Latest News

Photo
Video News

Gallery

Video

Games

Recent Posts

10 Dec 2018

मीडिया कर्मियों को स्वास्थ्य बीमा से जोड़ा जाएगा : झारखंड

रांची। राज्य के मीडिया कर्मियों को सरकार स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ेगी जिससे मीडियाकर्मी और उनके परिवार को स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा । सूचना जनसंपर्क विभाग के सचिव सह मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल ने शनिवार को सूचना भवन में एक बैठक में इसकी जानकारी दी । वर्णवाल ने बताया कि आयुष्मान भारत के तहत स्वास्थ्य बीमा की तर्ज पर ही मीडियाकर्मियों को भी स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाएगा और इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि अधिक से अधिक मीडियाकर्मियों को इसका लाभ मिले ।बैठक में अनेक वरिष्ठ पत्रकार, स्वास्थ्य विभाग, वित्त विभाग तथा सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

हरियाणा रोडवेज की बसों में फर्स्ट एड बॉक्स में रखे जा रहे औजार : गुड़गांव

गुड़गांव। हरियाणा राज्य परिवहन की ओर से यात्रियों को भले बेहतर सुविधा देने का दावा किया जा रहा है, लेकिन हकीकत तो यह है कि यात्रियों को बेसिक सुविधाएं भी नहीं मिल रही हैं। बसों में यात्रियों को तत्काल इलाज मुहैया कराने के लिए हर बस में एक फर्स्ट एड बॉक्स अनिवार्य है। एनबीटी की पड़ताल में सामने आया कि बसों में फर्स्ट एड बॉक्स तो था, लेकिन उसमें दवा की जगह कुछ और सामान भरा था। फर्स्ट एड बॉक्स लगवाने और उसमें आवश्यक मेडिसिन रखवाने की जिम्मेदारी डिपो के आला अधिकारियों की होती है। बावजूद इसके बॉक्स मात्र दिखावा है। किसी बॉक्स में टूल रखे जा रहे हैं तो कोई बॉक्स खाली मिला। "रोडवेज की सभी बसों में फर्स्ट ऐड बॉक्स लगे हैं। इन बॉक्स में यात्रियों के लिए मेडिसिन भी रखी जाती है। फिर भी यदि किसी भी बस में मेडिसिन नहीं है तो उसमें मेडिसिन रखवाई जाएगी।"-संजीव कुमार, वर्क्स मैनेजर
पहली बस 
समय 11:10 am
रूट : गुड़गांव से झज्जर 
बस का फर्स्ट एड बॉक्स चेक किया गया तो उसमें पुराने कागज और विज्ञापन से जुड़े कुछ पम्फ्लेट रखे हुए थे। जब ड्राइवर से पूछा गया कि इसमें मेडिसिन क्यों नहीं है तो जवाब मिला कि डिपो से अब दवाई ही नहीं मिलती है।
दूसरी बस 
समय 11:20 am
रूट : गुड़गांव से रोहतक 
बस का फर्स्ट एड बॉक्स बिल्कुल खाली था। वहीं जब ड्राइवर और कंडक्टर से पूछा गया कि इसमें मेडिसिन क्यों नहीं रखते तो दोनों का जवाब था कि डिपो के अधिकारी मेडिसिन देंगे तभी तो रखेंगे। 
तीसरी बस
समय 11:35 am
रूट : गुड़गांव से जींद 
रोडवेज की इस बस के फर्स्ट एड बॉक्स को चेक किया गया तो इसमें बस की रिपेयरिंग से संबंधित टूल्स मिले। इसके अलावा बस में किसी भी प्रकार की कोई भी मेडिसिन नहीं मिली। यहां पर ड्राइवर ने कोई जवाब नहीं दिया। 
चौथी बस
समय 11:52 am
रूट : गुड़गांव से भिवानी 
इस बस में फर्स्ट एड बॉक्स लगा ही नहीं था। बस के ड्राइवर व कंडक्टर ने बताया कि यात्रियों को दी जाने वाली किसी भी प्रकार की मेडिसिन बस में नहीं रखी जाती है। 

