Latest News

Photo
Video News

Gallery

Video

Games

Recent Posts

17 Feb 2019

कागजों में सड़क बना किया 21 लाख का घोटाला

पलवल। कागजों पर रास्तों को पक्का कर 21 लाख रुपये का घोटाला करने और बिजली कनेक्शन के नाम पर लाखों की हेराफेरी करने के मामले सामने आए हैं। राजूपुर खादर से घोड़ी गांव की हदबंदी तक और राजूपुर खादर से थंथरी गांव तक, मनरेगा के तहत दोनों रास्तों पर मिट्टी डाली गई, इसके बाद पंचायत फंड व अन्य योजनाओं के तहत इन्हें पक्का बना दिया गया। सारा काम सिर्फ कागजों पर हुआ। गांव वालों ने सीएम विंडो व एडीसी सुरेंद्र सिंह से इसकी शिकायत की है।नरेश कुमार ने एडीसी को शिकायत दी है कि गांव राजुपुर खादर की पंचायत ने करीब 3 किमी लंबे दो रास्तों को पक्का किया। जिसमें 21 लाख 48 हजार 648 रुपये की लागत बताकर बिल पास कर पेमेंट कर दिया गया। पंचायती रिकॉर्ड में राजपाल, जयपाल, सुरेंद्र, भगवान दास, चेतराम, राकेश, नरेश, ओमप्रकाश, गंगा, राजेश, सुन्दर, गिर्राज, सुनील, कन्हैया, दयाराम, दीपचंद, हरेंद्र, अर्जुन, राजकुमार, रविंद्र, पूरण, प्रकाश आदि ने मनरेगा के तहत मजदूरी की। इनके नाम पर लाखों रुपये निकाल लिए गए। लखीराम, चांद, किशन और रण सिंह आदि के ट्रैक्टरों से मिट्टी की ढुलाई भी दस्तावेजों में दिखाई गई है। जबकि, जमीन पर काम नहीं हुआ है। 
साथ ही आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार विभाग ने चार ट्यूबवेलों के कनेक्शन लगाए हैं, जबकि मौके पर पांच कनेक्शन लगे हुए हैं। पंचायत ने 37 पोल का एस्टिमेट बनाकर पेमेंट अदा कर दिया, लेकिन बिजली विभाग ने 18 पोल लगाने की बात कही है। मौके पर 5 ट्यूबवेलों के बिजली कनेक्शन के लिए 32 पोल लगे मिले हैं।एडीसी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि दो रास्तों को पक्का करने के बारे में शिकायत मिली है। जांच शुरू कर दी गई है। जहां भी घोटाला पाया जाएगा, उसकी रिकवरी कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पंचायत विभाग के एसडीओ हरेंद्र सिंह को जांच सौंपी गई है। रिपोर्ट अगले सप्ताह तक मिल जाएगी। बिजली विभाग के 54 इंसुलेटर लगाए गए हैं, जबकि पंचायत रिकॉर्ड के अनुसार 111 लगवाए गए हैं। बिजली विभाग के एसई ने भी जांच के आदेश जारी किए हैं। 

