Latest News

26 Jul 2019

शव वाहन नहीं मिला तो कचरा ट्रॉली में ले जाना पड़ा शव

मध्य प्रदेश। मध्य प्रदेश के अशोकनगर में परिजन द्वारा मंगलवार को एक महिला का शव पोस्टमार्टम के लिये नगर पालिका की कचरा गाड़ी में ले जाने की घटना को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मामले में लापरवाही बरतने वाले दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं। इस घटना की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘‘अशोकनगर में एक महिला के शव को शववाहन के स्थान पर कचरा गाड़ी व डंपर में ले जाने की घटना इंसानियत व मानवता को तार-तार कर देने वाली है। ऐसी घटनाएँ व चित्र, दिल को झकझोर देते हैं, बर्दाश्त नहीं किये जा सकते हैं। लापरवाही बरतने वाले दोषियों पर कड़ी कार्यवाही के निर्देश।’’ मृत महिला के पति नरेन्द्र ओझा ने बताया कि 22 वर्षीय पूजा ने सोमवार रात को घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद पूजा के शव को अस्पताल ले जाने के लिये फोन लगाया तो अस्पताल की एम्बुलेंस खराब होने की वजह से नगरपालिका की कचरा भरने की ट्रैक्टर ट्राली पहुंची जिसमें रखकर शव को अस्पताल ले जा रहे थे परंतु ओवरब्रिज पर ट्राली का बेरिंग टूटने से पहिया निकल गया। इसके बाद नगरपालिका का दूसरा वाहन डंपर आया जिसमें शव को रखकर अस्पताल पहुंचाया गया। अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी डॉ अनुज रोहतगी ने कहा कि घटना की जांच कराई जायेगी और जो जिम्मेदार होंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील शिवहरे ने कहा कि महिला द्वारा खुदकुशी करने का मामला पुलिस ने दर्ज किया है।
हालांकि, शिवहरे ने दावा किया कि ट्रैक्टर ट्राली और डंपर शवों को उठाने के लिये ही काम में लिये जा रहे हैं इनमें अब कचरा नहीं उठाया जाता है। उन्होंने कहा कि नगरपालिका कचरा उठाने के लिये मिनी ट्रकों का उपयोग करती है। वहीं, दूसरी ओर जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी :सीएमएचओ: डॉ जे आर त्रिवेदी ने कहा, ‘‘यह पुलिस की जिम्मेदारी है कि वह पोस्टमार्टम के लिये शव को अस्पताल लेकर आये। इसलिये अगर वास्तव में शव को कचरा वाहन में लाया गया है तो वही इसके लिये जिम्मेदार है।’’ उन्होंने कहा कि अस्पताल की एम्बुलेंस खराब है तथा मंगलवार को उसे ठीक कराया जा रहा था इसलिये वह उपलब्ध नहीं हो सकी थी।

No comments:

Post a Comment