Latest News

2 Jul 2018

अवैध असलहे बनाते युवक को पुलिस ने किया गिरफ्तार : फतेहपुर


अमित कुमार सिंह,(फतेहपुर)। जनपद में आरोपियों पर लगाम लगाने के लिए पुलिस ने अपनी कमर कस ली हैं। एक लम्बे समय से जनपद में अवैध असलहे का कारोबार चल रहा जिसके चलते पुलिस के लिए महज सर दर्द बनकर रह गया था। मगर पुलिस ने आरोपियों पर शिकंजा कसना शुरू किया और लगातार असलहे तस्करो को छापा मारी करके सलाखों के पीछे भेजने का काम किया।  आज पुलिस को फिर कामयाबी उस समय मिली जब आरोपी एक कोठरी में असलहे बना रहा था। उसी समय उसको धर दबोचा जिसके पास से निर्मित तमंचा व् अर्द्धनिर्मित तमंचा व् बनाने के उपकरण बरामद मौके से पुलिस ने किये जिसको आरोपी जनपद से लेकर गैर जनपदों में  एजेंटो के माध्यम से बेचने का काम किया करता था । उत्तर प्रदेश फतेहपुर जिले के असोथर थाना क्षेत्र के धरमपुर मजरे सुसवन निवासी बसंत लाल केवट जो की अवैध असलहे का कारोबार किया करता था। पुलिस को इसकी भनक तो थी। मगर कई बार छापेमारी के बाद भी यह आरोपी शिकंजे से बच निकला था । पुलिस ने इसकी गिरफ्तारी को लेकर अपने मुखबिरों के साथ साथ  थाना इंचार्ज को इस के ऊपर निगाह रखने के निर्देश दे रखे थे । पुलिस को जैसे ही सुचना मिली की बसंत लाल मकान के पीछे बनी एक कोठरी मेंअसलहे बना रहा हैं बिना विलम्ब किये पुलिस ने भारी बल के साथ छापेमारी करते हुए बसंत लाल केवट को धर दबोचा और उसके पास से पांच अदद निर्मित तमंचा और चार अदद अर्द्धनिर्मित तमंचा के साथ तमंचे बनाने के उपकरण भी बरामद किये। यह आरोपी पिछले दस वर्षो से असलहे बनाने व् बेचने का  कारोबार कर रहा था । बने हुए असलहे को एजेंटो के माध्यम से जनपद से लेकर  गैर जनपदों में यह असलहे बेचे जाते थे। बसंत लाल इस मामले में कई बार पकड़ा जा चुका हैं।
इस बारे में पुलिस अधीक्षक राहुल राज ने बताया की बराबर सूचनाएं आ रही थी की अवैध असलहे का निर्माण किया जा रहा हैं।  इस सम्बन्ध में एक अभियान चलाया गया जितनी भी यमुना पट्टी के सभी थानों को निर्देश दिए गए की ऐसी जगह जहा अवैध असलहे बनायाए जा रहे है। उस जगह को चिन्हित करे और दबिश दे। जिसमे थाना असोथर  ने एक अवैध असलहे बनाने वाले बसंत लाल नामक ब्यक्ति को पकड़ा हैं। उसके पास से असलहे बनाने के उपकरण के साथ साथ पांच निर्मित तमंचे व् चार अर्द्धनिर्मित तमंचे, बसंत लाल जिसकी क्रिमिनल हिस्ट्री भी हैं। यह पहले सन 2008 में भी पकड़ा गया था। 2014 में भी इसके ऊपर मुक़दमे हैं। इस सम्बन्ध में और भी पूछ ताछ कर रहे हैं। इससे सम्बंधित और जितने मामले होंगे कहाँ कहां यह सप्लाई करता था हम लोग जानकारी कर रहे हैं। 

No comments:

Post a Comment