Latest News

Photo
Video

Sports

Entertainment

National

States

Recent Posts

24 x7 Samvad India | On Line News Web Chanel

Hindi News Web Chanel, Editorial, Views, Local News, Live Reporting

23 Aug 2017

राजस्थान सरकार ने भरतपुर और धौलपुर के जाटों को अन्य पिछड़ा वर्ग में आरक्षण दिया - राजनीति

जयपुर: राजस्थान सरकार ने बुधवार को एक अधिसूचना जारी करके भरतपुर और धौलपुर के जाटों को तुरंत प्रभाव से अन्य पिछड़ा वर्ग में आरक्षण दे दिया. इन दोनों क्षेत्रों के जाट समुदाय को अब तक आरक्षण नहीं मिल रहा था जबकि राज्य के अन्य हिस्सों के जाट समुदाय को आरक्षण मिल रहा है. राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव जेसी महांति ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि भरतपुर और धौलपुर के जाटों को राज्य की अन्य पिछड़ा वर्ग की अधिकृत सूची में तुरंत प्रभाव से शामिल कर लिया गया है.गौरतलब है कि राजस्थान में जाट समुदाय को आरक्षण 1999 से मिला रहा है, लेकिन इसमें धौलपुर और भरतपुर के जाट शामिल नहीं किए गए थे. वर्ष 2015 में हाईकोर्ट के आदेश के बाद सरकार ने आरक्षण की मांग की समीक्षा करने के लिए पिछड़ा वर्ग आयोग और आर्थिक पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन किया था.

नसबंदी पर बनी 'पोस्‍टर बॉयज' - फिल्मी खबर

फिल्‍म 'पोस्‍टर बॉयज'
नई दिल्‍ली: सनी देओल जहां इन दिनों अपनी फिल्‍म 'पोस्‍टर बॉयज' के प्रमोशन में लगे हैं तो वहीं दूसरी तरफ अपने बेटे करण देओल को लॉन्‍च करने की जिम्‍मेदारी भी उन्‍होंने खुद ही उठा रखी है. सनी देओल की आने फिल्म 'पोस्टर बॉयज' पुरूष नसंबदी के इर्द-गिर्द घूमती है और ऐसे में उनका कहना है कि सिनेमा के जरिए मजेदार तरीके से जरूरी मुद्दों को उठाए जाना या उनके बारे में बात करना जरूरी है. 'पोस्टर बॉयज' तीन कुलियों की वास्तविक घटना से प्रेरित है जिन्हें अपनी तस्वीरें पुरूष नसबंदी का विज्ञापन करने वाले एक पोस्टर पर छपी मिली थी. ऐसे में अपनी फिल्‍म पर बात करते हुए सनी देओल ने न्‍यूज एजेंसी भाषा को दिए एक इंटरव्‍यू में कहा, 'समाज में ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिन्हें अनुचित माना जाता है लेकिन यह सालों से हो रही है. दस साल पहले कोई भी इसे एक फिल्म के तौर पर सोच नहीं सकते थे.'उन्होंने कहा कि हमारे आसपास बदलाव आता है और जब समाज और सिनेमा बदलता है तो ये विचार आते रहते हैं. यह अहम है कि उन मुद्दों को रेखांकित किया जाए जो समाज में प्रासंगिक हैं इससे निपटने की जरूरत है. 'पोस्‍टर बॉयज' में सनी का कैरेक्टर रफ-टफ है जो एक रिटायर्ड फौजी है. दुश्मनों की धज्जियां उड़ाते नजर आने वाले सनी को इस फिल्‍म में रोमांटिक अंदाज में भी दिखाया गया है जो सेल्‍फी एडिक्‍ट है.'घायल', ' जिद्दी', 'दामिनी' और 'गदर: एक प्रेम कथा' जैसी एक्शन फिल्मों में अपने ढाई किलो के हाथ वाले स्‍टाइल से फेमस हुए सनी का कहना है कि सिनेमा में वो शक्ति है जो लोगों को उन मुद्दों पर सोचने पर मजबूर कर सकती है जिन पर बात करने से अक्सर बचा जाता है. बता दें कि सनी देओल, बॉबी देओल और श्रेयस तलपड़े की इस फिल्‍म को एक्‍टर श्रेयस ने ही निर्देशित भी किया है. श्रेयस इस फिल्‍म से पहली बार डायरेक्शन में उतर रहे हैं.