नोेएडा में 106 वोटर ऐसे, जिनकी उम्र है 100 के पार

नोएडा। नोएडा में कुल 5 लाख 89 हजार 243 वोटर हो गए हैं, इनमें 100 साल से ज्यादा के 106 वोटर हैं। इनके अलावा 86 ट्रांसजेंडर और 8 एनआरआई हैं जो आगामी चुनावों में वोट डालेंगे। ये दिलचस्प आंकड़े जिला प्रशासन की ओर से चलाए गए वोटर लिस्ट पुनर्निरीक्षण अभियान में सामने आए हैं। एसडीएम दादरी अंजनि कुमार सिंह ने बताया कि अभियान के दौरान 106 लोग 100 साल से ज्यादा वाले पाए गए। वहीं 8 हजार 28 लोग 80 साल से ज्यादा उम्र के मिले। इस बार 72 हजार 825 नए लोगों के नाम वोटर लिस्ट में जोड़े गए हैं। वहीं मकान चेंज करने, मृत्यु या ड्युप्लिकेट बने होने की वजह से 7 हजार 477 लोगों के नाम वोटर लिस्ट से काटे जा रहे हैं। इन सब के अलावा 1387 लोगों के नाम-पते वोटर लिस्ट में करेक्ट भी किए गए हैं। दादरी तहसीलदार आलोक कुमार सिंह ने बताया कि नए अभियान के बाद नोएडा में कुल 5 लाख 89 हजार 243 वोटर हो गए हैं। इनमें से 3 लाख 36 हजार 753 पुरुष और 2 लाख 52 हजार 704 महिला वोटर हैं। इसका मतलब 1000 पुरुषों के मुकाबले इस बार 750 महिलाएं अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगी। इससे पहले यह अनुपात 1 हजार पुरुषों के मुकाबले 747 था। वोटर लिस्ट में संशोधन का यह अभियान 30 नवंबर को खत्म हो चुका है। 

दूसरे राज्यों की शादियों को जिले में नहीं मिलेगा सर्टिफिकेट : गाजियाबाद

गाजियाबाद। शादी के प्रमाण पत्र में पकड़े गए फर्जीवाड़े के बाद अब शादी रजिस्ट्रेशन के नियम में बदलाव किया गया है। नए नियम के तहत शादी के रजिस्ट्रेशन से पहले उसमें लगाए गए प्रमाण पत्रों की जांच होगी। बिना जांच के किसी भी शादी का रजिस्ट्रेशन अब नहीं होगा। इस संबंध में डीएम रितु माहेश्वरी ने सभी सब रजिस्ट्रार को निर्देश जारी किए हैं। नए नियम के तहत अब मैरेज रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन आवेदक को मैनुअली भी शादी होने के दस्तावेज (शादी का कार्ड, फोटो) सब रजिस्ट्रार कार्यालय में देने होंगे, इसके बाद उसकी जांच कराई जाएगी। जांच में प्रमाण पत्र के सही पाए जाने के बाद ही मैरेज रजिस्टर्ड हो सकेगी। यही नहीं एआईजी स्टांप मेवालाल पटेल ने बताया कि शादी के रजिस्ट्रेशन में एक और बदलाव किया गया है। फर्जीवाड़े को देखते हुए फिलहाल अगले आदेश तक गाजियाबाद में दूसरे राज्यों के युवक युवतियों की शादी रजिस्टर्ड नहीं हो सकेगी। नए आदेश के तहत शादी तब ही गाजियाबाद में रजिस्टर्ड हो सकेगी जब युवक या युवती में से कोई गाजियाबाद या यूपी का रहने वाला हो या फिर उनकी शादी गाजियाबाद में हुई हो। इनके अलावा किसी भी स्थिति में दूसरे राज्यों के युवक-युवतियों की शादी गाजियाबाद सब रजिस्ट्रार कार्यालय में रजिस्टर्ड नहीं होगी। अभी तक दूसरे राज्यों के युवक-युवती गाजियाबाद सब रजिस्ट्रार कार्यालय में धड़ल्ले से शादी का रजिस्ट्रेशन करा रहे थे। कई शादियों में फर्जी प्रमाण पत्र लगने का मामला भी सामने आया था। इस मामले में हाल ही में पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। इसके बाद डीएम ने सख्त कदम उठाए। 

