, ऐसा सरकार की कार्यपद्धति एवं लापरवाही भरे रवैए से साफ जाहिर हो रहा है। देश के सैनिकों और भूतपूर्व सैनिकों ने मोदी जी और उनकी सरकार पर विश्वास किया था और बढ़ चढ़ कर मोदी जी और भाजपा वोट किया था लेकिन मोदी सरकार ने भूतपूर्व सैनिकों के साथ भारी विश्वासघात किया है। फतेहगढ़ ईसीएचएस में भी दवाओं का की भारी किल्लत के चलते भूतपूर्व सैनिकों को पिछले कई महीनों से पूरी दवाईंयां नहीं मिल रहीं हैं जिससे उनमें भारी आक्रोश है ।

No comments:

Post a Comment