Latest News

1 Nov 2018

बिना अनुमति चल रहे प्रयाग स्वीट के मिठाई कारखाना में हुई छापेमार कार्यवाही : अनूपपुर

सुमिता शर्मा,(अनूपपुर)। दीपावली त्यौहार के मद्देनजर खाद्य पदार्थो की गुणवत्ता के साथ ही साफ-सफाई सुनिश्चित करने कलेक्टर अनूपपुर अनुग्रह पी ने टीम गठित करते हुए जिले के सभी प्रतिष्ठानो में जांच करने के निर्देश दिए गए। जहां 30 अक्टूबर को जिला प्रशासन एवं राजस्व विभाग की संयुक्त टीम ने डिप्टी कलेक्टर अमन मिश्रा के नेतृत्व में जिला मुख्यालय स्थित सूर्या होटल के सामने अवैध रूप से मिठाई के कारखाना का संचालन किए जाने की सूचना पर कार्यवाही की गई। जहां संचालक ने कारखाने संचालन की अनुज्ञाप्ति मौके पर नही दिखाई गई। वहीं जांच टीम ने अवैध रूप से रखे 11 नग सिलेण्डर, चूल्हा, बिना सत्यापन के इलेक्ट्राॅनिक कांटा को जब्त करने के साथ ही खोवा के सेम्पल लिए गए। वहीं इस कारखाने का संचालक रेलवे स्टेशन तिराहे के पास संचालित प्रयाग स्वीट्स बताया जा रहा है।
बिना अनुमति चल रहा था मिठाई का कारखाना
नगर के वार्ड क्रमांक 1 में अवैध रूप से संचालित मिठाई के कारखाना की सूचना मिलने पर डिप्टी कलेक्टर अमन मिश्रा के साथ ही खाद्य एवं औषधि प्रशासन के खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीरज विश्वकर्मा, अभिषेक बिहारी गौड़, नागरिक एवं आपूर्ति विभाग के कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी प्रदीप द्धिवेदी, सर्विस इंजीनियर अनिरूद्ध केवट, जिला नापतौल अधिकारी सुनील निगम एवं श्रम सहायक विजय लाल यादव ने पहुंच छापेमार कार्यवाही की गई। जहां पर खोवे से बनी मिठाईयों सहित खाद्य पदार्थो की जांच की जहां पर मिठाईयों के भंडार होने पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने मावा का अलग-अलग सेम्पल जांच हेतु लिए गए।मामले की जानकारी देते हुए खाद्य सुरक्षा अधिकारी एवं कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि बिना अनुमति संचालित इस मिठाई के कारखाने के संचालक रेलवे स्टेशन तिराहे में संचालित प्रयाग स्वीट्स का संचालक था, वहीं खाद्य सुरक्षा अधिकारी एवं कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी ने उस समय संचालक को जमकर फटकार लगाई जब पूर्व में प्रयास स्वीट्स की जांच की गई, जिसमें संचालक से मिठाईयों के बनाने वाली जगह के संबंध में पूछा गया था, जहां संचालक ने मनेन्द्रगढ़ से मिठाई लाए जाने की बात अधिकारियों को बता उन्हे गुमराह किया जाता रहा है। जांच के दौरा संयुक्त टीम के अधिकारियों ने यह जानने के बाद आग बबूला भी हो गए जहां मिठाई कारखाने खोलने की सूचना व अनुमति न लेकर गुमराह किया जाता रहा है।
दूषित खाद्य सामग्री व खाद्य तेल फेंकवाया
डिप्टी कलेक्टर अमन मिश्रा ने बताया कि जांच के दौरान संचालक को साफ-सफाई के सख्त निर्देष देने के साथ ही मगज के लड्डू का मसाला लगभग 5 किलो फेंववाया तथा कारखाने में कार्यरत श्रमिको के लिए रजिस्टर में नाम व उनके पता की कोई भी इंट्री नही पाए जाने एवं मिठाई बनाने वाले कर्मचारियों का मेडिकल सर्टिफिकेट नही मिला है। वहीं खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीरज विष्वकर्मा ने बताया कि जांच के दौरान खाद्य तेल का उपयोग दो बार से अधिक नही किया जाना चाहिए, लेकिन संचालक द्वारा मिठाई व अन्य खाद्य सामग्री के उपयोग पर खाद्य तेल का कई बार उपयोग किया गया है जो शारीर के लिए घातक होता है, जिसे तीन से चार कंटेनर खाद्य तेल जब्त कर अपने सामने उसे फेंकवाया गया।कारखाने में जांच के दौरान कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी प्रदीप द्धिवेदी ने जांच के दौरान बताया कि कारखाने में 11 सिलेण्डर जब्त किए है जिनमें 5 कमर्षिलय गैस सिलेण्डर, 5 गो गैस के सिलेण्डर एवं 1 घरेलू गैस सिलेण्डर रहे है। जिसमें सभी सिलेण्डर तौल करने पर उनका वजन 137.5 किलो था। कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी प्रदीप द्धिवेदी ने बताया कि द्रवित पेट्रोलियम गैस प्रदाय एवं वितरण विनिमय आदेश 2000 के प्रावधानो के अनुसार 100 किलो से अधिक एलपीजी गैस सिलेण्डर का संग्रहण कोई भी प्रतिष्ठान नही कर सकता है। जिस पर अवैध तरीके से गैस सिलेण्डर का संग्रहण करने पर 11 सिलेण्डर सहित 1 चूल्हा जब्त किया गया।

No comments:

Post a Comment