Latest News

5 Jul 2018

पुलिस की बाइक से स्नैचिंग करने वाले गिरफ्तार : गाजियाबाद


गाजियाबाद। दिल्ली पुलिस के सिपाही से लूटी गई बाइक पर चोरी करने वाले चार आरोपितों को लिंक रोड पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपितों के पास से पुलिस ने लूटी गई पांच बाइक और दो मोबाइल फोन बरामद किए हैं। जांच में सामने आया कि लुटेरे चोरी की बाइक पर कार का नंबर फर्जी तरीके से लगाकर लूटपाट की वारदात करते थे। पूछताछ में आरोपितों ने 100 से अधिक लूट की वारदात करने की बात कबूली है। आरोपितों ने बताया कि लूटी गई बाइक या मोबाइल को वे आधे से भी कम दाम पर ग्रामीण क्षेत्रों में बेच देते थे।साहिबाबाद सीओ राकेश कुमार मिश्र ने बताया कि लिंक रोड एसएचओ जेपी चौबे और महाराजपुर चौकी प्रभारी अजय वर्मा मंगलवार रात कौशांबी बस डिपो के पास चेकिंग कर रहे थे। इस दौरान दो बाइक सवार चार युवकों को चेकिंग के लिए रोका गया था। जांच में पता चला कि उनके पास दोनों बाइक चोरी के हैं। शक होने पर पुलिस ने चारों आरोपितों से पूछताछ की तो पता चला कि आरोपित चोरी की बाइक से स्नैचिंग की वारदात करते थे। आरोपितों की निशानदेही पर कौशांबी स्थित एक झुग्गी के पास से तीन अन्य बाइक बरामद किए हैं। गिरफ्तार आरोपितों की पहचान इमरान निवासी जाफराबाद दिल्ली, समीर उर्फ दानिश और अनवर निवासी जाफराबाद दिल्ली एवं कबीर खान उर्फ सद्दाम निवासी सीलमपुर दिल्ली के रूप में हुई है। 
जांच में पता चला है कि बदमाशों ने 18 अप्रैल को दिल्ली के ट्रैफिक पुलिस के सिपाही अरविंद से ड्यूटी के दौरान बाइक लूटी थी। अरविंद डीएनडी पर ड्यूटी कर रहे थे। लूट के बाद बदमाश लगातार बाइक से दिल्ली एनसीआर में लूटपाट कर रहे थे। इस दौरान आरोपित हर बार बाइक का नंबर बदल लेते थे। बाइक बरामद होने पर पुलिस को चोरी की बाइक पर कार की नंबर प्लेट मिली।पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वह अब तक सैकडों की संख्या में मोबाइल लूट चुके हैं। लूटे गए सभी मोबाइल दिल्ली-एनसीआर की विभिन्न सड़कों से स्नैच किए गए थे। उन्होंने अधिकांश मोबाइल ऑटो चालकों को बेचे हैं। हर स्मार्ट फोन तीन से पांच हजार रुपये में बेचा गया है। आरोपितों ने बताया कि वे जिसे भी मोबाइल बेचते थे चोरी का बता कर ही बेचते थे। 
गिरोह की गिरफ्तारी के बाद से टीएचए में स्नैचिंग की वारदात कुछ हद तक कम होंगी। पुलिस आरोपितों से चोरी के बाइक और मोबाइल की जानकारी हासिल करने के प्रयास कर रही है। -राकेश मिश्र, सीओ 

No comments:

Post a Comment