Latest News

17 Jun 2019

विश्व हिन्दू परिषद् की महिला युवा इकाई दुर्गावाहनी का सात दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग का हुआ समापन

नई दिल्ली। इन्द्रप्रस्थ विश्व हिन्दू परिषद् की महिला युवा इकाई दुर्गावाहनी का सात दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग का समापन समारोह राधाकृष्ण विद्या निकेतन, पुष्प विहार में सम्पन्न हुआ जिसमे 94 युवतियों ने शारीरिक मानसिक और बौद्धिक का प्रशिक्षण प्राप्त किया। समापन समरोह में दीप प्रज्वलन में श्री मिलिन्द पराण्डे जी अन्तर्राष्ट्रीय महामंत्री विहिप, बहन प्रज्ञा दीदी आखिल भारतीय संयोजिका दुर्गावाहिनी, बहन मालती दीदी क्षेत्रीय संयोजिका मातृशक्ति, श्री बचन सिंह प्रान्त मंत्री विहिप उपस्थित रहे। 
 अपने सम्बोधन में विश्व हिन्दू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय महामंत्री श्री मिलिन्द पराण्डे जी ने कहा यह देश सीता और सावित्री का देश है यह देश उस विरांगना पद्मावती का देश है जो अपनी शील बचाने के लिए 16000 सखियों के साथ जोहर का वरण करती है यह भगवान विष्णु की अर्धांगिनी मां लक्ष्मी का देश है यह भारत वर्ष ऋषि-मुनियों क्रांति वीरांगनाओं का देश है। हमारा देश हमारे लिए देश रेत का मैदान या जमीन का टुकड़ा नहीं अपितु मां है, भारत मां है। इसकी गोद में हम खेले हैं और इसका आंचल हमें छाव देता है यह देश आज फिर मां जीजाबाई जैसी महाशक्ति की तरह दिख रहा है जो शिवा को शिवा जी बनाकर हिंदू राष्ट्र की संकल्पना को पूर्ण कर सके आज देश आतंकियों शत्रुओं से गिरा हुआ है एक तरफ आसुरी शक्ति देश में क्षेत्रवाद और जातिवाद का जहर घोल रही है दूसरी तरफ दुर्गावाहिनी जैसे संगठन है जो राष्ट्र के नागरिकों में सेवा सुरक्षा और संस्कार की भावना पुष्टि करने का अनावरण कार्य कर रही है।
 प्रांत मंत्री श्री बचन सिंह जी वर्गाधिकारी मोनिका जैन जी, दुर्गावाहिनी प्रांत सह संयोजिका श्रीमती किरण चंगोत्रा एवं विभाग संयोजिका सुश्री वंदना चैहान व व्यवस्था में लगे सभी कार्यकर्ताओं का धन्यवाद दिया और कहा कि इन सभी के अथक प्रयास से वर्ग सफल हुआ एवं इनकी भूरि-भूरि प्रशंसा की। प्रांत प्रचार प्रसार प्रमुख श्री महेन्द्र रावत जी के अनुसार वर्ग में 94 शिक्षार्थियों को 15 शिक्षक बहनों ने प्रशिक्षण दिया। जिसमंे नागपुर प्रांत से 6 प्रशिक्षित दुर्गाओं ने आकर सातों दिन शारीरिक, मानसिक, दण्ड युद्ध, नियुद्ध, निशानेबाजी, मल युद्ध, जूडो-कराटे सहित एवं आत्म रक्षा के गुण सहित सभी प्रकार से प्रशिक्षित किया।

No comments:

Post a Comment