Latest News

16 Jul 2019

20 साल पुराने मर्डर केस में सीएम योगी आदित्यनाथ को मिली राहत

प्रयागराज।  इलाहाबाद की एमपी-एमएलए स्पेशल कोर्ट ने 20 वर्ष पुराने मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने गनर के मर्डर मामले में सीजेएम महाराजगंज के पुलिस की फाइनल रिपोर्ट को कायम रखने के आदेश को बरकरार रखा है। इस मामले में योगी आदित्यनाथ भी आरोपी थे। कोर्ट ने सीजेएम के आदेश के खिलाफ दाखिल रिविजन खारिज कर दिया है। कोर्ट ने शुक्रवार को इस मामले की सुनवाई के बाद अपना फैसला रिजर्व कर लिया था। कोर्ट ने इसके साथ ही सीएम से ही जुड़े एक अन्य मामले में भी दाखिल रिविजन खारिज कर दी है, जिसमें सीएम वादी थे।
पहला मामला 10 फरवरी 1999 को योगी आदित्यनाथ ने महाराजगंज के कोतवाली थाने में दर्ज कराया था। जिसमें कहा गया था कि समाजवादी पार्टी (एसपी) के नेताओं ने तमंचा, ईंट, पत्थर और रिवॉल्वर से लैस होकर मारपीट और कातिलाना हमला किया। इस मामले में पुलिस ने फाइनल रिपोर्ट लगा दी थी। इसके बाद परिवाद दाखिल हुआ, जिसे सीजेएम महाराजगंज ने 13 मार्च 2018 को खारिज कर दिया। इस आदेश के खिलाफ पुनरीक्षण याचिका दाखिल की गई थी।
दूसरे मामले में महाराजगंज जिले के कोतवाली थाने में एसपी नेता तलत अजीज ने योगी आदित्यनाथ और अन्य के खिलाफ गनर सत्य प्रकाश की हत्या का मुकदमा 10 फरवरी 1999 को दर्ज कराया था। इस मुकदमे में पुलिस ने फाइनल रिपोर्ट लगा दी, जिसके खिलाफ तलत अजीज ने परिवाद दाखिल किया। सीजेएम महाराजगंज ने इसे भी 13 मार्च 2018 को खारिज कर दिया था। इस आदेश के खिलाफ तलत अजीज ने पुनरीक्षण यचिका दाखिल की।

No comments:

Post a Comment