फेसबुक पर आपत्तिजनक कॉमेंट, कश्मीरी छात्र सस्पेंड

ग्रेटर नोएडा। पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद सोशल मीडिया पर देश विरोधी टिप्पणी करने के मामले में ग्रेटर नोएडा के एक कॉलेज ने कश्मीरी छात्र को सस्पेंड कर दिया है। छात्र ने दावा किया था कि उसका अकाउंट हैक कर किसी ने और यह कॉमेंट किया था। लेकिन वह अपने दावे को साबित नहीं कर पाया।फेसबुक पोस्ट देखने के बाद लोगों ने आपत्ति जतानी शुरू कर थी जिसके बाद मामला कॉलेज प्रबंधन की संज्ञान में आया जिसने छात्र को नोटिस जारी किया। कॉलेज ने इंटरनल जांच बिठाई। पूछताछ पर छात्र ने यह दावा किया कि उसने कुपवाड़ा के रावतपोरा थाने में अपना फेसबुक अकाउंट हैक कर ऐंटी नैशनल कॉमेंट करने को लेकर अज्ञात व्याक्ति के खिलाफ तहरीर दी है। उधर, नॉलेज पार्क के एसएचओ अरविंद पाठक का कहना है कि उन्हें इस मामले में जानकारी नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। 
हालांकि, कॉलेज द्वारा इंटरनल जांच के दौरान जब उससे एफआईआर की कॉपी मांगी गई तो वह पेश नहीं कर पाया और सिर्फ हाथ से लिखी शिकायत की कॉपी पकड़ाई जिसके बाद कॉलेज ने उसे सस्पेंड कर दिया और 7 दिन के भीतर एफआईआर की कॉपी पेश करने को कहा। कॉलेज ने साथ ही इंटरनल जांच की रिपोर्ट एसएसपी को सौंप कर आगे जांच की मांग की है। 

करोल बाग होटल में आग मामले में होटल मालिक को पुलिस ने किया अरेस्ट

नई दिल्ली। करोल बाग इलाके के अर्पिट होटल में लगी आग में 17 लोगों की मौत हो गई थी। रविवार की सुबह आखिरकार होटल के मालिक को अरेस्ट किया गया। इससे पहले मालिक के गिरफ्तार नहीं होने पर दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन ने आरोप लगाया था कि शायद बीजेपी से संबंध होने के कारण होटल मालिक की गिरफ्तारी नहीं हो रही है।दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के डीसीपी राजेश देव ने करोल बाग होटल आग कांड में मालिक राकेश गोयल को गिरफ्तार किया। क्राइम ब्रांच के डीसीपी ने बताया, हमें सूचना मिली थी कि होटल मालिक कतर से लौट रहा है। इंडिगो की फ्लाइट 6E 1702 से लौटने की जानकारी कस्टम अधिकारियों को दे दी गई थी। कस्टम अधिकारियों ने इसे हिरासत में लिया और फिर क्राइम ब्रांच को कस्टडी सौंप दी गई। आज आरोपी को कोर्ट में पेश किया जाएगा। 
बता दें होटल मालिक पर आरोप है कि होटल में पहले भी कई बार कार्रवाई हुई, लेकिन इसके बावजूद नया फ्लोर बन गया। मालिक पर होटल में आग की सूचना मिलने के बाद भी देर से पुलिस और फायर डिपार्टमेंट को सूचित करने का आरोप है। अर्पित होटल की आग में 17 लोगों की मौत के बाद केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सभी होटल और गेस्टहाउस की जांच के आदेश दिए। फायर डिपार्टमेंट और दूसरे सुरक्षा मानकों की जांच में कई होटलों और गेस्टहाउस में सुरक्षा मानकों की अनदेखी का मामला सामने आया है। दिल्ली सरकार ने तीन दिनों की जांच में ही 57 होटलों का फायर एनओसी कैंसल कर दिया है।इससे पहले दिल्ली बीजेपी के नेता विजेंद्र गुप्ता ने भी होटलों और गेस्टहाउस को एनओसी दिए जाने पर सवाल उठाए थे। हालांकि, दिल्ली सरकार का कहना है कि अर्पित होटल केस में एमसीडी की ओर से लापरवाही बरती गई।

