Latest News

11 Jun 2019

मंडोली जेल में कैदी कर रहे थे फोन पर बात, जेलर ने पकड़ा रंगेहाथ

पूर्वी दिल्ली। मंडोली जेल के एक जेलर की समझदारी ने ना केवल जेल में इस्तेमाल किए जा रहे दो मोबाइल फोन जब्त कराए बल्कि उन दो कैदियों को भी पकड़ लिया गया जो इन दोनों फोन का इस्तेमाल कर रहे थे। जेल में इस तरह से गैरकानूनी रूप से मोबाइल फोन इस्तेमाल करने पर इन दोनों को वॉर्ड से निकालकर ऐसे सेल में डाल दिया जहां उनका किसी दूसरे कैदी से किसी तरह का संपर्क नहीं होगा, वे बिल्कुल अकेले रहेंगे। तिहाड़ जेल के सूत्रों ने बताया कि यह मामला है यमुनापार की मंडोली जेल का। यहां जेल सुपरिटेंडेंट को एक कैदी पर शक था कि वह मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहा है। जेलर ने उस कैदी पर निगरानी रखनी शुरू कर दी। एक दिन उस कैदी को रात के वक्त मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हुए पकड़ लिया गया। जेलर उस कैदी से जब्त मोबाइल फोन को अपने ऑफिस में ले आए। अभी वह फोन उनकी टेबल पर रखा हुआ ही था कि उसमें घंटी बजनी शुरू हुई। उन्होंने कॉल पिक नहीं की, लेकिन उसी नंबर से फिर से कॉल आनी शुरू हुई। जेलर ने यह सोचकर फोन उठा लिया कि क्या पता इससे कुछ और खुलासा हो।
फोन पिक करते ही दूसरी ओर से 'कैसे हो भाईजान' की आवाज आई। उन्होंने भी आवाज बदलने वाले सुर मिलाते हुए बोल दिया ठीक हूं। दूसरी ओर से कॉल करने वाले ने जैसे ही यह कहा कि भाईजान उसकी बैरक में तो बहुत गर्मी है। लेटने पर फर्श ऐसा लग रहा है, मानो आग का गोला हो। जेलर तुरंत समझ गया कि यह किसी और कैदी का फोन है। अपनी पहचान बताए बिना जेलर ने उस कैदी से बातों ही बातों में उसका वॉर्ड और बैरक नंबर पूछ लिया। फिर बिना कॉल काटे फोन पर बातें करते हुए वह उस कैदी के सामने जा पहुंचा जो उससे बात कर रहा था। जेलर को अपने सामने खड़ा देख कैदी डर गया। वह अभी फोन काटने वाला ही था कि जेलर ने कहा कि फोन मत काट, लाइन पर मैं ही हूं। इस तरह से जेलर की समझदारी ने दो कैदियों को मोबाइल फोन पर बात करते हुए रंगे हाथों पकड़वा दिया।

No comments:

Post a Comment