Latest News

29 Jun 2019

किशोर को चौकी में बंद कर डेढ़ घंटे तक दी थर्ड डिग्री, जूते से पैरों को कुचला-चीखने पर मारे डंडे

लखनऊ। महज चोरी के शक में तीन पुलिसकर्मी एक किशोर को घर से उठा लाते हैं, फिर पुलिस चौकी में बंदकर जुर्म कुबूलने के नाम पर डेढ़ घंटे तक थर्ड डिग्री का इस्तेमाल करते हैं। पुलिसकर्मियों ने उसके पैरों को जूते से कुचला और डंडे भी बरसाए। जुल्म के निशान मासूम के शरीर पर साफ देखे जा सकते हैं। शरीर के जख्म तो समय के साथ भर जाएंगे, लेकिन किशोर के मन से खाकी का खौफ शायद ही निकल पाए। पुलिस का यह बर्बर चेहरा पीजीआइ थाना की तेलीबाग चौकी में सामने आया। वृंदावन कॉलोनी निवासी एक मजदूरी की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के चलते उनका नाबालिग बेटा भी किराए पर ई-रिक्शा चलाता था। किशोर ने बताया कि 24 जून को लौंगा खेड़ा के पास दो लड़कों ने उसका ई-रिक्शा बुक किया। इसके बाद एक लड़का स्कूटी और दूसरा उसके रिक्शे पर सैनिक नगर तक आया। उन्होंने किशोर को पानी की बोतल लाने के लिए भेज दिया। वापस आने पर लड़के और रिक्शा दोनों गायब थे। इस पर किशोर ने ई-रिक्शा मालिक को सूचना दी। 27 जून को छह बजे किशोर के घर पर तेलीबाग चौकी से तीन पुलिसवाले आए। मां के मुताबिक, पुलिसवाले किशोर को चौकी लेकर चले गए। साढ़े सात बजे चौकी पर परिवार और क्षेत्र के अन्य लोग पहुंचे तो पुलिसकर्मी लडख़ड़ाते किशोर को टैंपो में कहीं ले जा रहे थे, लेकिन लोगों को देखकर छोड़ दिया।
किशोर का आरोप है कि चौकी इंचार्ज के सामने कई पुलिस वाले उस पर चोरों के साथ मिले होने और चोरी का पैसा मिलने की बात कुबूलने का दबाव बना रहे थे। एक सिपाही उसके पैरों को जूतों से रौंद रहा था। दूसरा डंडे बरसाते हुए वारदात कुबूलने का कह रहे थे। इंस्पेक्टर पीजीआइ ने खुद इस बात को माना कि इस मामले में कोई मुकदमा दर्ज नहीं था। चौकी में मौखिक शिकायत हुई थी। चौकी प्रभारी रजनीश वर्मा ने उन्हें भी सूचना नहीं दी। वहीं, सीओ कैंट तनु उपाध्याय ने बताया कि मुकदमा दर्ज किए बिना इस तरह की कार्रवाई के विषय में जांच शुरू कर दी गई है। दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि दस दिन पहले पीजीआइ थाना क्षेत्र में ही एक चोर को लोगों ने पकड़ा था, जिसे पुलिस ले गई, बाद में उसकी मौत हो गई। इस मामले में पुलिस ने चोर पकडऩे वाले परिवार पर ही मुकदमा दर्ज कर दिया था। किशोर और उसके माता-पिता इस वारदात से दहशत में है। गुरुवार शाम छोडऩे के बाद पुलिसकर्मियों ने शुक्रवार सुबह फिर चौकी बुलाया था। इससे डरकर वह पहले सीओ कैंट और फिर एसएसपी ऑफिस पहुंचे। यहां से एएसपी नॉर्थ और सीओ कैंट बच्चों को लेकर मेडिकल के लिए सिविल अस्पताल पहुंचे।
तहखाने में किशोर की दी यातनाएं
आरोप है कि चौकी के अंदर बेस्मेंट में एक तहखाना बना हुआ है। इसमें किशोर को पुलिसकर्मियों ने रखकर मारा और आरोप कुबूलने का दबाव बनाया।उधर,  इतने संगीन मामले में एसएसपी कलानिधि नैथानी से कई बार संपर्क किया गया, लेकिन उन्होंने कॉल और मैसेज का जवाब नहीं दिया। इसी बीच मां ने पूरे प्रकरण की लिखित तहरीर दी है। आईजी रेंज लखनऊ एसके भगत का कहना है कि प्रकरण की रिपोर्ट लखनऊ पुलिस के उच्च अधिकारियों से मांगी गई है। साथ ही जांच के आदेश भी दिए गए हैं। जल्द ही दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

 

No comments:

Post a Comment