Latest News

11 Jun 2019

ट्रेन आरक्षण के लिए रेल राज्यमंत्री के फर्जी लेटरहेड के प्रयोग में दो लोग गिरफ्तार

नई दिल्ली। रेलवे ने रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगाड़ी के फर्जी लेटरहेड के जरिए इमरजेंसी कोटा जारी कराने की कोशिश करने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया है। मध्य रेलवे में आरपीएफ ने ट्रेनों में इमरजेंसी कोटे के तहत आरक्षण दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इन पर रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगाड़ी के फर्जी लेटरहेड के जरिए मध्य रेलवे के कमर्शियल विभाग के अधिकारियों को आरक्षण का अनुरोध भेजने का आरोप है। इन दोनो ने विभिन्न ट्रेनों के छह पीएनआर के तहत कोटा प्रदान करने का अनुरोध भेजा था। लेटरहेड पर अधिकारियों को शक हुआ तो उन्होंने रेल राज्यमंत्री के दफ्तर को सूचित किया जिस पर मंत्री की ओर से जांच के आदेश दिए गए। सभी टिकट ऑनलाइन बुक कराए गए थे और इनके लिए विभिन्न ईमेल एड्रेस एवं फोन नंबरों के साथ दो यूजर आइडी का इस्तेमाल किया गया था।
आइआरसीटीसी की ओर से जब उक्त फोन नंबरों, ईमेल एड्रेस और आइपी एड्रेस का मिलान कर इन नंबरों पर रजिस्टर्ड सोशल मीडिया एकाउंट की जांच की गई तो पता चला कि उक्त टिकट एमएम खान नामक व्यक्ति की ओर से बुक कराए गए थे। और जांच के बाद घपले में अफजल अहमद नामक व्यक्ति के भी शामिल होने का पता चला। बाद में एमएम खान को गिरफ्तार करके उसके परिसरों की जांच करने पर उसके पास से दो काउंटर टिकट के अलावा ई-टिकट बरामद किए गए। उसने अफजल अहमद के साथ मिलकर विभिन्न तरीकों से आरक्षण कोटे के लिए धोखाधड़ी करने का अपराध स्वीकार किया है। कोर्ट में पेशी के बाद खान को एक दिन की हिरासत में रखकर और पूछताछ की जाएगी। जबकि कोर्ट की अनुमति से अफजल अहमद को भी गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं।गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनो से रेल मंत्रालय को आरक्षण कोटे में धांधली की शिकायतें मिल रही थीं। वास्तविक हकदारों के टिकट कंफर्म नहीं हो रहे थे। दरअसल, नई सरकार बनने के साथ रेलवे में इमरजेंसी कोटा जारी करने वाले पुराना तंत्र का खात्मा हो गया है। जबकि नए मंत्रियों के स्टाफ ने अभी पूरी तरह अपना दायित्व नहीं संभाला है। इसी का फायदा उठाकर दलालों ने पूरे तंत्र पर कब्जा कर लिया है। इसमें रेलवे के कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत की शिकायतें भी मिली हैं।

No comments:

Post a Comment