Latest News

15 Sep 2018

कानपुर पुलिस के लिए सिरदर्द बना मुख्तार का सूटर बनारसी गैंगवार में ढेर : कानपुर

अनूप मिश्रा,(कानपुर)। कानपुर शहर का पचास हजार का इनामी बदमाश व मुख्तार गैंग के शार्प शूटर रईश बनारसी की शुक्रवार को देर शाम बनारस के थाना दशमेश स्थित पतालेश्वर और नाइ सड़क छेत्र में अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी।सूचना पर पहुची पुलिस शव को कब्जे में लेकर मृतक के परिजनों को बुलाकर शिनाख्त करवाने का प्रयास करवा रही है।हालांकि अभी बनारस पुलिस की तरफ से रईस के मारे जाने का आधिकारिक बयान नही आया है।पर उसके परिजनों के यहाँ से बनारस जाने के बाद यह तय माना जा रहा है कि मारा गया अपराधी रईस बनारसी ही है।बता दे कुछ दिन पहले बतौर एसएसपी चार्ज लेने के बाद अनन्त देव ने रईस को गिरफ्तार करने के लिए तेज तर्रार अफसरों की टीम बनाई थी।साथ ही रईस के घर के बाहर मुनादी कर उसे सरेंडर करने मो कहा गया।अनन्त देव की पहचान एनकाउन्टर स्पेशलिस्ट के रूप में की जाती है।और इन्होंने साठ से ज्यादा खूंखार अपराधियो को अपनी गोली का शिकार बनाया है।इनमे ददुआ, ठोकिया, बलखड़िया, जैसे खतरनाक डकैत भी शामिल है।
हिरामन का पुरवा का रहने वाला है रईस:
अनवरगंज के हिरामन का पुरवा से जरायम की दुनिया मे पैर रखने वाले रईस सिद्दीकी उर्फ रईस बनारसी को प्रदेश के बड़े क्रिमिनल के तौर पर जाना जाता है।भाई की हत्या के बाद बनारस में दसमेश घाट स्थित अपने ननिहाल में इसने पनाह ली।इस दौरान इसने बनारस के राजेश अग्रहरि, राजकुमार उर्फ गुड्डू मामा, बच्चा यादव,अवधेश सिंह, पंकज और जावेद खा को मिलाकर एक गैंग बना लिया।बनारस में रहने के कारण क्राइम वर्ड में लोगो ने राइस बनारसी के नाम से जाना गैंग चलाने के लिए उसने लूट व हत्या के साथ मुंगेर(बिहार) से विदेसी असलहों की तस्करी भी शुरू कर दी।

No comments:

Post a Comment