Latest News

24 Jun 2018

चाय बेचने वाली की बेटी का एयरफोर्स में चयन : मध्‍य प्रदेश


नीमच। कहते हैं कि दिल में अगर कुछ कर गुजरने की इच्‍छा हो तो कोई भी काम असंभव नहीं है। कुछ ऐसा ही कर दिखाया है मध्‍य प्रदेश के नीमच में चाय बेचने वाले की बेटी आंचल गंगवाल ने। आंचल का चयन इंडियन एयरफोर्स के फ्लाइंग ब्रांच के लिए हुआ है। आंचल गंगवाल ने बताया कि वर्ष 2013 में उत्‍तराखंड में बाढ़ के दौरान भारतीय सेना द्वारा चलाए गए राहत और बचाव अभियान से वह बेहद प्रभावित थीं और इसीलिए एयरफोर्स जॉइन करने का फैसला किया।आंचल गंगवाल ने कहा, 'जब मैं 12वीं में थी, उस समय उत्‍तराखंड में बाढ़ आई हुई थी और जिस तरह से सेना ने प्रभावित लोगों के लिए राहत और बचाव अभियान चलाया, उससे मैं बेहद प्रभावित थी। इसके बाद मैंने फोर्स जॉइन करने का फैसला किया लेकिन उस समय मेरे पारिवार की परिस्थितियां ठीक नहीं थीं।' 
उन्‍होंने कहा कि एयरफोर्स कॉमन ऐडमिशन टेस्‍ट को पास करना उनके लिए आसान काम नहीं था। आंचल ने 5 बार इंटरव्‍यू बोर्ड का सामना किया और असफलता हाथ लगी। छठवीं बार उन्‍होंने फिर से प्रयास किया और सफलता हाथ लगी। आंचल का रिजल्‍ट 7 जून को घोषित हुआ। आंचल देशभर की उन 22 प्रतिभागियों में शामिल हैं जिनका चयन इस पद के लिए हुआ है। मध्‍य प्रदेश से वह तो वह अकेली हैं। करीब 6 लाख लोगों ने इस परीक्षा में हिस्‍सा लिया था। 
आंचल के पिता सुरेश गंगवाल नीमच बस स्‍टैंड पर चाय की दुकान चलाते हैं। बेटी की इस शानदार सफलता पर उन्‍होंने कहा, 'इलाके में अब सभी नामदेव टी स्‍टॉल के बारे में जानते हैं। जब लोग आते हैं और बधाई देते हैं तो मै बहुत अच्‍छा सुखद महसूस करता हूं।' सुरेश ने कहा कि उन्‍होंने अपनी आर्थिक स्थिति को कभी भी अपने तीन बच्‍चों की शिक्षा में बाधा नहीं बनने दी। उन्‍होंने कहा, 'मैंने लोन लिया और आंचल को कोचिंग के लिए इंदौर भेजा और बेटे को इंजिनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए पैसा दिया। मेरी सबसे छोटी बेटी 12वीं में है।' आंचल को 30 जून तक हैदराबाद स्थित डौंडीगुल एयरफोर्स अकैडमी जॉइन करने के लिए कहा गया है। 

No comments:

Post a Comment