जियोफोन की प्री बुकिंग आज से, जानें कैसे 500 रुपये में होगा बुक - खुसखबरी

जियो फोन की बुकिंग आज से
नई दिल्ली: दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो के चर्चित जियोफोन की प्री-बुकिंग  आज शाम शुरू होगी. कंपनी ने बाजार में उतरते ही बाकी दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों के सामने अब तक की सबसे बड़ी चुनौती पेश की है. अब कंपनियों को जियो के फोन से कोई दिक्कत होगी या नहीं यह कुछ समय बाद पता चल जाएगा. कंपनी इस फोन के जरिए देश के लगभग 50 करोड़ फीचर फोन उपयोक्ताओं को लक्ष्य बना रही है और हर सप्ताह 50 लाख जियोफोन की आपूर्ति का लक्ष्य लेकर चल रही है. कंपनी के सूत्रों का कहना है कि जियोफोन की बुकिंग 24 अगस्त शाम 5 बजे शुरू होगी. फोन की प्री बुकिंग 500 रुपये के भुगतान के साथ कंपनी की वेबसाइट व एप ‘मायजियो’ तथा रिलायंस डिजिटल आदि स्टोर पर की जा सकती है.कंपनी ने इस फोन की कीमत जमानत राशि के रूप में 1500 रुपये रखी है. प्री-बुकिंग के समय 500 रुपये जमा करवाने होंगे, जबकि बाकी 1000 रुपये फोन मिलने पर अदा करने होंगे. कंपनी का कहना है कि अगर कोई ग्राहक तीन साल यानी 36 महीने बाद जियोफोन लौटाता है तो उसे 1500 रुपये लौटा दिए जाएंगे. इस तरह से जियोफोन की ‘प्रभावी कीमत शून्य रुपये’ रहेगी.कंपनी के अनुसार- 4जी प्रौद्योगिकी वाला उसका यह हैंडसेट भारत में, भारतीयों द्वारा व भारतीयों के लिए बनाया गया है. रिलायंस जियो के ग्राहक जियोफोन के जरिए 153 रुपये मासिक में अनलिमिटेड डेटा का इस्तेमाल कर सकेंगे. इसके साथ ही कंपनी ने 53 रुपये का साप्ताहिक प्लान व 23 रुपये में दो दिन का प्लान भी पेश किया है. कंपनी के ग्राहकों के लिए वायस कॉल हमेशा के लिए नि:शुल्क है.सूत्रों के अनुसार जियोफोन की प्रीबुकिंग को लेकर लोगों के उत्सुकता को देखते हुए उसने आफलाइन व आनलाइन बंदोबस्त किए हैं. उल्लेखनीय है कि 21 जुलाई को हुई रिलायंस इंडस्ट्रीज की सालाना आम बैठक में इस फोन की घोषणा की गई थी. कंपनी का कहना है कि फोन की आपूर्ति ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर की जाएगी.

नाबालिग से रेप केस - राम रहीम के समर्थन में जुटे लाखों, सुरक्षा चाकचौबंद, स्टेडियम करवाया गया खाली - खास बातें

