Latest News

25 Jan 2019

मध्य प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी योजना बनी मजाक, ‘मुर्दे’ भी बने सरकार के कर्जदार!

भोपाल। मध्य प्रदेश में किसान को मरे भले ही एक दशक से ज्यादा का समय गुजर गया हो, मगर वह बैंक और सरकारी रेकॉर्ड में अब भी कर्जदार बना हुआ है। राज्य में किसान कर्जमाफी के लिए जारी की गई सूचियों में ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं। नया मामला आगर-मालवा जिले के गघोरनी गांव का है।यहां के किसान पूरन सिंह के पिता का निधन हुए एक दशक से ज्यादा का वक्त गुजर चुका है। उन पर 12 हजार रुपये का कर्ज था। इस कर्ज को पूरन ने अपने नाम करा लिया था। पूरन जब पंचायत में लगी कर्जदारों की सूची देखने गया तो हैरत में पड़ गया, क्योंकि कजदारों की सूची में उसके पिता का भी नाम था। पूरन का कहना है कि वह इसके पीछे का कारण समझ नहीं पा रहा है।इसी तरह का मामला गणेशपुरा गांव के चेतन सिंह का भी है। चेतन के अनुसार, उसके पिता की मौत को 12 साल हो गए हैं। उन पर 17 हजार रुपये का कर्ज था, जिसे वह भर चुका है, मगर सूची में पिता के नाम पर लगभग पौने दो लाख का कर्ज बताया गया है। यह कर्ज कैसे उनके नाम आया, यह कोई बताने को तैयार नहीं है।एक तरफ जहां सालों पहले दुनिया छोड़ चुके किसानों को कर्जदार बताया जा रहा है, तो दूसरी ओर पंचायतों के बाहर जो सूची लगाई गई है, वह अंग्रेजी में है। इस कारण किसान न तो अपना नाम पढ़ पा रहे हैं और न ही उन्हें यह पता चल पा रहा है कि उनके नाम पर कर्ज कितना है। इसके अलावा जिन किसानों का हजारों में कर्ज है, उसमें से 13 रुपये ही माफ किया गया है। 
कर्जमाफी में सामने आ रही गड़बड़ियों और किसानों को हो रही परेशानी के मामलों पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कर्जमाफी में कांग्रेस किसानों के साथ एक के बाद एक भद्दा मजाक कर रही है। सूची तक आधी अंग्रेजी व हिंदी में जारी हो रही है। सरकार को किसानों के पढ़ने लायक सूचियां जारी करनी चाहिए। 
वहीं, किसान नेता केदार सिरोही का कहना है कि यह बात सही है कि जो दुनिया छोड़ गए हैं, उनके पुत्रों ने कर्ज अपने नाम कराकर चुकता कर दिया है, मगर दिवंगत किसान के नाम पर कर्ज अभी भी बना हुआ है। वह ब्याज के साथ जुड़कर कई गुना हो गया है। यह एक बड़ा घोटाला है और जांच से ही उजागर होगा। गौरतलब है कि एमपी में कांग्रेस की सत्ता आने पर जय किसान फसल ऋणमाफी योजना के तहत 15 जनवरी से आवदेन भरवाए जा रहे हैं। योजना में बुधवार तक 31 लाख 48 हजार 527 किसानों ने ग्राम पंचायतों में कर्जमाफी के आवेदनपत्र जमा करवा दिए हैं। अब तक 18 लाख 19 हजार 829 हरे, 11 लाख 60 हजार 191 सफेद और एक लाख 68 हजार 507 गुलाबी आवेदन भरे जा चुके हैं। इसकी अंतिम तिथि 5 फरवरी है। किसान-कल्याण और कृषि विकास विभाग के अनुमान के अनुसार, कुल 50 लाख रुपये कर्जमाफी आवेदनपत्र 5 फरवरी तक जमा होने की संभावना है। वहीं किसानों के खातों में रकम 22 फरवरी के बाद आने का सिलसिला शुरू होगा। 

No comments:

Post a Comment