Latest News

25 Jan 2019

योगी आदित्यनाथ ने किया नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच ऐक्वा मेट्रो लाइन का उद्धाटन

नोएडा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 25 जनवरी को नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच ऐक्वा मेट्रो लाइन का उद्घाटन किया। यह मेट्रो रूट आम लोगों के लिए 26 जनवरी से खुल जाएगा। 27 जनवरी से सुबह 6 बजे से रात 10 बजे इस लाइन की सुविधा ली जा सकती है। यह ऐक्वा लाइन मेट्रो का पहला फेज़ है, जो नोएडा सेक्टर 51 से ग्रेटर नोएडा के डेल्टा 1 तक जाएगा। दूसरा फेज़ नोएडा सेक्टर 71 से नॉलेज पार्क-5 तक जाएगा, जिसका काम 2021 तक पूरा होगा। फेज़ 1 रूट पर अगस्त 2018 से ट्रायल शुरू हो गया था। पहले फेज़ में ऐक्वा लाइन नोएडा सेक्टर 71 से ग्रेटर नोएडा के बीच 29.7 किमी की दूरी तय करेगी। इस रूट में कुल 21 मेट्रो स्टेशन होंगे, जिनमें से 15 नोएडा और 6 ग्रेटर नोएडा में होंगे। इन 21 में से 16 स्टेशन पर पार्किंग सुविधा भी रहेगी और हर मेट्रो ट्रेन में 4-4 कोच होंगे। ऐक्वा मेट्रो के स्टेशन एन्वायरमेंट फ्रेंडली बनाए गए हैं। ऐक्वा लाइन का सिस्टम टिकटिंग वगैरह के मामले में दिल्ली मेट्रो (DMRC) से काफी अलग है। ऐक्वा लाइन में DMRC वाला स्मार्ट कार्ड नहीं चलेगा। दिल्ली-नोएडा में अभी मेट्रो पर निर्भर रहने वाले यात्रियों के लिए एक दिक्कत यह है कि ऐक्वा लाइन दिल्ली मेट्रो की ब्लू लाइन से नहीं जुड़ती है। इसके लिए आपको ब्लू लाइन के आखिरी स्टेशन 'नोएडा सिटी सेंटर' से कुछ दूर ऐक्वा लाइन के मेट्रो स्टेशन तक जाना होगा। 
आइए, आपको ऐक्वा मेट्रो स्टेशन की कुछ खास बातें बताते हैं- 
1) डीएमआरसी के अधिकारियों ने बताया कि ऐक्वा लाइन मेट्रो शुरू होने के बाद दिल्ली-एनसीआर का मेट्रो नेटवर्क शंघाई, पेइचिंग और लंदन के बाद दुनिया का चौथा सबसे बड़ा मेट्रो नेटवर्क बन जाएगा। दिल्ली-एनसीआर का मेट्रो ट्रैक नेटवर्क 375 किलोमीटर लंबा हो जाएगा। वहीं, नोएडा-ग्रेनो की बात करें तो यहां 47 किलोमीटर का मेट्रो नेटवर्क होगा। 
2) ऐक्वा लाइन मेट्रो हर मामले में ब्लू लाइन से ज्यादा अडवांस हैं। सिक्यॉरिटी से लेकर सुविधाओं तक इसमें एक के बाद एक अडवांस टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया गया है और लोगों को भी इसका इस्तेमाल करने के लिए पहले से इसकी जानकारी होगी तो उन्हें इस्तेमाल करने में आसानी होगी। 
3) ऐसा माना जा रहा है कि ऐक्वा लाइन में सबसे ज्यादा स्टूडेंट्स ही सफर करेंगे। नोएडा सेक्टर-71 से गाजियाबाद व दिल्ली तक के स्टूडेंट ग्रेनो जाने के लिए मेट्रो में चढ़ेंगे। वहीं, वहां से दिल्ली के लिए जाएंगे। स्टूडेंट्स के लिए यह मेट्रो लाइफ लाइन बनेगी। 
