Latest News

25 Jul 2018

बुंदेलखंड के किसान की बेटी ने अमेरिका में जमाई धाक : झांसी


गिरजाशंकर राय,(झाँसी)। बुंदेलखण्ड(उत्तर प्रदेश) के झाँसी जिले के बड़ागांव ब्लाक के पारीछा गाँव के रहने वाले रामबली सिंह एक साधारण से किसान है। उनकी चार सन्तानें हैं तीन बेटियाँ और एक बेटा है। यह बेटी सबसे बड़ी है,उन्होंने अपनी  बेटी दीप ज्योति के साथ-साथ अपनी हर बेटी को हमेशा अपना बेटा समझा है और अच्छी से अच्छी शिक्षा दिलाई। उनके इस कदम के लिए कई बार गाँव के ही कुछ लोगों से उनकी कहा-सुनी भी हुई,मगर उन्होंने किसी की ना सुनी और अपनी बिटिया की पढ़ाई जारी रखी। बिटिया के चाचा प्रमोद सिंह ने बताया की उन्होंने अपने भाई का खेती-बाड़ी में पूर्ण सहयोग कर बिटिया को कभी पढ़ने के लिए होने वाली आर्थिक परेशानियों को आड़े नहीं आने दिया। बिटिया ने 10वीं पारीछा के सेक्रेट हार्ट कॉन्वेंट स्कूल से पास किया।इसके बाद 12वीं रानी लक्ष्मीबाई पब्लिक स्कूल से पास किया।बिटिया ने दोनों परीक्षायें 80 प्रतिशत से ज़्यादा से पास की,और पिता बिटिया को  इतना अच्छा पढ़ते देख उसकी पढ़ाई को नहीं रोका और बिपिन बिहारी डिग्री कॉलेज से बीएससी करने के बाद पिता ने बिटिया को एमएससी की उच्च डिग्री भी दिलवाई। इसके बाद बिटिया ने जवाहर लाल यूनिवर्सिटी नई दिल्ली से लाइफ साइन्स से पीएचडी की। पीएचडी करने के बाद बिटिया का चयन अमेरिका की सायराक्यूज यूनिवर्सिटी न्यूयार्क में तीन लाख रुपये प्रति माह वेतन पर पोस्ट डॉक्टरल फैलो के पद पर हो गया इससे किसान के परिवार के साथ-साथ पूरे गाँव में खुशी का माहौल है।जानकारी बुन्देलखण्ड किसान पंचायत के जिला अध्यक्ष रामजी सिंह जादौन परीछा ने दी।

No comments:

Post a Comment