दिल्ली मेट्रो में नहीं सुनने पड़ेंगे अब गैरजरूरी अनाउंसमेंट

नई दिल्ली। मेट्रो में सफर करते वक्त आपको ढेर सारे अनाउंसमेंट्स नहीं सुनने पड़ेंगे। डीएमआरसी ने फैसला किया है कि ट्रेनों के अंदर जरूरी और चुनिंदा अनाउंसमेंट्स ही किए जाएंगे। ट्रायल के तौर पर इसकी शुरुआत जनकपुरी वेस्ट से बॉटनिकल गार्डन के बीच की मजेंटा लाइन से की जा रही है। यह ट्रायल 18 फरवरी से शुरू होकर तीन महीने तक चलेगा। इस बीच अन्य लाइनों की ट्रेनों में भी यह प्रयोग करके देखा जाएगा। डीएमआरसी के अधिकारियों के मुताबिक, यात्रियों से मिले फीडबैक के आधार पर यह बदलाव किया जा रहा है। 
यात्रियों का मानना है कि ट्रेनों के अंदर कई सारे गैरजरूरी ऑडियो अनाउंसमेंट्स होते रहते हैं, जिसकी वजह से उन्हें दिक्कत होती है। नई ट्रेनों के अंदर एलईडी स्क्रीन्स लगी हुई है, इसे देखते हुए डीएमआरसी ने कई सारी अनाउंसमेंट को ऑडियो के बजाय विडियो या डिजिटल फॉर्मेट में तब्दील करने का भी फैसला किया है। 
डीएमआरसी के मुताबिक, मजेंटा लाइन की ट्रेनों में यात्रियों के लिए ऑडियो और विडियो फॉर्मेट में 34 तरह की उद्‌घोषणाएं की जाती हैं। ट्रेनों के मजेंटा लाइन के लाइन के एक छोर से दूसरे छोर तक जाने के दौरान पूरे समय केवल 7 तरह के जनरल अनाउंसमेंट्स ही किए जाएंगे। ये अनाउंसमेंट्स ऑडियो और विडियो, दोनों तरह के होंगे। उदाहरण के लिए फ्लोर पर बैठने और ट्रेनों के अंदर खाने-पीने की मनाही, संदिग्ध वस्तु से सावधान रहने, ट्रेन और स्टेशनों को साफ-सुथरा रखने की उद्‌घोषणाएं एकसाथ ऑडियो और विडियो फॉर्मेट में की जाएंगी। इसके अलावा 25 अन्य तरह के अनाउंसमेंट को केवल विडियो फॉर्मेट में चलाया जाएगा। इनमें दिल्ली मेट्रो में आपका स्वागत है, स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल करें, टोकन जमा कराना ना भूलें जैसी घोषणाएं शामिल हैं। ये उद्‌घोषणाएं अब सिर्फ ट्रेनों के अंदर लगी एलसीडी स्क्रीन पर नजर आएंगी।लेडीज कोच और उसके डायरेक्शन के बारे में जानकारी देने वाली घोषणा अब ट्रेनों के अंदर नहीं, बल्कि सिर्फ प्लैटफॉर्म पर सुनाई देगी। हालांकि अन्य सभी जरूरी अनाउंसमेंट, जैसे कि अगला स्टेशन कौन सा है, दरवाजे किस तरफ खुलेंगे, ट्रेन कहां जा रही है, टर्मिनल स्टेशन कौन सा है आदि पहले की तरह ट्रेनों के अंदर विडियो और ऑडियो फॉर्मेट में चलती रहेंगी। मेट्रो के अधिकारियों का कहना है कि मजेंटा लाइन पर होने वाले इस ट्रायल की सफलता के आधार पर डीएमआरसी यह तय करेगी कि पिंक लाइन में भी इसे लागू किया जा सकता है या नहीं। इसके अलावा मेट्रो की अन्य लाइनों में इसे किस तरह से लागू किया जा सकता है, इस पर भी विचार किया जाएगा, क्योंकि अन्य लाइनों की ट्रेनों के अंदर विडियो डिस्प्ले की सुविधा नहीं है। 

