Latest News

10 Oct 2018

सिविल सर्विसेज की तैयारी करने वालों के लिए कैदी ने निकाली मैगजीन : हिमाचल प्रदेश


शिमला। हिमाचल प्रदेश में बीते दिनों किए गए जेल सुधारों का असर दिखना शुरू हो गया है। यहां शिमला की एक जेल में बलात्कार के दोषी कैदी ने उम्मीदवारों को यूपीएससी और सिविल सेवा की प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिए तैयार करने में मदद करने के लिए एक मैगजीन तैयार की है।शिमला जिले में मॉडल सेंट्रल जेल में बंद 27 साल के विक्रम सिंह खिमता की करेंट अफेयर्स की मैगजीन 'कंपटीशन कंपेनियन' के अगले कुछ दिनों में लॉन्च होने की उम्मीद की जा रही है। अंग्रेजी और भूगोल में डबल एमए विक्रम खुद भी सिविल सेवा परीक्षा में बैठने के इच्छुक हैं। अगर हाई कोर्ट उन्हें दोषमुक्त पाता और रिहा करता है तो वह परीक्षा में बैठेंगे, वरना वह मैगजीन का प्रकाशन जारी रखने की योजना बना रहे हैं। 
सितंबर 2016 में ट्रायल कोर्ट ने भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (बलात्कार) के तहत शिमला जिले के मंडोल गांव में रहने वाले विक्रम खिमता को दोषी ठहराया था और सात साल की जेल की सजा सुनाई थी। विक्रम की ओर से हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट में इस आदेश को चुनौती दी गई है। विक्रम का कहना है, 'मुझे आशा है कि हाई कोर्ट मेरे हक में फैसला लेगा। मैं यूपीएससी और अन्य सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी कर रहा हूं, जिससे जेल से बाहर निकलने के बाद प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिए बैठ सकूं।' महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर आयोजित समारोह के दौरान विक्रम ने बताया, 'अगर मैं बरी नहीं हुआ, तो भी हार नहीं मानूंगा और अन्य उम्मीदवारों के लिए इस मैगजीन को प्रकाशित करना जारी रखूंगा।' 

No comments:

Post a Comment