Latest News

13 Mar 2019

दिल्ली में हर रोज हो रही है स्नैचिंग की दरजनों वारदात

नई दिल्ली। दिल्ली में हर दिन 16 से 17 लोग झपटमारी के शिकार बन रहे हैं। सेंधमारी की घटनाएं भी हर दिन करीब 10 हो रही हैं। हालांकि, दिल्ली पुलिस का दावा है कि उनकी मुस्तैदी से कई तरह के अपराधों में भारी गिरावट आई है। इसमें झपटमारी भी शामिल है। दिल्ली पुलिस के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो इस साल जनवरी में झपटमारी की वारदात पिछले साल की जनवरी से ज्यादा हुई। पुलिस का कहना है कि वारदात के अंजाम देने के तरीके से अपराधियों को पकड़ने और उन पर अंकुश लगाने की कोशिश की जा रही है। इसमें अधिकतर इलाकों में पुलिस को कामयाबी भी मिल रही है। 
पुलिस के डेटा के मुताबिक, दिल्ली में इस साल 28 फरवरी तक डकैती के चार, हत्या के 85, हत्या की कोशिश के 71 और लूट के 388 मामले सामने आए। इनके अलावा, दंगे का एक, बलात्कार के 285, सेंधमारी के 588 और झपटमारी की 978 वारदात को अंजाम दिया गया। इस हिसाब से इस साल 1 जनवरी से 28 फरवरी तक हर दिन के हिसाब से दिल्ली में हुए क्राइम का ग्राफ देखा जाए तो प्रति दिन झपटमारी की 16 से अधिक वारदात हुई। इसी तरह से हर दिन बलात्कार के 4 से अधिक मामले भी दर्ज हुए। सेंधमारी के करीब 10, किडनैपिंग के 14, महिला से छेड़छाड़ के 7, लूट के 6 और हत्या का हर दिन 1 से अधिक मामला सामने आया। इस साल 31 जनवरी तक झपटमारी के 476 मामले सामने आए थे, जबकि इस दौरान पिछले साल जनवरी में 436 घटनाएं हुई थीं। इसी तरह से इस साल 31 जनवरी तक चोरी के दूसरे मामले में 15 हजार 252 मुकदमे दर्ज किए गए। पिछले साल 12 हजार 273 एफआईआर दर्ज हुई थीं। 

No comments:

Post a Comment