Latest News

6 Jan 2019

मारपीट के बाद किशोर पर केरोसिन डालकर लगाई आग : गाजियाबाद

गाजियाबाद। नए साल पर मोबाइल टूटने को लेकर हुए विवाद में शनिवार सुबह तीन युवकों ने तुलसी निकेतन में मिट्टी का तेल छिड़क एक किशोर को आग लगा दी। किशोर को उसके परिवार वालों ने दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। वारदात के बाद तीनों युवक मौके से फरार हो गए। पीड़ित परिवार ने साहिबाबाद थाने में तीनों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस तीनों की तलाश कर रही है। शनिवार देर शाम होश आने के बाद किशोर ने पुलिस को वारदात की पूरी जानकारी दी। तुलसी निकेतन डी-ब्लॉक के चिड़िया घर में रहने वाला शिवम (16) एक टेंट हाउस में वेटर का काम करता है। उसके बड़े भाई शिवा ने बताया कि शनिवार सुबह 11 बजे शिवम घर के बाहर खड़ा था। इसी दौरान कॉलोनी में रहने वाले मुन्ना, चौटाला और सलमान वहां पहुंचे और शिवम को अपने साथ ले गए। वहीं, शिवम के छोटे भाई गोपाल ने बताया कि वह घर के पास मैदान में दोस्तों के साथ खेल रहा था। तभी उसने देखा कि टंकी वाले पार्क में मुन्ना, चौटाला और सलमान शिवम को पीट रहे थे। 
तीनों उसे लहुलूहान हालत में मैदान में ले आए और इसके बाद बाइक में रखी मिट्टी के तेल की बोतल शिवम पर खाली कर उस पर माचिस से आग लगा दी। वह तुरंत घर पहुंचा और परिवार वालों को इसकी सूचना दी। इस बीच तीनों आरोपी मौके से भाग गए। परिवार के लोग शिवम को दिल्ली के जीटीबी अस्पताल लेकर पहुंचे। शिवा ने बताया कि वारदात के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और मामले को खेलकूद का झगड़ा बताने लगी। इसके बाद परिवार ने पुलिस को तहरीर लिखकर दी तो पुलिसकर्मियों ने जांच करने की बात कही और वहां से चले गए। जबकि तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए किसी से पूछताछ नहीं की गई। पुलिस के इस रवैये से परिवार नाराज है। परिवार के अनुसार नए साल पर तीनों युवकों का शिवम से किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। इसी बीच छीना-झपटी में शिवम का मोबाइल गिरकर टूट गया। इस पर शिवम का बड़ा भाई शिवा तीनों युवकों से मोबाइल ठीक कराने को कह रहा था। वहीं, शुक्रवार रात को शिवम ने मोबाइल ठीक कराने के लिए तीनों से पैसे मांगे थे। आरोप है कि इसी बात को लेकर शनिवार सुबह तीनों युवक शिवम को घर के बाहर से अपने साथ ले गए और मारपीट करने के बाद मिट्टी का तेल डालकर आग लगा उसे जान से मारने का प्रयास किया। 

No comments:

Post a Comment