Latest News

20 Jul 2018

मंडलआयुक्त ने चिकित्सा विभागीय बैठक की : कानपुर


ज्ञान प्रकाश शर्मा,(कानपुर नगर)। मण्डलायुक्त के शिविर कार्यालय स्थित सभाकक्ष में आयोजित चिकित्सा विभाग के मण्डलीय हेल्थ पार्टनर्स फोरम की समीक्षा बैठक में अपर निदेशक स्वास्थ्य, समस्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी, चिकित्सा अधीक्षक एवं सहयोगी पार्टनर्स के प्रतिनिधियों को निर्देशित करते हुए मण्डलायुक्त श्री सुभाष चन्द शर्मा ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के समस्त कर्मियों को स्लीपिंग मोड से निकलकर एक्टिव मोड में आना होगा। स्वास्थ्य विभाग में तैनात डाक्टर व अन्य मेडिकल स्टाफ से चिकित्सीय कार्य प्राथमिकता पर लिया जाये, रिपोर्टिंग का कार्य विभिन्न स्कीमों में तैनात कर्मियों से लिया जाये। उन्होंने अपर निदेशक आर0पी0 यादव को निर्देशित करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग मात्र रिपोर्ट कलेक्शन का केन्द्र न बनें बल्कि सभी सहयोगी पार्टनर्स जैसे यू0एन0डी0पी0, जपाइगो, यूनीसेफ, एच0एल0एफ0पी0पी0टी0, पापुलेशन सर्विसेज़ आॅफ इन्टरनेशनल, यू0पी0 टी0एस0यू0, डब्लू0एच0ओ0, रीजनल कोआर्डिनेटर आशा, अर्बन हेल्थ मिशन, क्वालिटी एश्योरेन्स के प्रतिनिधियों के साथ संयुक्त रूप से भ्रमण व समीक्षा करें। सहयोगी पार्टनर की रिपोर्ट को अमल में लाया जाये।
श्री शर्मा ने निर्देशित किया कि न्यूट्रीशन रिहैविलिटेशन केन्द्रों को सुदृ़ढ़ बनाया जाये इन केन्द्रों के बाथरूम, विद्युत आपूर्ति आदि को इस स्तर का बनाया जाये कि मरीज़ रूक सकें । कड़ेे लहजे़ में मण्डलायुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में लीडरशिप का अभाव हो चुका है। लीडरशिप को स्थापित करने के लिये चहेतों से कार्य लेने की प्रवृत्ति छोड़नी होगी। इसी क्रम में कानपुर देहात के एन0आर0सी0 सेन्टर में तैनात दोनो कर्मियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही का निर्देश श्री शर्मा द्वारा दिया गया। मण्डलायुक्त ने निर्देश देते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रमों से पंचायतराज विभाग, महिला कल्याण एवं बाल विकास पुष्टाहार तथा प्राथमिक स्कूलों को सीधे तौर से जोड़ा जाये। स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रमों के बारे में जन-जागरूकता पैदा करने में इन विभागों का सहयोग लेना उचित होगा। वैक्सीन के कोल्ड चेन को मेन्टेन करने में किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।
समीक्षा के दौरान पाया गया कि सारथी संदेश वाहिनी योजना द्वारा परिवार नियोजन कार्यक्रम को बढ़ावा दिया जाता है। हौसला ट्रेनिंग सेन्टर के माध्यम से कानपुर नगर एंव इटावा में परिवार नियोजन प्रशिक्षण केन्द्र की स्थापना जिला महिला चिकित्सालय में की गयी है। प्रधानमन्त्री मातृत्व वन्दना योजना के अन्र्तगत महिला को प्रथम बच्चे के जन्म पर रू0 5000 तीन किश्तों में दिये जाते है। धनराशि सीधे लाभार्थी के खाते में हस्तान्तरित करने का प्रावधान है। हौसला साझीदारी स्कीम के माध्यम से निजी चिकित्सालयों में परिवार नियोजन कार्यक्रमों को बढ़ावा दिया जाता है। इस योजनांतर्गत महिला नसबन्दी एवं पुरुष नसबन्दी में प्रति रू0 1000 एवं संस्थान को क्रमशः रू0 2500 व रू0 3000 देने का प्रावधान है। मेरी सेहत मेरा निर्णय योजना के अन्तर्गत  कानपुर मण्डल के सभी जनपदों में कक्षा 8 से कक्षा 12 तक की किशोरियों को जैसे स्वच्छता एनीमिया, पोषण एवं विवाह की सही उम्र की जानकारी दी जाती है।
कुपोषण के सम्बन्ध में समीक्षा के दौरान पाया गया कि आई0सी0डी0एस0 विभाग की जून 2018 की रिपोर्ट के अनुसार कुपोषित बच्चों में 41 प्रतिशत की कमी आयी है। समीक्षा में पाया गया कि बच्चे के जन्म के पश्चात 01 घन्टे के अन्दर माँ का दूध पिलाने में और अधिक जागरूकता एवं सलाह की आवश्यकता है। विदित हो कि बच्चे के जन्म के तत्काल पश्चात स्तनपान कराना जहाँ एक ओर माँ के स्वास्थ्य के लिये लाभप्रद है वहीं बच्चे के लिये अमृत है, जोकि बच्चे के लिये प्रतिरक्षण का कार्य करता है। मण्डलायुक्त श्री शर्मा ने जोर देकर कहा कि इस प्रकार की बैठकें एवं जन- जागरूकता कार्यक्रम अधिक से अधिक आयोजित किये जायें ।

No comments:

Post a Comment