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम
नई दिल्ली: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को लेकर चल रहे नाबालिग से रेप मामले में 25 अगस्त को पंचकुला सीबीआई कोर्ट का फैसला आना है. इसके चलते दो राज्यों, हरियाणा- पंजाब, को बाकायदा छावनी में तब्दील कर दिया है. लेकिन, फैसले से पहले पंचकुला में डेरा समर्थकों का जमावड़ा लग चुका है.आइए जानें, इस पूरे मामले से जुड़ी अब तक की 10 खास बातें - 1-सीबीआई कोर्ट द्वारा इस बाबत जो भी फैसला दिया जाएगा, उसके बाद यदि राम रहीम के समर्थक हंगामा करते हैं तो उस स्थिति से निपटने के लिए चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम को अस्थायी जेल में तब्दील कर दिया गया है.  2- अब तक लाखों डेरा प्रेमी पंचकुला में इकट्ठा हो चुके हैं. फाजिल्का स्थित डेरा में हज़ारों की तादाद में राम रहीम के अनुयायी पहुंच चुके हैं. ये लोग निजी वाहनों से चंडीगढ़ और पंचकूला पहुंच रहे हैं.हालांकि पुलिस के लिए पैदल आते लोगों पर निगरानी बड़ी चुनौती है. 3- साल 2002 में डेरा मुखी की एक महिला समर्थक ने उस वक्त के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंजाब-हरियाणा कोर्ट के जजों को खत लिखकर बाबा पर रेप का आरोप लगाया था. अदालत ने तब CBI जांच के आदेश दिए थे जिसके बाद 2007 में CBI ने डेरा मुखी पर रेप और आपराधिक ज़ोर-ज़बरदस्ती के आरोप लगाए.4- इस एक केस की संवेदनशीलता को देखते हुए हरियाणा के पंचकुला, सिरसा, चंडीगढ़ में सुरक्षा चाकचौबंद कर दी गई है. राज्य भर में पुलिस द्वारा नाकाबंदी करके वाहनों की जांच की जा रही है ताकि शांति का माहौल न बिगाड़ा जा सके.5- लुधियाना भर की बात करें तो पुलिस ने आठ से अधिक जगहों पर नाकाबंदी करके शहर से आने-जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया है.6- ड्रोन और सीसीटीवी कैमरे से लोगों पर नज़र रखी जा रही है. हर आने-जाने वाले की तलाशी ली जा रही है. पंजाब, हरियाणा के अलावा हिमाचल प्रदेश और यूपी की सीमा को भी सील कर दिया गया है.7- हरियाणा और पंजाब के सभी स्कूल और कॉलेज 24 और 25 अगस्त को बंद रहेंगे. अर्धसैनिक बलों की 100 कंपनियां तैनात कर दी गई हैं जबकि 4000 पुलिस के जवान भी इस काम में लगा दिए गए हैं.8-बता दें कि बाबा राम रहीम मूल रूप से राजस्थान के श्रीगंगानगर के रहने वाले हैं. उन्होंने 1990 में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख के रूप में डेरे को संभाला.9- यह डेरा 1948 में साह मस्ताना जी ने स्थापित किया था जिसके आज लाखों अनुयायी हैं और पूरे देश में इनके 50 से भी ज्यादा आश्रम हैं. उनके समर्थक 'चमत्कारिक गुरु' मानते हैं.10- सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति और डेरा के पूर्व मैनेजर रणजीत सिंह की हत्या के मामले में भी बाबा राम रहीम पर आरोप है.  हत्या और रेप के इन मामलों की जांच सीबीआई कर रही है. राम रहीम अभी तक 5 फिल्में बना चुके हैं और ‘MSG ऑनलाइन गुरुकुल’ उनकी अगली फिल्म है.

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख पर रेप केस के मामले में फैसला शुक्रवार को, 2 लाख समर्थक पहुंचे पंचकूला - हाईअलर्ट

