Latest News

17 Feb 2019

कागजों में सड़क बना किया 21 लाख का घोटाला

पलवल। कागजों पर रास्तों को पक्का कर 21 लाख रुपये का घोटाला करने और बिजली कनेक्शन के नाम पर लाखों की हेराफेरी करने के मामले सामने आए हैं। राजूपुर खादर से घोड़ी गांव की हदबंदी तक और राजूपुर खादर से थंथरी गांव तक, मनरेगा के तहत दोनों रास्तों पर मिट्टी डाली गई, इसके बाद पंचायत फंड व अन्य योजनाओं के तहत इन्हें पक्का बना दिया गया। सारा काम सिर्फ कागजों पर हुआ। गांव वालों ने सीएम विंडो व एडीसी सुरेंद्र सिंह से इसकी शिकायत की है।नरेश कुमार ने एडीसी को शिकायत दी है कि गांव राजुपुर खादर की पंचायत ने करीब 3 किमी लंबे दो रास्तों को पक्का किया। जिसमें 21 लाख 48 हजार 648 रुपये की लागत बताकर बिल पास कर पेमेंट कर दिया गया। पंचायती रिकॉर्ड में राजपाल, जयपाल, सुरेंद्र, भगवान दास, चेतराम, राकेश, नरेश, ओमप्रकाश, गंगा, राजेश, सुन्दर, गिर्राज, सुनील, कन्हैया, दयाराम, दीपचंद, हरेंद्र, अर्जुन, राजकुमार, रविंद्र, पूरण, प्रकाश आदि ने मनरेगा के तहत मजदूरी की। इनके नाम पर लाखों रुपये निकाल लिए गए। लखीराम, चांद, किशन और रण सिंह आदि के ट्रैक्टरों से मिट्टी की ढुलाई भी दस्तावेजों में दिखाई गई है। जबकि, जमीन पर काम नहीं हुआ है। 
साथ ही आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार विभाग ने चार ट्यूबवेलों के कनेक्शन लगाए हैं, जबकि मौके पर पांच कनेक्शन लगे हुए हैं। पंचायत ने 37 पोल का एस्टिमेट बनाकर पेमेंट अदा कर दिया, लेकिन बिजली विभाग ने 18 पोल लगाने की बात कही है। मौके पर 5 ट्यूबवेलों के बिजली कनेक्शन के लिए 32 पोल लगे मिले हैं।एडीसी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि दो रास्तों को पक्का करने के बारे में शिकायत मिली है। जांच शुरू कर दी गई है। जहां भी घोटाला पाया जाएगा, उसकी रिकवरी कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पंचायत विभाग के एसडीओ हरेंद्र सिंह को जांच सौंपी गई है। रिपोर्ट अगले सप्ताह तक मिल जाएगी। बिजली विभाग के 54 इंसुलेटर लगाए गए हैं, जबकि पंचायत रिकॉर्ड के अनुसार 111 लगवाए गए हैं। बिजली विभाग के एसई ने भी जांच के आदेश जारी किए हैं। 

No comments:

Post a Comment