Latest News

1 Nov 2018

महिलाओं की सुरक्षा करेगी टीम 'शक्ति', जोधपुर पुलिस की पहल : राजस्थान

जोधपुर। महिला सुरक्षा के लिए अब उनकी एक टीम ब्लू राजस्थान की सड़कों पर उतर आई हैं। नहीं यह टीम कोई विरोध- प्रदर्शन नहीं करने जा रही हैं बल्कि इन्होंने खुद ही वीमंस सेफ्टी का जिम्मा उठाया है। इस सेवा का नाम शक्ति है जो कि एक लेडी पट्रोलिंग यूनिट है। इसमें 28 महिला पुलिसकर्मी मौजूद हैं। इन्हें बुधवार को जोधपुर के पुलिस कमिश्नर कार्यालय से वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।महिलाओं की यह स्पेशल यूनिट दोपहिया वाहन के जरिए पट्रोलिंग करेगी और हर इलाके में पैनी नजर बनाए रखेगी। इसके अलावा वह शोहदों से पीड़ित लड़की और महिलाओं की कॉल का जवाब भी देगी और उनकी शिकायत पर ऐक्शन लेगी। पुलिस कमिश्नर आलोक वशिष्ठ ने बताया कि उनकी मौजूदगी से महिलाओं और युवतियों में आत्मविश्वास जगेगा और वह बिना किसी डर के छेड़खानी, उत्पीड़न, स्नैचिंग के खिलाफ कार्रवाई कर पाएंगी। उन्होंने आगे बताया, 'यह पट्रोलिंग यूनिट महिलाओं के खिलाफ सड़क चलते अपराध पर पैनी नजर रखेगी और इस तरह की घटनाओं के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा कि 'शक्ति' महिलाओं का मुख्य फोकस लड़कियों के शैक्षिक संस्थान और बाजार होंगे। महिलाओं की सुरक्षा के अलावा, यह यूनिट लड़कियों को ट्रेनिंग भी देगी ताकि वह ईव-टीजिंग या छेड़खानी के खिलाफ मुंहतोड़ जवाब दे सके।' 
शक्ति को और मजबूती देने के लिए दो पहिया वाहनों में सभी जरूरी फीचर मौजूद हैं जैसे- हूटर, सायरन, वायरलेस हैंडसेट, फ्लैश लाइट, पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम, फर्स्ट ऐड बॉक्स और फाइबर की लाठी वगैरह। पुलिस कमिश्नर ने बताया कि जरूरत पड़ने पर शक्ति यूनिट जोधपुर की चेतक और सिग्मा पट्रोलिंग यूनिट से भी मदद ले सकेंगी। सिग्मा यूनिट एक इंटीग्रेटेड टू वीलर पट्रोलिंग यूनिट है, जिसमें प्रत्येक 17 मोटरसाइकिल में दो पुलिसकर्मी होंगे। इस यूनिट का काम शहर के भीड़ भरे इलाकों में किसी घटना के घटने पर पुलिस की जल्द से जल्द मौजूदगी को इन्श्योर करना है। पुलिस कमिश्नर का कहना है कि इन प्रयासों से शहर के लॉ ऐंड ऑर्डर में सुधार होगा। 

No comments:

Post a Comment