चप्पे-चप्पे पर तैनात अर्द्धसैनिक बल के जवान
चंडीगढ़: डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर नाबालिग़ से बलात्कार के मामले में 25 अगस्त (शुक्रवार) को पंचकुला सीबीआई कोर्ट का फ़ैसला आना है. लेकिन दो दिन पहले से ही उनके अनुयायी बड़ी संख्या में चंडीगढ़ से लेकर पंचकुला तक इकट्ठा हो गए हैं. इसको देखते हुए प्रशासन पूरी तरह से हाईअलर्ट पर है और हरियाणा-पंजाब के कई जगहों पर कर्फ्यू जैसे हालात हैं. हरियाणा के पंचकुला, सिरसा, चंडीगढ़ छावनी में तब्दील हो चुका है. किसी भी अप्रिय स्थिति के लिए अर्धसैनिक बलों की 167 कंपनियों की तैनाती की गई है. सभी बड़े अधिकारियों की छुट्टियां रद्द होने का आदेश जारी कर दिया गया है. फ़ैसले के बाद अगर राम रहीम के समर्थक हंगामा करते हैं तो उनको काबू कर चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम में बंद कर दिया जाएगा. स्टेडियम को अस्थाई जेल में बदल दिया गया है. इसके साथ ही ड्रोन और सीसीटीवी कैमरे से लोगों पर नज़र रखी जा रही है. एसएसबी के जवान और पुलिस हर चप्पे-चप्पे की तलाशी कर रहे हैं. वहीं  पंजाब, हरियाणा के अलावा हिमाचल प्रदेश और यूपी की सीमा को भी सील कर दिया गया है. हरियाणा और पंजाब के सभी स्कूल और कॉलेजों को फैसला आने तक बंद कर दिया गया है.  इस बीच खट्टर सरकार ने अपने सभी मंत्रियों और विधायकों को अपने-अपने क्षेत्रों में रहने और डेरा सच्चा सौदा के प्रतिनिधियों से मिलकर शांति व्यवस्था बनाए रखने की कोशिश करने के निर्देश दिए हैं.गुरमीत राम रहीम की कोर्ट मे पेशी को लेकर अब तक चंडीगड़, हरियाणा और पंजाब में पैरामिलिट्री की 167 कंपनिया तैनात की गई हैं. 10 और कंपनियों की मांग की गई है.  एक कंपनी में 100 जवान और अफसर हैं. हर कंपनी मे करीब 35 गन और बाकी नॉन लीथल गन होती हैं. नॉन लीथल गन में डंडा,  टियर गैस , मिट्टी वाला ग्रेनेड,  वाटर कैनन जैसे हथियार आते हैं. हर कंपनी में महिलाएं भी तैनात की गयी हैं.  चंडीगढ़ में 10 कंपनियां तैनात की गई हैं. इनमें 6 कंपनियां रैपिड एक्शन फोर्स की हैं. 40 कंपनियां  रिज़र्व रखी गयी हैं. आपात हालात से निपटने के लिए पंचकुला में यहीं से जवान भेजे गए हैं.  हरियाणा में 35 कंपनियां तैनात हैं. पंजाब में 75 कंपनियां तैनात हैं. वहीं सेना को तैनात करने पर अभी कोई फैसला नहीं किया गया है. प्रशासन सेना के संपर्क में है और हर हालात की जानकारी दी जाएगी.  फिलहाल पंचकुला में दो लाख से ज्यादा डेरा समर्थक आ चुके हैं. पंचकुला के बाहर डेरा में 40 से 50 हज़ार समर्थक जमा हैं. दो से तीन दिन का रेडीमेड खाना लेकर आए हैं. सुरक्षा एजेंसियों से मिली जानकारी के मुताबिक डेरा प्रमुख खुद ही कोर्ट में पेश होंगे. पुलिस को यह जिम्मेदारी नहीं दी गई है. डेरा के नाम पर जो भी लाइसेंसी हथियार हैं उन्हें पुलिस थानों में जमा कराया जा रहा है. सरकार अपनी तरफ से कोई भी जोखिम नहीं उठाना चाह रही है. सूत्र बताते हैं कि अगर जरूरत पड़ी तो कुछ और इलाकों में कर्फ्यू भी लगाया जा सकता है. पंजाब और हरियाणा सरकारों ने पेट्रोल पंपों पर खुले में तेल नहीं बेचने के आदेश जारी किए हैं. एक पेट्रोल पंप के मैनेजर रोहताश ने बताया कि प्रशासन ने सभी पंप मालिकों को बोतल, कैनी में पेट्रोल व डीजल नही देने के आदेश दिए हैं, जिसका वे सख्ती से पालन कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को डीज़ल केवल अस्पताल के लिए ही दे रहे हैं. प्रशासन को आशंका है कि राम रहीम के समर्थक उपद्रव कर सकते हैं. 