विदेशों में घूमने वाले पीएम को दिल्ली की झुग्गी-बस्तियों से आती है शर्म: अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली। अनधिकृत कॉलोनियों में 83 स्ट्रीट और सड़कों के निर्माण काम के उद्घाटन के दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि विदेशों में घूमते रहने वाले पीएम को दिल्ली की झुग्गी बस्तियों से शर्म आती है, वह कहते हैं कि झुग्गी वाले दिल्ली को गंदा करते हैं, इसलिए वह इन झुग्गी बस्तियों को तोड़कर उसके स्थान पर लंदन और पेरिस जैसे शहर बनाना चाहते हैं। लेकिन ऐसा होगा नहीं क्योंकि हम दिल्ली की इन झुग्गी और कच्ची बस्तियों में सीवर, सड़कें, नालियां और बाकी का काम करवा कर इसे ही लंदन और पेरिस जैसा बनाएंगे, इसे उजाड़ कर कभी नहीं बनाएंगे। शालीमार बाग की विधायक बंदना कुमारी भी मौजूद थीं। शालीमार बाग में कच्ची कॉलोनियों के विकास काम के उद्घाटन कार्यक्रम में केजरीवाल चुनावी रंग में दिखे। उन्होंने न केवल अपनी सरकार के कामों को गिनाया, बल्कि केंद्र की मोदी सरकार की वजह से होने वाली दिक्कतों को भी इलाके की जनता के सामने रखा। उन्होंने एक बार फिर केंद्र सरकार पर दिल्ली के डिवेलपमेंट के काम में बाधा डालने का आरोप मढ़ा, उन्होंने कहा कि तीन साल पहले हमारी सरकार की तरफ से मंत्री सत्येंद्र जैन ने केंद्र की मोदी सरकार को कच्ची कॉलोनियों को पक्की बनाने का एक प्रस्ताव बनाकर दिया। तीन साल में कुछ काम तो नहीं हुआ, लेकिन कुछ दिन पहले सीबीआई वालों ने सत्येंद्र जैन पर केस कर दिया। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाते हुए कहा सत्येंद्र जैन ने इस प्रस्ताव के साथ-साथ एक और प्रस्ताव दिया था कि जब तक कच्ची कॉलोनियां पक्की नहीं हो जाती, इसमें समय लगेगा। तब तक इन कॉलोनियों में सीवर, सड़कें, पीने का पानी और सड़कों का काम कराने का प्रस्ताव रख दिया। हमारी सरकार ने इसके लिए 3500 का बजट पास कर दिया। 

