Latest News

13 Sep 2018

गाय के गोबर से बनाया कागज, गोशालाओं को होगा बड़ा फायदा : राजस्थान


जयपुर। खाना पकाने से लेकर आग जलाने तक, गाय के गोबर से कई तरह के ऊर्जा के स्त्रोत तैयार किए जा रहे हैं। अब इसी गोबर से कुछ ऐसी चीजें भी तैयार होंगी, जिनका इस्तेमाल आप हर रोज करते हैं।बुधवार को सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यम राज्य मंत्री सिंह ने शहर में गाय के गोबर से बने कागज को लॉन्च किया। खादी व ग्रामोद्योग आयोग की इकाई कुमाराप्पा नैशनल हैंडमेड पेपर इंस्टिट्यूट (केएलएचपीआई) ने इस कागज को बनाया है। केएलएचपीआई ने इस हैंडमेड कागज को गाय के गोबर और रैग पेपर को मिलाकर बनाया गया है। इस प्रयोग से मवेशी किसानों की न सिर्फ आय बढ़ेगी बल्कि सड़कों को भी साफ रखने में मदद मिलेगी।राज्य का गोपालन विभाग भी गोशालाओं को गोबर से कागज बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। गोपालन मंत्री ओटाराम देवासी ने कहा, 'जालोर में एक गोशाला ने गोबर से कागज बनाने का काम शुरू किया। हम हमेशा से गोशालाओं को प्रोत्साहित करते हैं कि वे कुछ ऐसा करें जिससे गाय द्वारा उत्पादित चीजों से राज्य की अर्थव्यवस्था बेहतर हो सके।' उन्होंने कहा, 'अभी कई गोशालाएं गोमूत्र से कीटनाशक बना रही हैं। अब गोबर से कागज बनेगा तो गोशालाएं आर्थिक रूप से और मजबूत होंगी। हमारी सरकार प्राइवेट गोशालाओं को भी फंड दे रही है।' आपको बता दें कि गोपालन विभाग गाय के गोबर और गोमूत्र को जैविक खाद के रूप में इस्तेमाल के लिए लगातार प्रोत्साहित कर रहा है। राज्य में कुल 1,160 गोशालाएं हैं, जिनमें लगभग 5,000 गायें रह रही हैं। इस दौरान मंत्री गिरिराज सिंह ने फूलों और नारियल की ऊपरी परत से बनी इको-फ्रेंडली हवन सामग्री को भी लॉन्च किया। 

No comments:

Post a Comment