तीन तलाक पर बोला जमीयत-उलेमा-ए-हिंद, धार्मिक अधिकारों से समझौता नहीं - राजनीति

नई दिल्ली - मुस्लिम समाज में एक बार में तीन तलाक की प्रथा को उच्चतम न्यायालय द्वारा 'असंवैधानिक ' करार दिए जाने पर प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत-उलेमा-ए-हिंद ने अपनी राय जाहिर की है। बुधवार को जमीयत ने इस फैसले को लेकर कहा कि धार्मिक अधिकार संविधान में दिए मौलिक अधिकारों का हिस्सा हैं और इनको लेकर कोई समझौता नहीं किया जा सकता। जमीयत ने यहां कोर्ट के फैसले को लेकर एक बैठक की।
इस बैठक के बाद एक बयान में जमीयत ने कहा, 'एक साथ तीन तलाक पर फैसले के संबंध में नकारात्मक आशंकाओं के मद्देनजर जमीयत यह स्पष्ट कर देना चाहती है कि भारतीय संविधान में दिए गए धार्मिक अधिकारों, जो हमारे मौलिक अधिकारों का भाग हैं, पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जा सकता। इसके लिए हमारा यह संघर्ष हर स्तर पर जारी रहेगा।' उसने कहा, 'न्यायालय के फैसले में यह भी स्पष्ट किया गया है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ संविधान के अंतर्गत मौलिक अधिकारों में शामिल है और भारतीय संविधान इसकी सुरक्षा की गारंटी देता है।'संगठन ने कहा, 'जमीयत सभी मुसलमानों से अपील करती है कि वे अनिवार्य परिस्थितियों के अलावा तलाक न दें, क्योंकि शरीयत की दृष्टि से तलाक बहुत बुरी चीज है।' उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय की संविधान पीठ ने मंगलवार को बहुमत से मुस्लिम समाज में एक बार में तीन बार तलाक देने की प्रथा को निरस्त करते हुए इसे असंवैधानिक, गैरकानूनी और अमान्य करार दिया था। न्यायालय ने कहा कि तीन तलाक की यह प्रथा कुरान के मूल सिद्धांत के खिलाफ है।

सपने में देखा गड़ा खजाना, सिद्धारमैया सरकार करवाएगी खोज -अंधविश्वास या उम्मीद

बेंगलुरु - पुराने समय में पंचतंत्र की कहानियों में सपने में दिखने वाली चीजों पर यकीन कर लिया जाता था। आज भी लोग ही नहीं सरकारों को भी सपनों पर यकीन है। 29 साल के प्रद्युमन यादव ने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया को पत्र लिखकर अपने सपने के बारे में बताया। यादव ने लिखा कि 2 बंगले के 6 बेडरूम में खजाना गड़ा होने का सपना उन्होंने देखा है। इसके बाद मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव ने भी इस पर नोटिस लिया। सचिव एलके अतीक ने कमिश्नर, पुरातत्व विभाग, म्यूजियम और हैरिटेज विभाग को इस बारे में पत्र लिखा। यहां तक कि सामाजिक कल्याण मंत्री एच अंजन्या ने कन्नड़ और संस्कृति विभाग को इससे संबंधित निर्देश भी जारी कर दिए। मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में समाज कल्याण मंत्री ने लिखा कि यादव खुद को श्री किरिसोमेश्वरा वंश का वंशज बताता है। यादव का दावा है कि उसके पूर्वज गुड्डडा-नेरलाकेरे के शासक थे। चित्तौड़गढ़ जिले के होसदुर्ग ताल्लुक के पास किट्टाडालू और कांचीपुरा के पास यह जगह स्थित है। करीब 700 साल पहले के इतिहास में इसका जिक्र है।सचिव ने लिखा पत्र-यादव का कहना है कि 300 साल पहले जब उनके साम्राज्य पर यदुनंदन चित्राभुपाला ने धावा बोला था तब उन्होंने काफी संपत्ति बंगले के 2 रूम में छुपाकर रख दी थी। यादव का कहना है कि अब वह अपने सपने में वह सारी छुपाई हुई दौलत देख रहा है। यादव का कहना है कि संपत्ति मिलने पर इसका प्रयोग राज्य के विकास के लिए किया जाए। 16 अगस्त को यादव ने इस बारे में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा और 18 अगस्त को ही प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने इससे संबंधित नोटिस जारी कर दिया। यह कोई पहली बार नहीं है जब कांग्रेस सरकार ने इस तरह के सपनों पर यकीन किया हो। इससे पहले यूपीएम 2 के शासनकाल में भी डांडिया खेड़ा गांव में छुपे हुए खजाने के नाम पर खुदाई करवाई गई थी। उस वक्त शोभन सरकार नाम के व्यक्ति ने दावा किया था कि उसने सपने में 1000 टन सोना गड़ा हुआ देखा है। उस वक्त कई दिनों की खुदाई के बाद भी कोई गड़ा हुआ खजाना नहीं मिला था। 

