Latest News

4 Mar 2019

दिल्ली के नंदनगरी इलाके में युवक ने अपने भाई की कैंची से गोदकर की हत्या

उ.पूर्वी दिल्ली। बड़े भाई को मोटा-मोटा कहकर उसका मजाक उड़ाना एक युवक को भारी पड़ गया। बड़े भाई ने उसकी हत्या कर दी। शुक्रवार को नॉर्थईस्ट दिल्ली के नंदनगरी इलाके की इस घटना में युवक ने अपने भाई की हत्या कैंची गोदकर की और बाद में उसे हादसे का रूप देने की कोशिश की। आरोपी ने पुलिस को बताया कि कैंची भाई के सीने पर जा गिरी, जिसकी वजह से उसके सीने में छेद हो गया।पुलिस ने बताया कि आरोपी निज़ाम ने मौत की जो वजह बताई, उससे जांचाधिकारी लगभग सहमत हो गए थे, लेकिन निजाम के 3 साल के बेटे ने जो बताया उससे कुछ शक हुआ। बच्चे ने बताया कि उसके पिता निजाम और चाचा आरिफ के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि 25 साल के एक युवक की अस्पताल में मौत हो गई है, जो जख्मी हालत में अस्पताल में लाया गया था। युवक के परिजनों ने बताया कि सीने पर कैंची गिरने के कारण वह बुरी तरह जख्मी हो गया था. जिसके बाद उसकी मौत हुई। मृतक के बड़े भाई निजाम ने पुलिस को बताया कि जब वह काम से घर लौटा तो देखा कि आरिफ खून से लथपथ हालत में फर्श पर पड़ा था। वह उसे अस्पताल लेकर गया । उसने बताया कि शायद वह ऊपर के शेल्फ से कुछ लेने की कोशिश कर रहा होगा, तभी उसके सीने पर कैंची गिर गई होगी और हादसा हो गया। 
नंद नगरी के एसीपी आनंद मिश्रा निजाम की बातों से सहमत नहीं हुए, लेकिन परिवार के अन्य लोगों ने भी यही बातें कहीं। शव को शवगृह में शिफ्ट किया गया और अटॉप्सी के लिए भेज दिया गया। मेडिकल रिपोर्ट में पाया गया कि आरिफ की मौत पर सीने पर गहरे घावों से हुई है। शुरुआती मेडिकल जांच में यह कहा गया कि इस तरह के गहरे घावजबरन वार से ही हो सकते हैं। पुलिस ने दोबारा जांच शुरू की और घटना का रिक्रिएशन कर पाया कि कैंची के ऊपर से गिरने से ऐसे घाव नहीं हो सकते।इसके बाद पुलिस का शक पुख्ता हो गया कि आरिफ की मौत कोई दुर्घटना नहीं, बल्कि मर्डर है। यह शक और पुख्ता हो गया जब निजाम के 3 साल के बेटे ने पिता और चाचा के बीच झगड़े की बात बताई। बच्चे ने बताया कि उसने पापा निजाम को चाचा आरिफ पर वार करते हुए देखा था। इसके बाद बार-बार पूछताछ करने पर निदाम ने अपने भाई आरिफ की बत्या की बात कबूल कर ली और बताया कि वह बार-बार उसे मोटा कहकर मज़ाक उड़ाता था, इसलिए उसने उसे मार डाला। 

No comments:

Post a Comment