Latest News

22 Jun 2018

बलात्कार का दोष सिद्ध होने पर न्यायालय ने सुनाया 10 वर्ष का सश्रम कारावास की सजा : चित्रकूट


चित्रकूट। बलात्कार के मामले में अपर सत्र न्यायाधीश/फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट ने अपराधी को सुनाया 10 वर्ष का सश्रम कारावास की सजा तथा 2500 रुपये अर्थदंड से भी किया दंडित।एपीओ विवेक चंद्रा ने बताया कि राजापुर थानाअंतर्गत भभेट गांव निवासी पीडित के ससुर ने पुलिस को दिए तहरीर में बताया कि 25 फरवरी 2013 को उसकी गूंगी बहु हरियाल उखाड़ने गयी थी जब वह वापस सर पर बोझ रखकर आ रही थी तभी रास्ते मे सुनील पुत्र रज्जन मिला तो उसकी बहु के शिर में रखा बोझ गिरा दिया तथा ने उसको बुरी नियत से दबोच लिया और छेड़ने लगा।पीड़िता के साथ उसकी 8 वर्षीय पुत्री भी थी।पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर चार्जशीट न्यायालय में दाखिल किया।सबूतों और बयानों के आधार पर पीड़ित के साथ बलात्कार किया गया। बचाव और अभियोजन पक्ष की दलीले सुनने के बाद आरोप सिद्ध होने पर   अपर जिला सत्र न्यायाधीश सुभाष सिंह  अभियुक्त को 10 साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाया और 25500/ रुपये के अर्थदण्ड से भी दंडित किया। जिसमें पीड़िता को अधिरोपित अर्थदंड में से प्रतिकर के रूप में बीस हजार रुपये दिए जाएं।

No comments:

Post a Comment