छेड़छाड़ का विरोध करने पर तलवार से हाथ काट डाला - क्राइम

लखीमपुर खीरी - निघासन रोड पर छेड़छाड़ का विरोध करने पर बुधवार को एक बदमाश ने तलवार से युवती का हाथ काटकर अलग कर दिया। गुस्साई भीड़ ने बदमाश की पिटाई करने के बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया है। युवती को जिला अस्पताल से कटे हाथ के साथ केजीएमयू ट्रॅामा सेंटर भेजा गया है। पुलिस ने बताया कि पीड़ित लड़की निघासन रोड पर किसी काम से जा रही थी। इस बीच रोहित चौरसिया ने लड़की से छेड़छाड़ की। उसने जब विरोध किया तो युवक आग बबूला हो गया। उसने लड़की को दौड़ाया और तलवार से उसका हाथ कलाई के पास से काट दिया। इस दौरान वहां मौजूद लोगों ने रोहित को पकड़कर उसकी धुनाई कर दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे अपनी हिरासत में लिया। पुलिस ने लड़की को तुरंत जिला अस्पताल पहुंचाया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे लखनऊ रेफर कर दिया। सीओ सिटी ने बताया कि मामले में केस दर्ज कर आरोपी को अरेस्ट कर लिया गया। ADG लॉ ऐंड ऑर्डर के मुताबिक शुरुआती जांच में पता चला है कि मोबाइल के चार्जर को लेकर पीड़िता का युवक से विवाद हुआ है। अन्य पहलुओं की जांच की जा रही है। हाथ जोड़ने की जुगत में जुटे डॉक्टर - लड़की का एक हाथ कलाई से अलग है। दूसरे हाथ और सिर पर भी गहरी चोटें हैं। केजीएमयू के डॉक्टरों ने रात को ही उसका कटा हाथ जोड़ने के लिए सर्जरी शुरू कर दी। प्लास्टिक सर्जरी विभाग के हेड प्रो. एके.सिंह ने बताया कि लड़की का हाथ जोड़ने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है। न्यूरो विभाग से क्लियरेंस का इंतजार है। 

सरकार ने दिया शिक्षामित्रों के लिए रास्ता निकालने का भरोसा - राजनीति

लखनऊ - दोपहर में राज्यपाल से मिलकर एसपी ने आरोप लगाए, तो शाम होते-होते सरकार ने आरोपों पर सफाई जारी कर दी। सरकार ने कहा कि प्रदेश के चतुर्दिक विकास के लिए लगातार काम हो रहा है। सरकार ने शिक्षामित्रों के लिए भी रास्ता निकालने का भरोसा दिया है। कानून व्यवस्था के मुद्दे पर राज्य सरकार किसी तरह का खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं करेगी। सरकार कानून व्यवस्था के लिए दोषियों को छोड़ेंगे नहीं, निर्दोष को छेड़ेंगे नहीं के सिद्धांत पर काम कर रही है।शिक्षामित्रों पर सरकार ने कहा कि इसमें जो भी कार्रवाई हुई है, वह सर्वोच्च न्यायलय के निर्णय के अनुपालन में हुई। सरकार समाधान के लिए रास्ता निकालने पर काम कर रही है। सरकार ने कई कदम भी उठाए हैं। सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि शासन ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रि के मानदेय देने के लिए 389 करोड़ रुपये और अतिरिक्त मानदेय के लिए 123 करोड़ रुपये जारी किए हैं। बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोगों की मदद के लिए युद्धस्तर पर काम किए जा रहे हैं। 