70 की उम्र में बुजुर्गों ने उठाए 160 किलो के पहिए, देखते रह गए लोग

कुरुक्षेत्र। हरियाणा के कुरुक्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2018 के हरियाणवी पंडाल में 70 साल के दो बुजुर्गों ने 80-80 किलो के बैलगाड़ी के 2 पहियों को उठाकर आपस में भिड़ाकर अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। उनके इस करतब ने लोगों का मन मोह लिया। गांव लोदर के छाज्जू राम और एक अन्य बुजुर्ग टेकराम ने 70 साल की उम्र में बैलगाड़ी के दोनों पहिए हाथों से उठाकर आपस में भिड़ा दिए। पंडाल में तीसरे दिन यह करतब भीड़ में से उठकर आए दो बुजुर्गों ने दिखाया। वास्तव में बुजुर्गों का शौर्य प्रदर्शन देखकर पंडाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। भीड़ ने बुजुर्गों का उत्साह बढ़ाया। इस मौके पर दोनों बुजुर्गों को मंच पर सम्मानित किया गया। जब बुजुर्गों से उनकी इस उम्र में ताकत का राज पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्होंने बचपन में देसी घी बहुत खाया है। देसी खाना इसका खास राज है। उन्होंने कहा कि देसां म्ह देस हरियाणा, जित दूध दही का खाणा, यदि किसी को देखना है तो उनको हरियाणा पंडाल में आ जाना चाहिए। दोनों ही बुजुर्गों ने कमाल का प्रदर्शन कर मन मोह लिया। 

कांग्रेस की सरकार बनने के बाद मध्य प्रदेश में ‘सिमी’ फिर सक्रिय : भाजपा

भोपाल। भाजपा ने रविवार को आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद प्रतिबंधित संगठन स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट आफ इंडिया (सिमी) फिर से सक्रिय हो रहा है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता जी व्ही एल नरसिम्हा राव ने रविवार को यहां प्रदेश भाजपा कार्यालय में संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस विकास का बंटाधार करने का काम कैसे कर सकती है, यह दो माह में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने के बाद देखने को मिल रहा है। उन्होने आरोप लगाया, ‘‘ प्रदेश में दो माह में गुंडागर्दी बढ़ गई है। बच्चों का अपहरण चौंकाने वाली घटना है। महिलाओं के गले से चेन खींची जा रही हैं। नक्सल समस्या फिर से पनप रही है और प्रदेश में सिमी और पापुलर फ्रंट आफ इंडिया जैसे संगठन फिर सक्रिय हो रहे हैं।’’उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार प्रधानमंत्री आवास योजना में रोड़ा अटकाने का काम कर रही है। भाजपा सरकार के दौरान प्रदेश इस योजना में देश में सबसे आगे था जबकि कांग्रेस की सरकार आने के बाद दो माह में पीछे हो गया है। राव ने आरोप लगाया कि इस योजना में प्रदेश सरकार अपनी राशि का आवंटन नहीं दे रही है।जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले के बारे में पूछे गये सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने सुरक्षा बलों और सेना को पाकिस्तान के खिलाफ किसी भी कार्रवाई के लिये पूरी छूट दे दी है।
उन्होंने दावा किया कि वर्ष 2014 के बाद कश्मीर में आतंकवाद पर प्रभावी नियंत्रण किया गया है और पिछले साल कश्मीर में 250 आतंकी मारे गये। मध्यप्रदेश में किसानों की कर्ज माफी योजना पर भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस किसान काफी योजना में ड्रामा कर रही है। सरकार कर्ज माफी नहीं करके किसान के लिये परेशानी बढ़ाने वाला काम कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा शासन काल में भावान्तर योजना के तहत किसानों को विभिन्न फसलों पर दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि कांग्रेस की सरकार ने अब तक किसानों को नहीं दी है।राव ने कहा कि भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव 55 माह में केन्द्र की भाजपा नीत सरकार द्वारा किये गये विकास कार्य बनाम कांग्रेस के 55 साल में किये गये कार्यों का लेखा जोखा लेकर जनता के सामने जायेगी।उन्होंने बताया कि केन्द्र के 55 माह के कार्यकाल में 6.25 करोड़ गरीब ग्रामीण महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तरह मुफ्त में रसोई गैस कनेक्शन सहित कुल 13 करोड़ गैस कनेक्शन दिये गये जबकि कांग्रेस के 55 साल के शासन काल में 13 करोड़ रसोई गैस कनेक्शन दिये गये थे। वहीं देश में शौचालय उपलब्धता दर 35 प्रतिशत से बढ़कर 58 प्रतिशत हो गई है। 15,000 गांवों को बिजली से जोड़ने सहित 2.5 करोड़ घरों में बिजली के कनेक्शन दिये गये हैं।

