Latest News

23 Jul 2018

कांग्रेस कमेटी ने महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को पुष्पांजलि अर्पित कर किया नमन : कानपुर


ज्ञान प्रकाश शर्मा,(कानपुर नगर)। महानगर कांग्रेस कमेटी द्वारा भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के यशस्वी महानायक बालगंगाधर तिलक की 162 वीं एवं क्रान्तिवीर चन्द्रशेखर आज़ाद की 112 वीं जयंती के पावन अवसर पर कांग्रेस मुख्यालय तिलक हाल में दोनों ही महारथियों के चित्रों पर माल्यार्पण के पश्चात आयोजित पुष्पांजलि संगोष्टी में महानगर कांग्रेस अध्यक्ष हरप्रकाश अग्निहोत्री ने बालगंगाधर तिलक को देश का सच्चा सहयोगी , उद्भट विद्वान व मूर्धन्य अध्यात्मिक युगदृष्टा बताते हुये कहा कि तिलक जी ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ प्रभावी उग्र आंदोलन चलाये जाने की पहल ही नहीं की बल्कि स्वदेशी आंदोलन को घर- घर तक पहुँचाने के लिये आध्यात्म का सम्बल बना कर गणपति उत्सव व शिवाजी जयंती जैसे धार्मिक आयोजन कर सम्पूर्ण महाराष्ट्र ही नहीं सम्पूर्ण देश में नई जनक्रांति का सृजन किया । इतना ही नहीं कांग्रेस के नरम रुख के विरुद्द जाकर विपिनचंद्र पाल व लाला लाजपतराय जैसे कर्मशील देश प्रेमियों के साथ कांग्रेस में ही रहकर गरम दल के प्रादुर्भाव के साथ "स्वतंत्रता मेरा जन्म सिद्द अधिकार हैं और उसे प्राप्त करके रहूंगा "का उदघोष कर देश में भावानात्मक आत्मसम्मान जागृति करने का गुरुतरु कार्य किया था । तिलक जी श्रेष्ठतम विद्वव ता एवं आध्यात्मिक पटुआ की मिसाल बनी गीता जैसे धार्मिक ग्रन्थ पर गीता रहस्य प्रादुर्भाव कर अमर ही नहीं हो गये बल्कि करोड़ों देशवासियों के पथ प्रदर्शक बने । जिन्हें देश भुला नहीं सकता । 
इस अवसर पर श्री अग्निहोत्री ने अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद को भी सच्चा देश भक्त , अद्भुत शौर्य का कर्मयोगी बताते हुये कहा कि आज़ाद ने अपने क्रांतिकारी जीवन को न केवल भारत माता को समर्पित करने का वृत ही लिया था बल्कि क्रूर अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ उग्र आंदोलनों के सिलसिले से उन्हें नाकों चने चबाने का कार्य कर भारतीय स्वतंत्रत संग्राम को पैना बनाये रखनें का आश्चर्यचकित करने वाला कार्य किया था । देश की अस्मिता की रक्षा के लिये चन्द्रशेखर आजाद ने अपने प्राणों तक का उत्सर्ग कर दिया था उनका बलिदान सदैव चिरस्मरणीय रहेगा । कार्यक्रम का संयोजन व संचालन शंकर दत्त मिश्र ने किया ।संगोष्ठी को सर्वश्री विधायक सुहैल अंसारी , आलोक मिश्रा , अशोक धानविक , कमल जायसवाल , इकबाल अहमद , ग्रीन बाबू सोनकर , संतोष पाठक , सुबोध बाजपेई , नदीम सिद्दीकी ,सतीश दीक्षित , राकेश साहू , चन्द्रमणि मिश्र , राजनारायण जायस, सैमुअल लक्की सिंह , संजय शाह , ज़फर शाकिर , गुड्डे मंसूरी , मो०अकील कुरैशी , विनीत पाण्डेय , मोहित गुप्ता , धीरू मिश्रा , काजी अज़ीज़उल्ला खां , अनूप अवस्थी , नितिन श्रीवास्तव , सुरेंद्र तिवारी , विपिन तिवारी , मनोज तिवारी , ज़फर अली लख़नवी आदि ने भी सम्बोधित करते हुये देश के महान देशभक्त स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों बालगंगाधर तिलक व चन्द्र शेखर आज़ाद के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालते हुये उन्हें अपने श्रद्दा सुमन समर्पित किये ।

No comments:

Post a Comment