सुषमा के संसदीय क्षेत्र में 'सांसद गुमशुदा' के लगे पोस्टर - राजनीति

सुषमा गुमशुदा के पोस्टर
विदिशा - विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के लंबे अरसे से अपने संसदीय क्षेत्र विदिशा में न आने से नाराज लोगों ने सांसद के गुमशुदा होने के पोस्टर लगाए हैं। शहर के कई स्थानों पर सुषमा स्वराज की तस्वीर वाले पोस्टर लगे हैं, जिनमें लिखा है, 'गुमशुदा सांसद की तलाश'। इसके साथ ही इस पोस्टर में समस्याओं का जिक्र भी किया गया है।यह पोस्टर सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है। पोस्टर में लिखा है- 'विदिशा का किसान मर रहा है, विदिशा का किसान हैरान-परेशान है, विदिशा का व्यापारी बेहाल है, विदिशा का युवा बेरोजगार है, विदिशा का गरीब-मजदूर रो रहा है, विदिशा की जनता त्रस्त है और सांसद गायब हैं।'यह पोस्टर आनंद प्रताप सिंह नाम के व्यक्ति ने लगवाया है। पोस्टर में आगे लिखा गया है, 'विदिशा की सांसद सुषमा स्वराज अगर आपको कहीं मिलें तो उन्हें बताएं कि विदिशा की जनता आपके इस व्यवहार से अपने को ठगा महसूस कर रही है।' बीजेपी के जिलाध्यक्ष दिनेश सोनी ने बताया, 'पोस्टर लगे होने की मुझे जानकारी नहीं है। अगर ऐसा है, तो यह ओछी मानसिकता का प्रतीक है, क्योंकि सुषमा स्वराज के गुर्दे का प्रत्यारोपण हुआ है और चिकित्सकों ने उन्हें ज्यादा यात्रा की अनुमति नहीं दी है। वह पिछले दिनों भोपाल आईं थीं और वहीं संसदीय क्षेत्र के लोगों से भी मिली थीं।'

मोदी मंत्रिमंडल में जल्द होगा फेरबदल, रेल मंत्रालय में हो सकता है बदलाव - राजनीति

नई दिल्ली - चार दिन के भीतर हुए दो रेल हादसों के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने प्रधानमंत्री से इस्तीफे की पेशकश की लेकिन उन्हें इंतजार करने को कहा गया। माना जा रहा है कि बहुत जल्द कैबिनेट में फेरबदल होने वाला है और इसमें रेल मंत्रालय भी किसी और को सौंपा जा सकता है। कैबिनेट में कुछ नए लोगों को भी शामिल किया जा सकता है जो योजनाओं को जनता तक पहुंचा सकें। हमारे सहयोगी इकनॉमिक टाइम्स के सूत्रों के मुताबिक अर्थव्यवस्था का जानकार कोई सीनियर मंत्री या बीजेपी शासित राज्य का कोई वरिष्ठ नेता रेल मंत्रालय का कार्यभार संभाल सकता है। बता दें कि वित्त मंत्री अरुण जेटली की प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब सुरेश प्रभु के इस्तीफे को लेकर सवाल किया गया था तो उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री इस संबंध में फैसला लेंगे। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सरकार को इस बात का अनुमान नहीं था कि सुरेश प्रभु प्रधानमंत्री से मुलाकात और इस्तीफे के पेशकश के बारे में ट्वीट करेंगे।इसके अलावा कृषि मंत्रालय में भी बदलाव की संभावना है। सरकार का ध्यान अब कौशल विकास और उद्यम को बढ़ावा देने पर होगा। पर्यावरण मंत्रालय अतिरिक्त प्रभार के अंतर्गत चलाया जा रहा है। संभव है कि इस मंत्रालय के लिए भी मंत्री नियुक्त किया जाए। रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी अरुण जेटली के पास है। ऐसे में रक्षा मंत्री की भी नियुक्ति की पूरी संभावना है। कैबिनेट में यह फेरबदल इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि 2019 के आम चुनाव से पहले योजनाओं को जनता तक पहुंचाने का सरकार प्रयास करेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 सितंबर को चीन और म्यांमार के दौरे पर रवाना होने वाले हैं। इससे पहले ही मंत्रिमंडल में फेरबदल संभव है। मंत्रिमंडल में जेडीयू के नेताओं को भी शामिल किया जा सकता है। इसके अलावा बीजेपी शासित उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश से भी मंत्री नियुक्त हो सकते हैं। जेडीयू से एक कैबिनेट मंत्री और एक जूनियर के आने की संभावना है।

