Latest News

4 Jul 2019

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जीत की बधाई देने साइकिल से 1700 किमी दूर दिल्ली पहुंचे खिमचंद चंद्राणी

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने अभूतपूर्व जीत दर्ज की और 303 सीटें जीती। भाजपा की इस जीत की इबादत लिखने में पीएम मोदी और अमित शाह के अलावा लाखों-हजारों कार्यकर्ताओं की मेहनत भी शामिल है। जिन्होंने रात-दिन एक कर न सिर्फ भाजपा के लिए पसीना बहाया बल्कि पार्टी की बंपर जीत सुनिश्चित भी की। ऐसे ही एक शख्स हैं गुजरात के अमरेली के रहने वाले खिमचंद चंद्रानी। जिनसे खिलखिलाते हुए चेहरे के साथ मुलाकात की तस्वीर प्रधानमंत्री मोदी ने सोशल मीडिया पर साझा की। पीएम मोदी ने ट्विटर पर साइकिल यात्रा और मुलाकात की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि अमरेली के रहने वाले खिमचंदभाई से मुलाकात हुई। खिमचंदभाई ने फैसला किया था कि यदि भाजपा 300 से ज्यादा सीटें जीतेगी तो वह अमरेली से दिल्ली तक साइकिल से आएंगे। उन्होंने अपना वादा निभाया। उनकी साइकिल यात्रा ने बहुत सारे लोगों को प्रेरणा दी है। मैं उनकी विनम्रता और जोश से काफी प्रभावित हूं। लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने लगातार दूसरी बार अपने दम पर बहुमत का आंकड़ा पार किया है।
2014 और फिर 2019 दोनों ही चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में पार्टी ने इस करिश्मे को अंजाम दिया है। जिसके बाद गुजरात के भाजपा कार्यकर्ता खिमचंद चंद्राणी 17 दिन साइकिल चलाकर अमरेली से करीब 1100 किमी दूर दिल्ली पहुंचे। पीएम मोदी से मुलाकात के बाद खिमंचद भाई गृहमंत्री और भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह से मुलाकात करेंगे। फिलहाल गृहमंत्री गुजरात में हैं और एक दिन बाद उनसे भी मुलाकात का कार्यक्रम है।गुजरात के अमरेली निवासी खिमचंद चंद्राणी केदो बेटे हैं और वो खुद बेकरी का काम करते हैं और लंबे समय से जनसंघ से जुड़े हुए हैं। खेमंचद ने 2024 के आगामी चुनाव में भी मोदी के पीएम बनने की भविण्यवाणी भी की। खिमचंद ने कहा कि वो पीएम मोदी से बेहद प्रभावित हैं, क्‍योंकि उनकी सबका साथ, सबका विकास की जो विचारधारा है वह सबको जोड़ती है।
पीएम मोदी के ट्वीट को बताया यादगार पल
पीएम मोदी द्वारा खिमचंद संग मुलाकात की तस्वीर ट्वीट किए जाने को उन्होंने अपने लिए बेहद खास बताया है। उन्‍होंने कहा, 'कभी सोचा भी नहीं था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी फोटो को ट्वीट करेंगे। मेरे लिए यह बेहद यादगार पल है।

No comments:

Post a Comment