4) नोएडा-ग्रेटर नोएडा रूट शुरू होने के बाद पहली बार ग्रेटर नोएडा के प्रमुख सेक्टर और क्षेत्र मेट्रो से जुड़ जाएंगे। सेक्टर 34, सेक्टर 50, 51,78, 81, 83, दादरी रोड, 142, 144, 147,153, 149, केपी 1 व 2, परी चौक, अल्फा वन, डेल्टा वन आदि क्षेत्र मेट्रो से सीधे जुड़ेंगे। इससे नोएडा ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस में ट्रैफिक में कमी आएगी। 
5) बहुप्रतीक्षित ऐक्वा लाइन नोएडा के सेक्टर 71 से ग्रेटर नोएडा के डिपो स्टेशन के बीच 29.7 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। ऐक्वा लाइन पर कुल 21 स्टेशन होंगे। घोषित किराए के तहत इस रूट पर सफर के दौरान न्यूनतम 9 रुपये कार्ड से और 10 रुपये टोकन से अदा करने होंगे। टोकन से अधिकतम किराया 50 रुपये होगा, जबकि कार्ड से अधिकतम किराया 45 रुपये होगा। 
6) प्लैनिंग की कमी की वजह से एक्सप्रेसवे के किनारे के कई सेक्टरों और गांवों में रहने वाले करीब 2 दो लाख लोगों को मेट्रो स्टेशन तक पहुंचने के लिए काफी मशक्कत करनी होगी। इनके घर की छत से मेट्रो स्टेशन तो दिखाई दे रहा है, लेकिन वहां तक पहुंचना आसान नहीं होगा। 
7) सेक्टर-142 मेट्रो स्टेशन पर उतरने के बाद मेन रोड पर आने के लिए कई लोगों को करीब दो-ढाई किमी का चक्कर काटकर आना पड़ेगा। एक्सप्रेसवे के अन्य स्टेशनों का भी यही हाल है। लोगों को यह सुविधा तो मिलेगी मगर उन्हें अभी मेट्रो स्टेशनों पर जाने के लिए पब्लिक ट्रांसपॉर्ट की सुविधा नहीं मिल पाएगी। 
8) स्टेशन में एंट्री करने के बाद 90 मिनट के अंदर स्टेशन से बाहर होना पड़ेगा। उससे ज्यादा समय लगा तो आपके स्मार्ट कार्ड से एग्जिट होने के दौरान पेनल्टी कट जाएगी। यह पेनल्टी 10 रुपये घंटे के हिसाब से रखी गई है। एनएमआरसी का ऐसा मानना है कि 21 स्टेशन के इस सफर में करीब 35-40 मिनट लगेंगे। 
8) एनएमआरसी ने जो स्मार्ट कार्ड तैयार कराया है, वह सिर्फ उन्हीं लोगों को मिल पाएगा जिनके पास वोटर कार्ड, डीएल या पासपोर्ट हैं। आधार कार्ड भी इसमें मान्य नहीं है। ऐसे में कहा जा रहा है कि ज्यादातर लोगों के पास आधार कार्ड ही होते हैं, डीएल या वोटर कार्ड नहीं, इसलिए बहुत से लोगों को स्मार्ट कार्ड बनवाने में दिक्कत आ सकती है। 
9) नोएडा-ग्रेटर नोएडा की ऐक्वा लाइन की ब्लू लाइन मेट्रो के साथ सीधे कनेक्टिविटी नहीं होने का असर भी यात्रियों की संख्या पर पड़ सकता है। हालांकि, मेट्रो की सवारियों को सेक्टर-71 चौराहे के मेट्रो जंक्शन पर ब्लू लाइन मेट्रो की सेवा उपलब्ध कराई जाएगी। 
10) ऐक्वा लाइन पर ग्रेनो मेट्रो और ब्लू लाइन पर सेक्टर-62 मेट्रो के बीच वॉक वे बनाया जाएगा। यह ऐक्वा लाइन पर सेक्टर-71 और ब्लू लाइन पर सेक्टर-52 मेट्रो स्टेशनों को जोड़ेगा। 

No comments:

Post a Comment