Latest News

15 Mar 2018

पति पत्नी का झगङा पहुंचा थाने : फतेहपुर


अमित कुमार सिंह,(फतेहपुर)।  पति और पत्नी परिवार के लिए गाडी के दो पहिये के समान होते हैं। अगर एक पहिया भी टूट जाए तो जीवन की गाडी आगे नहीं बढ़ती। ठीक एक ऐसा ही एक  मामला फतेहपुर जनपद में देखने को मिला जब पत्नी अपने पति के खिलाफ मामले को लेकर थाने में हंगामा खड़ा कर दिया। पत्नी का कहना था की मै  पति के साथ नहीं रहुगी  मेरी बेटी दे दे में पति के साथ नहीं रहूँगी मामले  को तूल  पकड़तें  देख पुलिस ने अपनी भागीदारी निभाते हुए। पति पत्नी  को समझा बुझा कर सुलह सपाटा कराया और चैन  की सास ली।उत्तर प्रदेश फतेहपुर जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के अंदौली गाँव निवासी मोहम्मद इसरार जिसका बच्चो के कपडे का कारोबार बंबई में था। वही इसरार की मुलाक़ात यास्मीन नामक महिला से हुयी जो हाल में  बॉम्बे के गौड़ी शिवाजी नगर निरंकारी कालोनी  रह  रही  हैं। जब की बंगलौर के पी आर पुराम की  रहने वाली हैं यास्मीन के पहले पति से एक बेटी  हैं। दोनों के बीच कब प्यार  हो गया खुद दोनों नहीं जानते। और घर की मर्जी के बगैर दोनों ने 4 फरवरी 2012 में बांद्रा कोर्ट में शादी कर लिया। और दोनों पति पत्नी साथ रहने लगे। इसी बीच यासमीन गर्भवती हो गयी और एक बच्चे को जन्म दिया। समय अनुसार बेटा बड़ा होता गया और यासमीन और इसरार के बीच किसी  मामलो को लेकर लड़ाई झगड़ा भी हुआ। दो वर्ष पहले इसरार अपने घर आ गया था मगर फिर बॉम्बे चला गया। हाल में मिया बीवी के बीच झगङा हुआ। इस झगङे के बाद इसरार अपने पांच वर्षीय बेटे को लेकर अपने गाँव आ गया और अपने परिवार के साथ रहने लगा। तभी अचानक सदर क्षेत्र के राधानगर पुलिस चौकी में यासमीन ने अपने पति के खिलाफ तहरीर दिया जिसपर कार्यवाही करते हुए। पुलिस गाँव से इसरार को लेकर आती हैं। पति  को देख पत्नी हंगामा खड़ा कर देती हैं। देखते ही देखते चौकी के सामने तमाशा देखने वालो की भीड़ लग गयी। वही यासमीन ने इस बारे में बताया की  मुझे सिर्फ मेरा बच्चा चाहिए। पति पर यह भी आरोप लगाते हुए बताया की हमको एक दिन फोन किया और कहा की अपने घर खानदान वालो को इखट्टा कर लो तुमको तलाक देना हैं। यासमीन का कहना हैं की मुझे मेरा बच्चा देदे दूसरी शादी करे या तीसरी में इसके साथ रहना नहीं चाहती। वही पति इसरार का कहना हैं की मेरे साले ने मेरे पास फोन किया जीजा आ जाओ दीदी गलत रास्ते में जा रही हैं। तो में आया तलाक पर बोला की इस तरह के इलज़ाम उसको लगाना ही था। रात दिन काम करने के बाद जो पैसे आते थे पत्नी को दिया अभी चार दिन पहले ही हम अपने बच्चे को लेकर घर आये हैं। पिता की तबियत खराब थी और में अपनी पत्नी और दोनों बच्चो को रखना चाहता हूँ।  वही पुलिस जीप में बैठाकर दोनों को सदर कोतवाली के लिए  ले जाती  हैं। जहा पर पुलिस ने घंटो मिया बीवी को साथ रहने के लिए समझाया बुझाया और घंटो की मेहनत पुलिस की सफल हुयी  लिखा पढ़ी कराकर कोतवाली से ख़ुशी ख़ुशी मिया बीवी को पुलिस ने बिदा किया। वही क्षेत्राधिकारी कपिल देव मिश्र ने बताया की इसरार सिलाई कढ़ाई का कार्य बॉम्बे में करते थे। वही पर कर्नाटक बंगलौर की एक महिला से मुलाक़ात हुयी इन्होने शादी कर ली और एक बेटा पैदा हुया आपसी मन मुटाव के चलते महिला कर्नाटक चली गयी और इसरार अपने घर अंदौली उस बेटे को प्राप्त करने के लिए महिला ने कर्नाटक पुलिस को एक प्रार्थना पत्र दिया।कर्नाटक पुलिस ने महिला को फतेहपुर जाने की सलाह दिया  महिला यहाँ आयी थी और पुलिस को एक पत्र दिया था।जिसमे इसरार को बुलाया गया दोनों पति पत्नी आपस में सुलह करके चले गए। पूरे मामले में अगर नज़र दौड़ाई जाय तो आखिर पति और पत्नी में झगङा क्यों हुआ। या अपने साले की बातो पर इसरार ने यकीन कर लिया। या फिर यासमीन का शक इसरार की दूसरी तीसरी शादी का या फिर यासमीन जिसने घंटो हंगामा खड़ा कर दिया इस बात को लेकर की मुझे मेरा बच्चा चाहिये और दोनों पति पत्नी एक दुसरे से लड़ते झगड़ते नज़र आये। और चंद मिंटो में एक दुसरे के साथ रहने को राजी हो गए। कही अपनी मंमता के आगे यासमीन ने घुटने तो नहीं टेक दिए। या फीर बहुत से सवाल सामने हैं। मगर उनका जवाब मिलना मुश्किल हैं। 

No comments:

Post a Comment