Latest News

29 Jun 2018

विमान हादसे के वे अंतिम पल, लोगों को बचाने में गई पायलटों की जान : मुंबई


मुंबई। मुंबई के घाटकोपर इलाके में विमान क्रैश के अंतिम क्षणों में अगर पायलट और टीम के उनके सदस्य सूझबूझ नहीं दिखाते तो यह हादसा और भी बड़ा होता। इस विमान हादसे में चार क्रू सदस्यों के अलावा एक राहगीर की भी मौत हुई। मृतकों में से एक पायलट कैप्टन राजपूत के परिजनों का कहना है कि अगर वह और उनकी टीम चाहते तो पैराशूट के इस्तेमाल से बच सकते थे, लेकिन उन्होंने आवासीय इलाके से विमान को निकालने और दूसरों की जान बचाने को अपनी जिंदगी से ज्यादा तवज्जो दी।गुरुवार को दोपहर 12:20 पर जुहू हवाई अड्डे से उड़ान भरने वाले इस जहाज को टेस्ट फ्लाइट के बाद जुहू पर ही उतरना था। लेकिन यह टेस्ट फ्लाइट पूरी नहीं हो सकी और एयरपोर्ट पर लौट रहा जहाज उड़ान भरने के 48 मिनट बाद ही क्रैश हो गया। जहाज जिस निर्माण साइट पर क्रैश हुआ वहां से सिटी एयरपोर्ट के रनवे की दूरी 3 किमी से भी कम बची थी। उड़ान के दौरान लैंडिंग के लिए जहाज ने ज्यों ही राइट टर्न लिया, उसका संपर्क एटीएस जुहू से टूट गया। इसके बाद विमान एक पेड़ से टकरा गया। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो उन्हें ऊपर से आग का गोला आते दिखा और एक के बाद एक तीन धमाकों के बाद मलबा फैल गया। वे 40 मजदूर आज खुद को भाग्यशाली समझ रहे होंगे जो उस कंस्ट्रक्शन साइट पर काम कर रहे थे, जहां हादसा हुआ। हादसे से ठीक पहले ये मजदूर खाना खाने चले गए थे।बिहार के मोहम्मद रौनक (24) जो पिछले एक साल से जागृति इमारत के निर्माण कार्य में मजदूरी का काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि घटना से कुछ मिनट पहले ही मेरे दोस्तों ने मुझे खाना खाने के लिए बुलाया। मैंने पहला निवाला मुंह में डाला ही था कि ऐसा लगा जैसे बगल में बम फूटने लगा है। इसके बाद 30 मीटर की दूरी पर ही से हमने देखा कि आग लगी है और धमाके हो रहे हैं, एक के बाद एक। रौनक करीब 1 बजे अपना काम छोड़ खाना खाने गए थे। 
प्रवीण शाह और उनका बेटा जो कि घटनस्थल के पास ही की सोसायटी में रहते हैं। वह अपनी दुकान बंद कर अपनी कार से घर आ रहे थे। जैसे ही उनकी कार जागृति इमारत को पार की करीब 20 से 25 मीटर की दूरी पर जाने के बाद ही उन्हें धमाका सुनाई दिया। जब उन्होंने पीछे मुड़कर देखा तो सड़क पर आग फैल रही थी। शाह ने बताया कि अगर कुछ मिनट की और देरी से दुकान बंद की होती तो शायद मैं और मेरा बेटा हादसे का शिकार हो गए होते। भगवान का लाख-लाख शुक्र है, जिन्होंने हमें बचा लिया।घटनास्थल से 100 मीटर से भी कम की दूरी पर स्थित इमारत जय कुअर बिल्डिंग की तीसरे मंजिले पर रहने वाली हृति और शेफाली ने बताया कि यहां से विमान अक्सर पास होते थे। ऐसे ही 1.15 बजे के करीब विमान हमारे टेरेस फ्लैट के ऊपर से गुजरा। इसके बाद अचानक एक धमाका हुआ। फिर हमने खिड़की पर जा कर देखा, तो सड़क पर आग ही आग थी। इसके बाद देखा कि विमान के मलबे की चपेट में एक राहगीर आ गया, जिसका नाम गोविंद पंडित होने की बात लोग कह रहे हैं। इसके बाद हमारी बिल्डिंग से पहली और दूसरी मंजिल के लोगों ने घर खाली करना शुरू कर दिया, क्योंकि नीचे लकड़ी की दुकान थी और आग फैलने की गुंजाइश अधिक थी। शेफाली स्कूल बंद कर सिर्फ घर में पहुंची ही थीं कि हादसा हुआ। 
एक एयर ट्रैफिक कंट्रोलर अधिकारी ने बताया कि अक्सर टेस्ट फ्लाइट्स के लिए पायलट साफ मौसम में ही उड़ान भरते हैं क्योंकि टर्बुलेंस होने पर एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजिनियर्स खराबी का पता नहीं लगा सकते। जुहू एयरपोर्ट डायरेक्टर एके वर्मा ने बताया कि प्लेन दोपहर 12:23 बजे प्लेन ने टेक ऑफ किया। फ्लाइट प्लान के मुताबिक प्लेन सूरत की ओर उड़ा और मुंबई वापस आया।एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पायलट ने मुंबई एयरपोर्ट के मेन रनवे पर उतरने की तैयारी की। उसके बाद जुहू की ओर बढ़ा। अधिकारी ने बताया कि पायलट्स ने मुंबई से 8 नॉटिकल माइल्स पर ATC से संपर्क किया और बताया कि और नजदीक आने पर वे दोबारा संपर्क करेंगे। उन्होंने कोई डिस्ट्रेस मेसेज नहीं भेजा। उसके बाद कोई संपर्क नहीं हुआ। बताया गया कि क्रैश से पहले प्लेन 120 नॉटिकल माइल्स प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ रहा था। 

No comments:

Post a Comment