Latest News

6 Jun 2019

जर्जर भवन में होमगार्ड कर्मियों की जान जोखिम में

फर्रुखाबाद। होमगा‌र्ड्स कार्यालय विगत चार दशक से जिस भवन में संचालित है उसे शासन की ओर से तीन वर्ष पूर्व निष्प्रयोज्य घोषित किया जा चुका है। विगत वर्ष बरसात में छत का प्लास्टर टूटकर गिरने से दो कर्मचारी घायल भी हो चुके हैं। दूसरी ओर जिला मुख्यालय पर तिर्वा कॉलोनी के निकट होमगा‌र्ड्स कार्यालय का नया भवन बनकर तैयार खड़ा है। साइकिल स्टैंड और गैराज की छत पूर्ण नहीं होने के चलते भवन अभी तक हस्तांतरित नहीं हो पा रहा है। हादसे की आशंका में इस बार बारिश से पूर्व ही कर्मचारियों की धड़कनें बढ़ी हुई हैं।
वर्तमान होमगा‌र्ड्स कार्यालय फतेहगढ़ में रोडवेज वर्कशॉप के सामने किराए के जिस भवन में विगत लगभग चार दशक से संचालित है, वह काफी जर्जर अवस्था में है। बरसात में छतें बुरी तरह टपकती है। विगत वर्ष छत के प्लास्टर का एक बड़ा हिस्सा अचानक गिरने से दो कर्मचारी घायल भी हो चुके हैं। तीन वर्ष पूर्व भवन को निष्प्रयोज्य घोषित किए जाने के बाद शासन ने नवीन भवन निर्माण के लिए दिसंबर 2016 में 1.12 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत किया था। दो किस्तों में मिले बजट से यूपीपीसीएल ने भवन निर्माण पूर्ण कर दिया। 
विगत वर्ष 24 दिसंबर को डिवीजनल कमांडेंट सुरेंद्र सिंह की अध्यक्षता में गठित सत्यापन समिति ने भवन का निरीक्षण कर रिपोर्ट दी। इसमें साइकिल स्टैंड, गैराज पर एस्बेस्टॉस के स्थान पर लेंटर्ड छत और खाली पड़े परेड ग्राउंड पर मिट्टी के भराव की बात लिखी गई। इसके सापेक्ष कार्यदायी संस्था ने लगभग 40 लाख रुपये के अतिरिक्त बजट की मांग कर दी। लगभग छह बाद भी न तो अभी तक अतिरिक्त बजट ही मंजूर हुआ और न ही नवीन भवन के आंशिक हस्तांतरण की अनुमति मिली। हालत यह है कि नवीन भवन में झाड़ियां उग आई हैं। रात को अराजक तत्व भी चहारदीवारी कूद कर अंदर पहुंच जाते हैं। जबकि इस बार बरसात से पूर्व ही होमगार्ड कर्मचारी दुर्घटना की आशंका से भयभीत हैं। जिला कमांडेंट शैलेंद्र प्रताप सिंह बताते हैं कि मामले में कई बार स्टेट मुख्यालय से पत्राचार किया जा चुका है। विगत 11 फरवरी को जिलाधिकारी के स्तर से भी भिजवाई जा चुकी है। शीघ्र ही मामले में अनुस्मारक भिजवाया जाएगा।

No comments:

Post a Comment