पर्यटन भवन में पहुंचा युवक, महिलाकर्मी पर पेट्रोल डालकर लगाई आग

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश पर्यटन भवन की सुरक्षा व्यवस्था को धत्ता बताते हुए ट्रॉमा सेंटर के वॉर्ड बॉय ने एक महिला कर्मचारी और अपने ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। वारदात शाम करीब 5 बजे पर्यटन विकास निगम के एमडी के दफ्तर के पास हुई। वहां मौजूद कर्मचारियों ने दोनों को लगी आग बुझाकर पुलिस को सूचना दी। महिला को सिविल अस्पताल जबकि आरोपी को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया गया है। पुलिस के मुताबिक महिला करीब 70% जल गई है जबकि आरोपी 45% जला है। गोमतीनगर पुलिस ने वॉर्ड बॉय के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत कई धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। मामला एकतरफा प्यार का बताया जा रहा है।पुलिस ने बताया कि पीड़िता (40) ठाकुरगंज इलाके की रहने वाली है और गोमतीनगर स्थित पर्यटन भवन में चपरासी के पद पर तैनात है। 1997 में पति का निधन होने पर उसे मृतक आश्रित कोटे से पर्यटन निगम में नियुक्ति मिली थी। चार महीने पहले पीड़िता के भाई को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया गया था, जहां उसकी पहचान खदरा निवासी वॉर्ड बॉय समीर (38) से हुई थी। महिला का आरोप है कि तब से समीर पीछा कर उसे परेशान कर रहा है। शुक्रवार को पीड़िता पर्यटन भवन की तीसरी मंजिल पर लेखा विभाग में थी। शाम करीब 5 बजे समीर उससे मिलने पहुंच गया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक दोनों के बीच कुछ देर की बातचीत के बाद नोकझोंक होने लगी। एकाएक समीर ने पीड़िता को पकड़ लिया और पेट्रोल डालकर महिला और खुद को आग के हवाले कर दिया। पुलिस को वारदात में प्रयुक्त दो बोतलें मिली हैं, जिनमें पेट्रोल और केरोसिन होने की बात कही जा रही है। 
कर्मचारियों ने बताया कि बुधवार को भी समीर पर्यटन भवन पहुंचा था। उस दिन भी दोनों में किसी बात पर विवाद हुआ था। विभाग के लोगों के विरोध करने पर समीर वहां से चला गया था। पीड़िता के परिवारीजनों का कहना है कि समीर के खिलाफ पुलिस से शिकायत भी की गई थी। हालांकि, परिवारीजन यह नहीं बता सके कि रिपोर्ट कब और किस थाने में दर्ज करवाई गई थी।परिवारीजनों ने बताया कि पीड़िता के चार बच्चे हैं और बड़ी बेटी की अगले महीने शादी है। पीड़िता शादी की तैयारियों में जुटी थी। उधर, पीड़ित परिवार से मिलने के लिए पर्यटन विकास निगम के एमडी शिव पाल सिंह सिविल अस्पताल पहुंचे। उन्होंने परिवारीजनों को इलाज में पूरी मदद का आश्वासन दिया।कई बड़े अधिकारियों के ऑफिस होने के बावजूद पर्यटन भवन को कुछ सिक्यारिटी गार्ड के भरोसे छोड़ दिया गया है। यहां आने वालों की चेकिंग का भी इंतजाम नहीं है। यही वजह रही कि समीर बिना रोकटोक के पेट्रोल अंदर ले गया और वारदात अंजाम दी। वारदात के समय भवन में पेट्रोलियम संरक्षण क्षमता महोत्सव भी चल रहा था, जिसमें शामिल होने कई अधिकारी आए थे।