Latest News

21 May 2018

छात्रा की हत्या के मामले में पिता-पुत्रों को आजीवन कारावास : कासगंज


अमित कुमार तिवारी,(कासगंज)। अमांपुर थाना क्षेत्र में साढ़े चार वर्ष पूर्व हुई छात्रा की गला रेतकर हत्या के मामले में पिता-पुत्र समेत तीन को दोष सिद्ध पाया गया है। विद्वान न्यायाधीश जिला जज के न्यायालय में सोमवार को मामले की सुनवाई की गई। दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद जिला जज ने आरोपियों को दोषी माना। तीनों को आजीवन कारावास एवं 50-50 हजार रुपए का जुर्माना अदा करने की सजा सुनाई है। जुर्माना अदा करने पर छह-छह माह का अतिरिक्त कारावास भी आरोपियों को भुगतना होगा। 
अमांपुर थाना क्षेत्र के टिकुरिया गांव निवासी अनोखे लाल की 14 वर्षीय पुत्री पूजा नगला गुलरिया के श्रीमती फूलवती देवी कन्या इंटर कालेज में दसवीं की छात्रा थी। गांव के ही ओमवीर ने स्कूल जाते समय उस पर फब्तियां कसीं थीं। जिसकी शिकायत छात्रा के परिजनों ने आरोपी के परिजनों से की थी। इसी को लेकर आरोपी रंजिश मानने लगे। गत 17 अक्टूबर 2013 को पूजा की स्कूल जाते समय गला रेतकर हत्या कर दी गई। इस मामले में अनोखे लाल ने ओमवीर उर्फ पतरा पुत्र नेम सिंह, मुकेश पुत्र नेम सिंह, नेम सिंह पुत्र सालिगराम निवासीगण टिकुरिया अमांपुर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने मामले में चार्जशीट न्यायालय में दाखिल की। सोमवार को जिला जज ओमप्रकाश त्रिपाठी के न्यायालय में इस मामले की सुनवाई हुई। दोनों पक्षों से गवाह पेश किए गए। आरोप के समर्थन में जिला शासकीय अधिवक्ता रमेशचंद्र गोला ने नौ गवाह प्रस्तुत किए। दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद जिला जज ओमप्रकाश त्रिपाठी ने आरोपी ओमवीर, मुकेश, नेम सिंह को दोष सिद्ध पाया। उन्होंने आईपीसी की धारा 354क के तहत प्रत्येक आरोपी को तीन तीन वर्ष का सश्रम कारावास, दस-दस हजार का जुर्माना और आईपीसी की धारा 302 सपठित धारा 34 के तहत प्रत्येक को आजीवन कारावास तथा 50-50 हजार रुपए का जुर्माना अदा करने की सजा सुनाई है। जुर्माना अदा न होने पर छह माह अतिरिक्त कारावास भी आरोपियों को भुगतना होगा। 

No comments:

Post a Comment