Latest News

29 Nov 2018

दादा ने पोती को बनाया हवस का शिकार, छह महीने की गर्भवती होने पर खुला मामला : महाराष्ट्र

औरंगाबाद। औरंगाबाद की बिडकीन पुलिस ने सोमवार को एक 68 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार करके जेल भेजा है। गिरफ्तार किए गए व्यक्ति पर आरोप है कि उसने अपनी ही पंद्रह वर्षीय पोती को हवस का शिकार बनाया। रेप के बाद वह गर्भवती भी हो गई। नाबालिग के माता-पिता को यह बात पता चली तो उन्होंने वृद्ध व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। इंस्पेक्टर सुनील बिड़ला ने बताया कि बच्ची के माता-पिता नौकरी करते हैं। दिन में वह घर के बाहर रहते थे। इस दौरान बच्ची की देखरेख का जिम्मा उसे दादा का होता था लेकिन वह घर पर किसी के न होने का फायदा उठाने लगा और बच्ची का यौन शोषण किया। वह बच्ची को यह बात किसी को भी न बताने की धमकी भी देता था। इंस्पेक्टर ने बताया कि बच्ची के पेट में दर्द था। उसे उल्टियां हो रही थीं। तबीयत खराब होने के चलते उसके माता-पिता उसे डॉक्टर के पास लेकर गए। यहां डॉक्टर ने बताया कि बच्ची छह महीने के गर्भ से है। माता पिता के लिए यह चौंकाने वाली बात थी। उनके होश उड़ गए। उन्होंने बच्ची से इस बारे में पूछा तो उसने कुछ नहीं बताया। बच्ची के माता-पिता ने उसे प्यार से समझाया और उसकी काउंसलिंग की। काफी प्रयास के बाद बच्ची ने बताया कि उसके दादा ही उसका शारीरिक शोषण करते थे। 
बच्ची के माता-पिता को जब सच्चाई पता चली तो वह हैरान और दुखी तो हुए साथ ही उन्हें समाज का डर सताने लगा। वे बच्ची का गर्भपात कराने के लिए उसे कई डॉक्टरों के पास लेकर गए लेकिन किसी भी डॉक्टर ने इस स्थिति में बच्ची का गर्भपात करने से इनकार कर दिया। आखिरकार उसके बाद बच्ची के माता-पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने बताया कि बच्ची का मेडिकल कराने के साथ ही डीएनए सैंपल भी जांच के लिए भेजा गया है। बच्ची ने बताया कि उसने कई बार कोशिश करके हिम्मत जुटाई को अपने दादा की करतूत माता-पिता या टीचर को बता दे लेकिन वह सफल नहीं हुई। उसे बार-बार लगता था कि शायद उसकी बात पर कोई यकीन नहीं करेगा।बॉम्बे हाई कोर्ट के वकील ने बताया कि बच्ची की प्रेग्नेंसी अडवांस स्टेज पर है ऐसे में उन्हें गर्भपात करवाने के लिए हाई कोर्ट में आवेदन करना होगा। हाई कोर्ट सरकारी अस्पताल के विशेषज्ञों से इस मामले में राय मांगेगा उसके बाद ही कोई फैसला दिया जा सकेगा। 

No comments:

Post a Comment