Latest News

14 Mar 2019

पत्नी है एचाआईवी पॉजिटिव, पति ने की बच्ची के डीएनए टेस्ट की मांग

फरीदाबाद। पति-पत्नी के बीच चल रहे झगड़े खत्म करने के लिए पति ने 3 महीने की बच्ची का डीएनए जांच कराने की मांग की है। पति ने बच्ची को अपनी संतान मानने से इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि उसकी पत्नी और बेटी एचआईवी पॉजिटिव हैं। पति का कहना है कि यह उसकी संतान नहीं है, जबकि पत्नी इस बच्ची का पिता उसी को बता रही है। ओल्ड फरीदाबाद युवक ने बताया कि उसकी शादी 27 मई 2017 को जनता कॉलोनी की रहने वाली लड़की से हुई थी। लड़की की यह दूसरी शादी थी। पहली शादी के बाद उसके पति की मृत्यु हो गई थी, जिसके चलते एक एनजीओ की ओर से लड़की की जिंदगी दोबारा से संवारने के लिए दूसरी शादी करवाई गई। शादी को करीब एक साल बीता तो युवक की पत्नी गर्भवती हो गई। उसने अस्पताल जाकर अपनी सभी प्रकार की जांच करवाई। जांच के दौरान पता चला कि वह एचआईवी पॉजिटिव है। युवक ने बताया कि एचआईवी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसने पत्नी को छोड़ने का फैसला कर लिया। 
पुलिस की महिला सैल में तलाक की अर्जी दी। तलाक की अर्जी देने के बाद पत्नी की ओर से युवक पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाकर शिकायत दी गई। महिला सेल में सुनवाई के दौरान दहेज प्रताड़ना की शिकायत एनजीओ की गवाही के बाद रद्द हो गई। दहेज की शिकायत खत्म होने के दौरान पत्नी ने एक लड़की को जन्म दिया। एचआईवी पॉजिटिव होने की वजह से उनकी डिलिवरी बीके अस्पताल में नहीं हो सकती थी, इसलिए उन्होंने घर पर ही करवाई। नवजात बच्ची का एचआईवी टेस्ट करवाया तो वह भी पॉजिटिव निकली। अब महिला सेल में दोनों के बीच तलाक को लेकर अर्जी पर सुनवाई चल रही है। युवक ने बताया कि उसने दो बार बीके अस्पताल में एचआईवी का टेस्ट करवा लिया है, जो निगेटिव है। उसके अनुसार, उन्होंने महिला सेल में बच्ची व अपना डीएनए टेस्ट करवाने के लिए अर्जी लगाई है। जैसे ही वह पास हो जाएगी वह डीएनए का टेस्ट भी करवा लेगा। डीएनए टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद यह साफ हो जाएगा कि बच्ची उसकी है या नहीं। महिला सेल में इस मामले की सुनवाई 23 मार्च को होनी है। 

No comments:

Post a Comment