Latest News

1 Nov 2018

गांव के तालाब से चोरी हो रहा पानी, बचाने के लिए गांववाले कर रहे निगरानी : महाराष्ट्र

तालाब की निगरानी करते गांववाले
औरंगाबाद। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में वैजापुर तहसील के अंतर्गत तालवाडा गांव आता है। इस गांव के लोग आजकल अनमोल चीज की 24 घंटे निगरानी कर रहे हैं। हर गांव के सदस्यों की ड्यूटी बारी-बारी से 24 घंटे यहां लगती है। यह अमूल्य वस्तु कुछ और नहीं, बल्कि पानी है। जी हां यहां के तालाब से पानी चोरी हो रहा है। प्रशासन ने गांववालों की नहीं सुनी तो फिर उन्होंने खुद अपने इस पानी भरे तालाब की निगरानी करने का फैसला लिया।हर रात यहां की महिलाएं और पुरुष तालाब के आसपास खड़े होते हैं। इनमें न सिर्फ किसान होते हैं, बल्कि टेलर्स और मौलवी भी होते हैं। सभी मिलकर रात में इस तालाब की निगरानी करते हैं। इस गांव में पानी का एकमात्र जरिया यही है। दरअसल, आसपास के कुछ लोग इस तालाब का पानी चुराकर अपने खेतों की सिंचाई कर लेते थे। इसी वजह से इन लोगों ने पानी की चोरी रोकने के लिए यह कदम उठाया। 
एकमात्र पानी का स्रोत 
औरंगाबाद-मालेगांव रोड पर स्थित इस गांव की आबादी 4,500 है। गांव में पानी का एकमात्र स्रोत यही तालाब है और इसका पानी तेजी से खत्म हो रहा था। इस साल मॉनसून में यहां पर जरूरत से 50 फीसदी बारिश कम हुई। गांव के सरपंच भाऊसाहेब मगहर ने कहा, 'अगर हम लोगों ने तालाब की निगरानी नहीं की तो अगले 30 दिनों के अंदर तालाब पूरी तरह से खाली हो जाएगा। उसके बाद न तो हम लोगों को पीने का पानी मिलेगा न ही जानवरों को।' 
दिन में महिलाएं और रात में पुरुष करते हैं निगरानी 
गांववालों ने कहा कि ज्यादातर रात में जब बिजली जाती है उसी दौरान तालाब से पानी चोरी होता है। दिन में भी लोगों को भारी बिजली कटौती का सामना करना पड़ता है। रात में आसपास के लोग तालाब में पाइप डालकर अपने खेतों की सिंचाई करते हैं। दिन में जब गांव के आदमी काम पर जाते हैं तो महिलाएं, लड़कियां और युवा लड़के तालाब के आसपास निगरानी करते हैं। 
पानी को लेकर हो सकती है हिंसा 
लोगों का मानना है कि जिस तरह की परिस्थितियां बन रही हैं, यहां पर हिंसा हो सकती है। मौलाना इमरान ने बताया कि वह भी गांववालों के साथ तालाब की निगरानी कर रहे हैं। जब से उन लोगों ने तालाब की निगरानी शुरू की है, पानी चोरी होना बंद हो गया है। यहां गांव में कई बार झगड़ा भी हुआ, लेकिन हम लोगों के हस्तक्षेप से उसे निपटा लिया गया। हम लोग चाहते हैं कि जो लोग पानी चुरा रहे हैं, उनके खिलाफ पुलिस और राजस्व विभाग कार्रवाई करे।

No comments:

Post a Comment