टोल प्लाजा पर पुलिस की 'गुंडई' खुलकर की लूट-पाट - क्राइम

सीसीटीवी में कैद! पुलिस की 'गुंडई' 
मथुरा - आगरा-दिल्ली हाइवे पर थाना फरह क्षेत्र स्थित महुअन टोल पर मंगलवार को सीओ की मौजूदगी में पुलिसकर्मियों ने जमकर तांडव मचाया। आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने टोलकर्मियों के साथ मारपीट की। इतना ही नहीं, सीओ के साथ मौजूद एक पुलिसकर्मी टोल बूथ से कैश पर हाथ साफ करता हुआ सीसीटीवी में कैद दिख रहा है। सीसीटीवी कैमरे में पूरी घटना कैद होने के बाद कोई भी अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। बूथ के पैसे पर हाथ साफ - जानकारी के मुताबिक, मंगलवार देर शाम सीओ नितिन सिंह फरह से मथुरा की ओर आ रहे थे। महुअन टोल पर उनकी गाड़ी बूथ संख्या 13 से गुजरी कि इसी दौरान यहां लगा बैरियर उनकी गाड़ी पर गिर गया, जिसके बाद आरोप है कि सीओ का पारा चढ़ गया। गाड़ी से उतरे सीओ और उनके साथ मौजूद पुलिसकर्मियों ने टोलकर्मियों की मजामत शुरू कर दी। आरोप है कि इसी दौरान सीओ के साथ मौजूद एक पुलिसकर्मी टोल बूथ में रखे पैसे पर हाथ साफ करता हुआ सीसीटीवी में कैद हो गया। इस पुलिसकर्मी ने टोल बूथ में घुसकर वहां रखे रुपयों को उठाकर अपनी जेब में भरे और निकल गया। करीब एक घंटे तक चले उत्पाद के बाद भी जब पुलिसकर्मियों का मन नहीं भरा, तो आरोप है कि टोल ऑफिस में पहुंचकर पुलिसकर्मियों ने मारपीट की। अधिकारियों की चुप्पी - इस मामले की सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद पुलिस अधिकारी मामले पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। सीओ रिफइनरी नितिन सिंह ने बताया कि मंगलवार रात जब वह टोल से गुजर रहे थे तो एक कार सवार ने उनसे शिकायत की थी। उन्होंने टोलकर्मियों से पूछताछ की तो वे भड़क गए और पुलिस पर हमला कर दिया। 

वृज मे राधाअष्टमी की तेयारी जोरों पर - मथुरा

अमित शर्मा,(मथुरा) - ब्रज में कृष्ण जन्माष्टमी के बाद राधा अष्टमी की तैयारियां भी जोर शोर से होने लगी है| पुलिस प्रशासन भी व्यवस्थाओं को संभालने के लिए पूरा बंदोबस्त करने में लगा हुआ है| वैसे तो जन्माष्टमी का पर्व पूरे देश में बड़े जोर शोर से मनाया जाता है और इन पर्वों को ब्रज में काफी महत्व दिया जाता है क्योंकि भगवान श्री कृष्ण का जन्म मथुरा जिला कारागार में हुआ था और कृष्ण की पटरानी राधा रानी का जन्म मथुरा से 40 किलोमीटर की दूरी पर सटे गांव बरसाना में हुआ था| वैसे तो राधा रानी भगवान श्री कृष्ण से बड़ी हैं मगर पहले कृष्ण का जन्म दिवस मनाया जाता है और उसके बाद राधा रानी का राधा रानी का जन्म दिवस नजदीक आ गया है और जैसे- जैसे दिन गुजर रहे हैं उतना ही श्रद्धालुओं का जनसैलाब ब्रज में उमड़ने लगा है| ब्रज में चारों तरफ राधारानी के नाम के जयकारे लगने शुरु हो गए हैं| इतने बड़े जन सैलाब को देखते हुए पूरा प्रशासन सतर्क हो गया है और सभी की सुरक्षा का बंदोबस्त करने में लगा हुआ है|  जैसे की ब्रज में आने वाले सभी श्रद्धालुओं को किसी भी मुसीबत का सामना ना करना पड़े| प्रशासन का कहना है कि वह पूरा प्रयास करेंगे कि श्रद्धालुओं को अधिक से अधिक सुविधाएं मुहैया कराई जा सके|
Entertainment

Archive

Translate

Search

Follow by Email

Contact Form

Name

Email *

Message *