Latest News

20 Jun 2019

मेयर का नया फरमान, नगर निगम में बिना एंट्री दर्ज किए प्रवेश वर्जित

गाजियाबाद। नगर निगम में अब प्रवेश के लिए आम लोगों को एंट्री दर्ज करनी होगी। एंट्री दर्ज के बाद ही उन्हें संबंधित विभाग या अधिकारियों से मिलने की इजाजत होगी। मेयर आशा शर्मा ने नया आदेश जारी किया है। उनका कहना है कि अगर जीडीए में ऐसी व्यवस्था है तो नगर निगम में क्यों नहीं लागू हो सकता है। पिछले दिनों कांग्रेसी पार्षद एवं महिला कांग्रेस की अध्यक्ष माया देवी द्वारा निगम कार्यालय पर धरने और आत्मदाह की कोशिश के बाद यह कवायद तेज हो गई कि अनावश्यक निगम कार्यालय में आने जाने वाले लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित किया जाए। यह निर्णय तब लिया गया जब माया देवी की मांगों को लेकर मेयर कक्ष में नगर आयुक्त दिनेश चंद्र की उपस्थिति में वार्ता चल रही थी। वार्ता के दौरान ही माया देवी के साथ आए शांतिनगर में रहने वाले एक पीड़ित ने तेज आवाज में बात शुरू कर दी। इस पर वहां बैठे पार्षदों ने डांट लगाई।
इस घटना की एक व्यक्ति वीडियो भी बना रहा था। पूछताछ के बाद पता चला कि वह मायादेवी के साथ आया हुआ है। उसी समय मेयर ने जीडीए की तुलना करते हुए कहा कि हमें भी नगर निगम में अनावश्यक लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। यहां पर सिर्फ पास के जरिए एंट्री कराकर ही लोगों की एंट्री करने दी जाए। बुधवार से इस व्यवस्था पर अमल शुरू हो गया। लोगों को निगम के मुख्य द्वारा पर रोककर उनकी एंट्री कराई जाने लगी। इसके बाद मिलने वाले के नाम पता सहित संबंधित अधिकारियों से काम का ब्यौरा भरवाया जाने लगा। उसके काम की तस्दीक करने के बाद ही उसकी एंट्री होने दिया गया। मेयर आशा शर्मा का कहना है कि इस व्यवस्था के लागू होने से अनावश्यक लोगों को निगम कार्यालय में प्रवेश नहीं होगा।

No comments:

Post a Comment