Latest News

25 Jun 2018

बड़े भाई को किडनी दान करने के लिए छात्र ने की खुदकुशी : गुजरात


वडोदरा। गुजरात के वडोदरा में एक छात्र ने अपने बड़े भाई का जीवन बचाने के लिए खुद आत्महत्या कर ली। 19 साल का यह छात्र अपने बड़े भाई को अपनी दोनों किडनी दान करना चाहता था, इसके लिए उसने अपने हॉस्टल के कमरे में फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। इसके बावजूद समय से अंगों का ट्रांसप्लांट ना हो पाने के कारण उसकी किडनी का इस्तेमाल उसके भाई के लिए नहीं किया जा सका।पुलिस के मुताबिक, आत्महत्या करने वाले छात्र का नाम नैतिक कुमार है और वह अब तक वरनामा के एक निजी इंजिनियरिंग कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था। 19 वर्षीय छात्र का बड़ा भाई कनिष बीते कई दिनों से गुर्दे की बीमारी से परेशान था, जिसके लिए उसे ट्रांसप्लांट कराने की सलाह दी गई थी। नैतिक ने इसी के लिए खुदकुशी कर ली, जिससे कि वह अपने भाई को अपनी दोनों किडनी दान कर सके। खुदकुशी करने के बाद उसके रुममेट ने जब शनिवार को नैतिक का शव कमरे की छत से लटकता देखा, तो उसने तत्काल कॉलेज प्रशासन और पुलिस को इस मामले की जानकारी दी। 
इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने जब नैतिक के कमरे की तलाशी ली तो वहां से एक सूइसाइड नोट बरामद किया गया। इस सूइसाइड नोट में नैतिक ने लिखा था कि वह अपने भाई की मदद के लिए खुदकुशी कर रहा है, इस कारण पुलिस किसी से भी उसकी आत्महत्या को लेकर कोई पूछताछ ना करे। नैतिक ने इस सूइसाइड नोट में यह भी लिखा कि उनकी किडनी को उनके बड़े भाई को दे दिया जाए और शेष अंग भी किसी ना किसी जरूरतमंद को दान कर दिए जाएं। 
नैतिक की इस इच्छा पर परिवार के लोगों ने जिले के एसएसजी अस्पताल के चिकित्सकों से ऑर्गन ट्रांसप्लांट के लिए मदद मांगी। इसके बाद जब नैतिक के शव को अस्पताल लाया गया तो चिकित्सकों ने देर हो जाने के कारण अंगों के ट्रांसप्लांट से इनकार कर दिया। इस बारे में डॉक्टरों ने कहा कि नैतिक के शव को आत्महत्या के 36 घंटे बाद बरामद किया गया होगा, जिस कारण उनके अंगों को ट्रांसप्लांट के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सका।पुलिस के मुताबिक, सूइसाइड से पहले बुधवार को नैतिक ने अपनी मां से बात भी की थी, लेकिन तब तक परिवार में किसी को भी इस अनहोनी का कोई अंदेशा नहीं था। 

No comments:

Post a Comment