Latest News

30 Nov 2018

केंद्रीय पुलिस बल की भर्ती में पूर्वोत्तर के कैंडिडेट्स के लिए ऊंचाई मानकों में बदलाव : गुवाहाटी

गुवाहाटी। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में भर्ती के लिए ऊंचाई मानदंडों में बदलाव करते हुए गृह मंत्रालय ने एक नई अधिसूचना जारी की है। पुरुष गोरखा और नॉर्थ-ईस्ट राज्यों के अनुसूचित जनजाति के लोगों को ऊंचाई मानकों में राहत देते हुए गृह मंत्रालय ने भर्ती के लिए जरूरी ऊंचाई को घटाकर कम कर दिया है। गृह मंत्रालय ने कहा है कि पुरुष गोरखा और नॉर्थ-ईस्ट के पुरुष अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के ऊंचाई मानकों में समानता लाने के लिए ऐसा किया गया है। 
गृह राज्य मंत्री ने ट्वीट कर दी जानकारी 
गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने इस बाबत ट्वीट करते हुए लिखा कि ऊंचाई मानकों में मिलने वाली इस छूट से बड़ी संख्या में गोरखा और नॉर्थ-ईस्ट के अनुसूचित जनजाति के युवाओं को सीएपीएफ में भर्ती कराया जाएगा। नए मानकों के मुताबिक कॉन्स्टेबल्स की भर्ती के लिए नॉर्थ ईस्ट के पुरुष एसटी कैंडिडेट्स की निर्धारित ऊंचाई 162.5 सेमी की बजाय 157 सेमी होगी। वहीं सब इंस्पेक्टर (जनरल ड्यूटी) की भर्ती के लिए एसटी कैंडिडेट्स और गोरखा लोगों के लिए निर्धारित ऊंचाई 157 सेमी से घटाकर 165 सेमी कर दी गई है। 
आरक्षण नहीं समानता के लिए किया गया यह फैसला 
गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट किया है कि सेंट्रल ऑर्म्ड फोर्सेज की भर्ती में पूर्वोत्तर के एसटी तथा गोरखा लोगों के उम्मीदवारों के साथ होने वाले भेदभाव को दूर करने के लिए गृह मंत्रालय ने यह ऐतिहासिक कदम उठाया है। उन्होंने आगे लिखा कि इससे काफी मात्रा में गोरखा और पूर्वोत्तर के एसटी युवाओं को केंद्रीय बल में भर्ती होने का मौका मिलेगा। रिजिजू ने कुछ देर बाद अपने इसी ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा कि यह आरक्षण का मामला नहीं है। पूर्वोत्तर के पहाड़ी लोगों की औसत ऊंचाई अन्य क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के मुकाबले कम होती है लेकिन ये लोग लड़ने में ऐक्सीलेंट हैं। ऐसे में यह फैसला उन्हें समान अवसर प्रदान करेगा। 

No comments:

Post a Comment