Latest News

10 Dec 2018

हरियाणा रोडवेज की बसों में फर्स्ट एड बॉक्स में रखे जा रहे औजार : गुड़गांव

गुड़गांव। हरियाणा राज्य परिवहन की ओर से यात्रियों को भले बेहतर सुविधा देने का दावा किया जा रहा है, लेकिन हकीकत तो यह है कि यात्रियों को बेसिक सुविधाएं भी नहीं मिल रही हैं। बसों में यात्रियों को तत्काल इलाज मुहैया कराने के लिए हर बस में एक फर्स्ट एड बॉक्स अनिवार्य है। एनबीटी की पड़ताल में सामने आया कि बसों में फर्स्ट एड बॉक्स तो था, लेकिन उसमें दवा की जगह कुछ और सामान भरा था। फर्स्ट एड बॉक्स लगवाने और उसमें आवश्यक मेडिसिन रखवाने की जिम्मेदारी डिपो के आला अधिकारियों की होती है। बावजूद इसके बॉक्स मात्र दिखावा है। किसी बॉक्स में टूल रखे जा रहे हैं तो कोई बॉक्स खाली मिला। "रोडवेज की सभी बसों में फर्स्ट ऐड बॉक्स लगे हैं। इन बॉक्स में यात्रियों के लिए मेडिसिन भी रखी जाती है। फिर भी यदि किसी भी बस में मेडिसिन नहीं है तो उसमें मेडिसिन रखवाई जाएगी।"-संजीव कुमार, वर्क्स मैनेजर
पहली बस 
समय 11:10 am
रूट : गुड़गांव से झज्जर 
बस का फर्स्ट एड बॉक्स चेक किया गया तो उसमें पुराने कागज और विज्ञापन से जुड़े कुछ पम्फ्लेट रखे हुए थे। जब ड्राइवर से पूछा गया कि इसमें मेडिसिन क्यों नहीं है तो जवाब मिला कि डिपो से अब दवाई ही नहीं मिलती है।
दूसरी बस 
समय 11:20 am
रूट : गुड़गांव से रोहतक 
बस का फर्स्ट एड बॉक्स बिल्कुल खाली था। वहीं जब ड्राइवर और कंडक्टर से पूछा गया कि इसमें मेडिसिन क्यों नहीं रखते तो दोनों का जवाब था कि डिपो के अधिकारी मेडिसिन देंगे तभी तो रखेंगे। 
तीसरी बस
समय 11:35 am
रूट : गुड़गांव से जींद 
रोडवेज की इस बस के फर्स्ट एड बॉक्स को चेक किया गया तो इसमें बस की रिपेयरिंग से संबंधित टूल्स मिले। इसके अलावा बस में किसी भी प्रकार की कोई भी मेडिसिन नहीं मिली। यहां पर ड्राइवर ने कोई जवाब नहीं दिया। 
चौथी बस
समय 11:52 am
रूट : गुड़गांव से भिवानी 
इस बस में फर्स्ट एड बॉक्स लगा ही नहीं था। बस के ड्राइवर व कंडक्टर ने बताया कि यात्रियों को दी जाने वाली किसी भी प्रकार की मेडिसिन बस में नहीं रखी जाती है। 

No comments:

Post a Comment