Latest News

13 Jul 2019

पुजारी ने सर्टिफिकेट को बताया नकली, कोर्ट मैरेज करेंगे साक्षी-अजितेश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्र की बेटी साक्षी मिश्रा और उनके पति पंजीकृत विवाह का विकल्प चुन सकते हैं। इसके लिए दोनों अदालत का रुख कर सकते हैं। इससे पहले बताया जा रहा था कि दंपती ने कथित तौर पर प्रयागराज के राम-जानकी मंदिर में शादी की है और यहां से उन्हें एक प्रमाणपत्र भी मिला है। शनिवार को मंदिर के पुजारी अपने बयान से पलट गए। उन्होंने कहा कि यहां विवाह नहीं होता और यहां किसी का विवाह नहीं कराया गया है। पुजारी ने विवाह के प्रमाण पत्र को नकली बताया है। उन्होंने कहा, 'हमने कोई प्रमाण पत्र जारी नहीं किया है।' सूत्रों के मुताबिक, दंपती इलाहाबाद हाई कोर्ट में उपस्थित होंगे, जहां उनकी याचिका पर सुनवाई 15 जुलाई को होगी। साथ ही, दोनों कोर्ट से अनुरोध करने के बाद अपनी शादी 16 जुलाई को अदालत में पंजीकृत करवाएंगे। गौरतलब है कि साक्षी और अजितेश का अंतरजातीय विवाह बड़े विवाद का विषय बन गया है। साक्षी एक ब्राह्मण हैं जबकि उनके पति अजितेश कुमार दलित परिवार से आते हैं। दोनों 3 जुलाई से ही साक्षी के घर वालों से छुपकर भाग रहे हैं। दंपती शुक्रवार को एक समाचार चैनल पर आए और बरेली से बीजेपी विधायक और साक्षी के पिता राजेश मिश्र पर आरोप लगाया कि वह जाति कारणों से विवाह के खिलाफ हैं। दंपती और अजितेश के पिता हरीश कुमार ने आरोप लगाया है कि एसएसपी बरेली मुनिराज ने सुरक्षा की मांग को लेकर किए गए उनके कॉल का जवाब नहीं दिया। हालांकि, मामला सुर्खियों में आने के बाद एसएसपी ने अब कहा है कि दंपती को पुलिस सुरक्षा मिलेगी ताकि वे सुरक्षित रूप से अदालत में पेश हो सकें।

No comments:

Post a Comment