कार से बाइक टच होने पर युवक को गोलियों से भूना : नई दिल्ली

नई दिल्ली। दिल्ली के मयूर विहार फेज-1 में बीती देर रात मामूली कहासुनी के चलते एक बाइकसवार युवक को कारसवार कुछ युवकों ने गोलियों से भून दिया। वारदात 24X7 नाम के स्टोर के बाहर हुई। बताया जा रहा है कि बाइकसवार युवक अस्पताल में भर्ती अपने भाई के लिए पानी खरीदने गया था। स्टोर के बाहर एक आई-20 कार से उसकी बाइक टच हो गई। इससे कहासुनी हो गई। हाथापाई के चलते कारसवार युवकों ने उस पर फायरिंग कर दी।सूत्रों का कहना है कि स्टोर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में आरोपियों की तस्वीर आ गई है। इसी सुराग के बिनाह पर पुलिस उनकी तलाश कर रही है, लेकिन सुबह तक आरोपियों की पहचान नहीं हो सकी थी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपियों की तस्वीर से उनकी पहचान की हर मुमकिन कोशिश की जा रही है। शुरुआती जांच में हमले की वजह रोडरेज लग रही है। पांडव नगर थाने की पुलिस टीम के अलावा स्पेशल स्टाफ और अन्य पुलिस टीमों को भी आरोपियों की तलाश में लगाया गया है। 
जिस युवक की हत्या की गई है, उसका नाम योगेश (21) है। वह चिल्ला गांव के रहने वाला था और बिजनस करता था। बताया जा रहा है कि उसका भाई कुकरेजा अस्पताल में भर्ती है, जिसके लिए योगेश रात करीब 12:45 बजे पानी खरीदने निकला था। आरोपी वहीं आई-20 कार में थे। योगेश की बाइक लगाते समय उनसे कहासुनी हुई। हाथापाई होने पर आरोपियों ने फायरिंग कर दी। बताया जा रहा है कि योगेश के साथ दोस्त भी था। पुलिस उससे घटनाक्रम की जानकारी ले रही है। दूसरी ओर योगेश का परिवार घटना के बाद सदमे में है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि आखिर किन लोगों और किस वजह से उनके बच्चे को ताबड़तोड़ गोलियां मारीं। 

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच होगी मतगणना : मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव


भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा की सभी 230 सीटों पर हुए चुनावों के लिये मतगणना मंगलवार को होगी। मतगणना के लिये सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं। प्रदेश में 28 नवंबर को चुनाव हुए थे। मतदान के बाद आए एग्जिट पोल ने 15 साल से प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा एवं मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर की संभावना व्यक्त की है। हालांकि, दोनों पार्टियां अपनी-अपनी जीत का दावा कर रही हैं। निर्वाचन आयोग के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि मध्य प्रदेश विधानसभा की सभी 230 सीटों के लिए 11 दिसंबर को सुबह आठ बजे से मतगणना शुरू होगी। यह मतगणना 51 जिलों में होगी।उन्होंने कहा कि सबसे पहले डाक मतपत्रों की गिनती होगी। अधिकारी ने बताया कि डाक मतपत्रों की गिनती के बाद सुबह साढ़े आठ बजे से ईवीएम के वोटों की गिनती होगी।उन्होंने कहा कि हर राउंड के परिणाम अलग-अलग घोषित किये जाएंगे। अगले राउंड की गिनती तभी शुरू होगी, जब उससे पहले राउंड के परिणाम घोषित किये जा चुके हों। शाम तक सभी सीटों के परिणाम आने की संभावना है। इस चुनाव में कुल 5,04,95,251 मतदाताओं में से 3,78,52,213 मतदाताओं यानी 75.05 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। मतगणना के साथ ही 1,094 निर्दलीय उम्मीदवारों सहित कुल 2,899 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला हो जाएगा, जिनमें से 2,644 पुरूष, 250 महिलाएं एवं पांच ट्रांसजेंडर शामिल हैं।भाजपा ने सभी 230 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, जबकि कांग्रेस ने 229 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं और एक सीट अपने सहयोगी शरद यादव के लोकतांत्रिक जनता दल के लिये छोड़ी है। आम आदमी पार्टी (आप) 208 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) 227, शिवसेना 81 और समाजवादी पार्टी (सपा) 52 सीटों पर चुनावी मैदान में है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी परंपरागत सीट बुधनी से चुनावी मैदान में है और उनके खिलाफ कांग्रेस ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं मध्यप्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरूण यादव को मैदान में उतारा है। चौहान इस सीट से चार बार जीत चुके हैं और हर बार उन्होंने इस सीट पर अपनी जीत का अंतर बढ़ाया है।