Latest News

11 Jul 2018

गटर से मिली विदेशी पिस्टल, एक तस्वीर पर प्रशासन हो गया मौन : मुन्ना बजरंगी हत्या काण्ड


मेरठ। बागपत जेल में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में सुनील राठी के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर में कई अहम जानकारियां सामने आई हैं। मुन्ना बजरंगी की हत्या विदेशी पिस्टल के जरिए की गई थी। इस पिस्टल को जेल के गटर से 13 घंटे की मशक्कत के बाद मैग्नेट के जरिए खोज निकाला गया। पिस्टल बरामद होने के साथ ही यह साफ हो गया कि स्पेन में बनी सेमिऑटोमैटिक पिस्टल से ही बजरंगी का कत्ल किया गया था।बता दें कि मुन्ना बजरंगी की हत्या करने के आरोपी सुनील राठी के खिलाफ दो एफआईआर दर्ज कराई गई हैं। एक हत्या की और दूसरी अवैध हथियार रखने की। सस्पेंड हो चुके जेलर यूपी सिंह ने हत्या की रिपोर्ट में कहा है, 'मैं अपने दफ्तर में सुबह बैठा था। करीब 6 बजकर 10 मिनट पर कर्मचारियों ने आकर बताया कि बंदी मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गई है।' हालांकि, दूसरी एफआईआर खेकड़ा थानाध्यक्ष रजनीश कुमार ने सुनील राठी पर अवैध हथियार रखने और बरामदगी की दर्ज कराई हैं, जिसमें साफ है कि विदेशी पिस्टल से मुन्ना बजरंगी को मारा गया।' 
हत्या की वारदात के एक घंटे बाद पुलिस और जेल प्रशासन को यह सूचना सुनील राठी की तरफ से दे दी गई थी कि उसने हत्या करने के बाद पिस्टल को गटर मे फेंक दिया। इसके बाद पुलिस ने गटर में पिस्टल की तलाश कराई थी। पिस्टल की खोज के लिए पुलिस की टीम के साथ सफाईकर्मियों का दल भी लगाया गया था। एफआईआर में दर्ज विवरण के मुताबिक, करीब 13 घंटे के बाद फील्ड यूनिट की टीम के साथ एक बड़े मैग्नेट को गटर में काफी देर तक घुमाया, जिसके बाद पिस्टल उससे चिपक गया और उसे बाहर निकाला गया, जबकि मैग्जीन, जिंदा कारतूस एक लाल रंगे की पॉलिथीन से मलबा निकालने के दौरान मिले।पुलिस ने पिस्टल बरामदगी के ऑपरेशन में दो बंदियों को भी साथ रखा ताकि बाद मे बतौर गवाह उनको पेश किया जा सके, जिनमें एक बंदी सुमित बागपत के बड़ौत और दूसरा समीर नोएडा का रहनेवाला है। एफआईआर में दर्ज पिस्टल के विवरण के मुताबिक, यह सेमिऑटोमैटिक और स्पेन की बनी हुई है। पिस्टल में लगी मैग्जीन में पांच गोलियां मिली हैं। इसके साथ ही 17 बुलेट एक पॉलिथीन में थे। पिस्टल पर एक जगह तीन और एक जगह दो लिखा है, जिन्हें मिटाकर आठ लिखने की कोशिश की गई है। माना जा रहा है कि यह शिनाख्त खत्म करने की कोशिश है। 
हैरान करनेवाली बात तो यह है कि जिस गटर में सुनील ने हत्या करने के बाद पिस्टल फेंक दी थी, उसी गटर में बियर और कोल्ड ड्रिंक के केन आदि भी मिले। माना जा रहा है कि बंदियों के लिए जेल परिसर में सारी सुविधाएं मुहैया कराई जाती हैं। गटर में इस तरह की प्रतिबंधित चीजों का एक फोटो भी सामने आया है। जेल प्रशासन इस मुद्दे पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। 

No comments:

Post a Comment