Latest News

25 Oct 2018

आर्मी अफसर बनकर करता था ठगी, गिरफ्तार : लखनऊ

लखनऊ। आर्मी अफसर बनकर लोगों से ठगी करने वाले जालसाज को साइबर क्राइम सेल और हजरतगंज पुलिस की टीम ने बुधवार को धर दबोचा। लेफ्टिनेंट कर्नल की वर्दी में घूम रहे जालसाज के पास से कर्नल अरविंद मिश्रा का वॉलमार्ट का कार्ड, लाइसेंसी रिवॉल्वर समेत कई अन्य दस्तावेज मिले हैं। आरोपित ने धोखे से जम्मू निवासी युवती से शादी भी रचाई थी। सच पता चलने पर पीड़िता ने करीब छह महीने पहले हजरतगंज थाने में उसके खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज करवाई थी। साइबर क्राइम सेल के नोडल अफसर सीओ अभय कुमार मिश्रा के अनुसार बहराइच निवासी अरविंद मिश्रा खुद को आर्मी अफसर बताकर सेना में भर्ती करवाने के नाम पर ठगी करता था। देहरादून में पढ़ाई के बाद आरोपित ने जालसाजी शुरू कर दी थी। पूछताछ में मिली जानकारी के अनुसार आरोपित अब तक दो सौ से ज्यादा लोगों को लाखों की चपत लगा चुका है। इतना ही नहीं करीब छह महीने पहले जम्मू निवासी युवती ने आरोपित के खिलाफ बहराइच में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।रिपोर्ट में आरोप लगाया था कि अरविंद ने झूठ बोलकर शादी रचाई थी। उसके साथ बहराइच आने पर सच का पता चला। विरोध करने पर प्रताड़ित करने के साथ ही रुपये की मांग शुरू कर दी। इसके बाद अरविंद भाग निकला। तलाश में जुटी युवती को लखनऊ के सुशांत गोल्फ सिटी में किराए पर रहने की जानकारी हुई। आईजी रेंज सुजीत पांडेय के निर्देश पर हजरतगंज पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच साइबर सेल को सौंपी थी। 
युवतियों को फंसाने में फंसा 
जम्मू निवासी युवती की शिकायत के बाद पुलिस छानबीन कर रही थी। इसी बीच अरविंद ने मेट्रीमोनियल साइट पर खुद की प्रोफाइल बनाई। आर्मी अफसर की पोशाक में देखकर कई युवतियां झांसे में आ गईं। पुलिस के अनुसार मंगलवार को भी आरोपित एक डॉक्टर युवती से मिलने गया था। काफी समय से नजर रख रही पुलिस ने बुधवार को उसे कैंट इलाके से धर दबोचा। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि खुद को मध्य कमान में तैनात बता लोगों को झांसे में लेता था। इतना ही नहीं सेना के मध्यम स्तर के अधिकारी भी उसके प्रभाव में आ जाते थे। बातचीत के लहजे और रहन-सहन के तरीके से कोई शक नहीं कर पता था। पुलिस पता लगा रही है कि आरोपित को सेना के बारे में इतनी बारीक जानकारियां कहां से मिली थीं। 

No comments:

Post a Comment