Latest News

13 Jun 2019

मुख्यमंत्री के रूट पर प्रतिबंधित रहेगा ड्रोन कैमरा

ग्रेटर नोएडा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की शुक्रवार को होने वाली समीक्षा बैठक की तैयारियों को लेकर पुलिस, जिला प्रशासन व प्राधिकरण के अधिकारियों ने कमर कस ली है। जिस-जिस रूट से मुख्यमंत्री का काफिला गुजरेगा वहां चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रहेगी। उस मार्ग के साथ ही आस-पास भी किसी को ड्रोन कैमरा चलाने की इजाजत नहीं होगी। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में पूर्व में हुई अव्यवस्था से सबक लेते हुए अधिकारी फूंक-फूंक कर कदम उठा रहे हैं। नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण की समीक्षा बैठक करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को शहर में आ रहे हैं। पुलिस, प्रशासन व प्राधिकरण के अधिकारी बृहस्पतिवार को तैयारियों में मुस्तैद रहे। शुक्रवार को मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर एक्सपो मार्ट में उतरेगा। यहां से वह सड़क मार्ग से सीधे ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण कार्यालय जाएंगे। बैठक के बाद रात में लगभग सात बजे मुख्यमंत्री दिल्ली में यूपी भवन के लिए रवाना हो जाएंगे। कार्यक्रम की तैयारियों के लिए वाहनों के काफिले के साथ अधिकारी बृहस्पतिवार को एक्सपो मार्ट पहुंचे। मुख्यमंत्री के विभिन्न कार्यक्रमों के लिए अधिकारियों की ड्यूटी निर्धारित की गई। मुख्यमंत्री के आने, एक्सपो मार्ट में ही पार्टी के कुछ नेताओं द्वारा स्वागत करने, यहां से वाहनों का काफिला रवाना होने, काफिले का रूट सहित अन्य चीजों पर विस्तार से चर्चा की गई। अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए गए कि कार्यक्रम के दौरान किसी भी प्रकार की अव्यवस्था न होने पाए।
अधिकारियों को जो निर्देश दिए गए हैं उस पर पूरी तरह से अमल हो। यह भी निर्देश दिया गया कि कार्यक्रम में जिन-जिन अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है वह निर्धारित समय से दो घंटा पूर्व पहुंचे। किसी भी प्रकार की आशंका को देखते हुए यह सख्त निर्देश जारी किया गया है कि जिस मार्ग पर मुख्यमंत्री का काफिला गुजरेगा वहां व आस-पास आयोजित किसी भी प्रकार के कार्यक्रम में ड्रोन कैमरे का उपयोग नहीं होगा। इस संबंध में पुलिस अधिकारियों को व्यवस्था देखनी है।  समीक्षा बैठक के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उद्यमियों, निवेशकों व बिल्डरों से वार्ता करेंगे। फैडरेशन आफ आरडब्ल्यूए, कासना उद्योग व्यापार मंडल, बाइक बोट कंपनी में निवेश करने वाले निवेशक, विभिन्न किसान संगठन सहित अन्य लोग मुख्यमंत्री से मिलना चाह रहे हैं। इन लोगों को मुख्यमंत्री से मिलवाने पर अभी अंतिम निर्णय नहीं हो सका है। इसी वर्ष जनवरी में शहर के लोगों को मुख्यमंत्री ने मेट्रो की सौगात दी थी। मेट्रो का उदघाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया था। उदघाटन कार्यक्रम के दौरान अव्यवस्था हुई थी। भीड़ मुख्यमंत्री के पास तक पहुंच गई थी। मामले में मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताई थी। उस अव्यवस्था से सबक लेते हुए प्रशासन एक-एक चीज की रूपरेखा तैयार करने में गंभीरता से काम कर रहा है।

No comments:

Post a Comment